Corona_Updates

#GoodNews : ऐंटी-पैरासाइट दवा ने लैब में कोरोना वायरस को 48 घंटे में खत्म किया

Melbourne : दुनिया के अधिकतर देशों में कहर बरपा रहे कोरोना वायरस का के इलाज की दिशा में उम्मीद की किरण जगी है. ऑस्ट्रेलिया के वैज्ञानिक इस वायरस को नष्ट करने के बेहद करीब पहुंच चुके हैं.

शोधकर्ताओं ने पता लगाया है कि दुनिया भर में पहले से उपलब्ध एंटी-पैरासाइट दवाई 48 घंटे के भीतर कोशिकाओं में पैदा किये गये कोरोना वायरस को मार सकती है. इस प्रगति से कोरोना वायरस के लिए नयी नैदानिक ​​चिकित्सा का रास्ता साफ हो सकता है.

इसे भी पढ़ें – #Rims के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कोरोना संदिग्ध की मौत

advt

कोरोना के इलाज में बड़ी कामयाबी

यह कोरोना वायरस के इलाज की दिशा में बड़ी कामयाबी है और इससे अब क्लिनिकल ट्रायल का रास्ता साफ हो सकता है.

यह अध्ययन ‘‘एंटीवायरल रिसर्च’’ नामक पत्रिका में प्रकाशित हुआ है. अध्ययन के अनुसार दवा ‘इवरमेक्टिन’ ने वायरस सार्स-सीओवी -2 को 48 घंटे के भीतर कोशिकाओं में बढ़ने से रोक दिया.

ऑस्ट्रेलिया के मोनाश विश्वविद्यालय से जुड़े काइली वागस्टाफ ने कहा, “हमने पाया कि एक खुराक भी 48 घंटों तक सभी वायरल आरएनए को हटा सकती है और 24 घंटे में भी इसमें काफी कमी आती है.” वह अध्ययन के सह-लेखक भी हैं.

इसे भी पढ़ें – #CoronaUpdates: कुल 2902 केस आये, 30 फीसदी केस तबलीगी जमात से जुड़े – स्वास्थ्य मंत्रालय

adv

कई वायरस के खिलाफ प्रभावी माना गया है

वैज्ञानिकों ने कहा कि ‘इवरमेक्टिन’ एक मान्यता प्राप्त दवा है जिसे एचआइवी, डेंगू, इन्फ्लुएंजा और जीका वायरस सहित विभिन्न वायरसों के खिलाफ प्रभावी माना गया है.

वागस्टाफ ने हालांकि आगाह किया कि अध्ययन में किए गए परीक्षण प्रयोगशाला के हैं और ये परीक्षण लोगों में किये जाने की आवश्यकता है.

वागस्टाफ ने कहा, “आइवरमेक्टिन व्यापक रूप से इस्तेमाल की जाती है और इसे एक सुरक्षित दवा माना जाता है. हमें अब यह पता लगाने की जरूरत है कि मनुष्यों में इस्तेमाल की जाने वाली इसकी मात्रा प्रभावी होगी या नहीं, यह अगला कदम होगा.’’

उन्होंने कहा कि ऐसे समय, जब हम वैश्विक महामारी का सामना कर रहे हैं और इसका कोई मान्यताप्राप्त उपचार नहीं है, ऐसे में हमारे पास पहले से मौजूद यौगिक जल्द ही लोगों की मदद कर सकता है. वैज्ञानिकों ने हालांकि कहा कि इस रोग का मुकाबला करने के लिए ‘इवरमेक्टिन’ का उपयोग भविष्य के नैदानिक ​​परीक्षणों के परिणामों पर निर्भर करेगा.

इसे भी पढ़ें – #Corona_Effect रेल मंत्रालय ने कहा- 15 अप्रैल से नहीं चलेंगी ट्रेनें, अभी और करना होगा इंतेजार

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button