न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

रांची डीसी के आदेश के बाद भी जलापूर्ति का वक्त तय नहीं, कई वार्डों में पानी की है कमी

256
  • गत वर्ष 8 मई को रांची डीसी ने रोस्टर बना कर जलापूर्ति करने का दिया था निर्देश
  • रातू रोड, पहाड़ी मंदिर, हरमू के एक बड़े इलाके में बेवक्त की जाती है जलापूर्ति, लोगों को होती है परेशानी

Ranchi: हर वर्ष की भांति इस गर्मी में भी राजधानी के कई वार्डों में पानी की कमी लगातार जारी है. कई जगहों पर निजी बोरिंग पूरी तरह सूख गयी है. इस स्थिति में कई वार्डों में लोगों को पानी देने का काम निगम के टैंकर और पाइपलाइन के जरिये होता है. पाइपलाइन से पानी देने के लिए रांची डीसी राय महिमापत रे ने गत वर्ष 8 मई को पेयजल एवं स्वच्छता विभाग के अधिकारियों संग एक समीक्षात्मक बैठक की थी. उसमें विभाग को रोस्टर बना कर जलापूर्ति का समय निर्धारित करने और उसी के हिसाब से आपूर्ति करने का निर्देश दिया था. साथ ही इस पर समस्या आने पर 18003456530 फोन नंबर भी जारी हुआ था. लेकिन ऐसी जानकारी है कि वर्तमान में भी कई वार्डों के लोगों को एक निर्धारित वक्त पर जलापूर्ति नहीं की जा रही है. न ही जारी फोन नंबर पर बैठे अधिकारी फोन रिसीव करते हैं.

इसे भी पढ़ें – खुद को नेता और अधिकारियों का करीबी बता तीन युवकों को भिजवाया जेल

रोस्टर बनाने का निर्देश पड़ा है किसी फाइल में

सिर्फ वार्ड 20 स्थित गौशाला, पिंजरा पोल, अपर बाजार, वार्ड 29 स्थित नवा टोली, पहाड़ी मंदिर, हरमू रोड, वार्ड 30 और 31 स्थित रातू रोड, वार्ड 34 स्थित विद्या नगर और हरमू, वार्ड 26 स्थित हरमू हाउसिंग कॉलोनी, वार्ड 49 स्थित मनी टोला, हजरत अली चौक, डोरंडा की बात करें, तो यहां की एक बड़ी जनसंख्या को पानी की आपूर्ति पाइपलाइन से की जाती है. पहले इन इलाकों में पानी आने का कोई वक्त निर्धारित नहीं था. इससे लोगों को काफी परेशान होती थी. वहीं गलत समय पर पानी आने से लोगों द्वारा मोटर से पानी खींचने से कई लोग पानी से वंचित रह जाते थे. इसे ही देख रांची डीसी ने विभागीय अधिकारियों को रोस्टर बनाने का निर्देश दिया था, जो अभी भी किसी फाइल में दबा है.

इसे भी पढ़ें – पारिवारिक कलह बना कालः अलग-अलग घटनाओं में दो महिलाओं ने दी जान, एक बच्चा गंभीर

फोन करने पर नहीं मिलता कोई जवाब

हालांकि रांची डीसी के आदेश के बाद एक असर यह हुआ कि पेयजलापूर्ति के दौरान बिजली काट दी जाती है, लेकिन आज भी पानी आने का कोई वक्त निर्धारित नहीं है. रूक्का डिवीजन, बूटी डिवीजन और हटिया डिवीजन से बेवक्त जलापूर्ति की जाती है. कभी सुबह, तो कभी शाम. कभी तो कभी दोपहर के वक्त भी पानी देने से कई लोग पानी लेने से वंचित रह जाते हैं. वही निगम द्वारा जारी नंबर पर भी फोन करने पर कोई अधिकारी रिसीव नहीं करते हैं. इससे भी लोगों को काफी परेशानी होती है.

Related Posts

आंगनबाड़ी आंदोलन : हेमंत के समर्थन से कांग्रेस के बदले बोल, प्रदेश अध्यक्ष ने कहा “ बड़े भाई की भूमिका में रहेगा JMM”

पूर्वोदय 2019  में  झारखंड कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा “ लोकसभा चुनाव में बना गठबंधन अभी भी जारी“.

इसे भी पढ़ें – अमेरिका और ईरान से तनाव के बीच सऊदी अरब के तेल टैंकरों पर हमला

राजधानी के कई इलाके हैं पानी से वंचित

पानी से जुड़ी उपरोक्त समस्याओं के अलावा कई वार्डों में पाइपलाइन बिछा होने के बावजूद पाइपलाइन से पानी की आपूर्ति नहीं होने की खबर है. इसमें बरियातू का बड़ा इलाका, हरमू और विद्या नगर (वार्ड 34), डोरंडा और मनी टोला (वार्ड 49) शामिल हैं. वार्ड 49 की पार्षद जमीला खातून का कहना है कि उनके वार्ड के कई इलाकों में आज भी पानी की आपूर्ति सही तरीके से नहीं हो पाती है. वहीं पानी आने का कोई समय निर्धारित नहीं है. कभी-कभी तो रात के वक्त ही पानी खुलने से लोगों को काफी परेशानी होती है. वार्ड 34 में रहनेवाले एक शख्स राकेश कुमार का कहना है कि उनके वार्ड के कई घरों में तो अभी तक पाइपलाइन नहीं बिछी है. जहां बिछी है, वहां पानी आने की कोई समय सीमा तय नहीं है. उनके इलाकों के कई बोरिंग सूख गयें हैं. निगम मात्र चार टैंकरों के सहारे ही वार्ड के एक बड़े इलाके में पानी आपूर्ति कर रहा है, जो कि भीषण गर्मी को देखते हुए सही नहीं है.

इसे भी पढ़ें – अटल वेंडर मार्केट : मीडिया में खबर छपने के बाद रुका फर्जीवाड़ा, आरोपी कौन इसकी जांच तक नहीं, अब दुकानें बसाने की तैयारी

डीसी ने कहा, विभाग से संपर्क कर लूंगा पूरी जानकारी

पेयजल विभाग द्वारा पाइपलाइन से सही समय पर जलापूर्ति नहीं करने की जानकारी न्यूज विंग ने रांची डीसी से ली. डीसी ने कहा कि उन्होंने गत वर्ष रोस्टर बना कर पानी देने का निर्देश दिया था. मीडिया में लोगों द्वारा की जा लगातार शिकायत के बाद उऩ्होंने विभाग के अधिकारियों से इस पर पूरी जानकारी लेने की बात कही.

इसे भी पढ़ें – सुप्रीम कोर्ट से रोक हटने के बाद अब राज्य में संभव हो पायेगी सहायक प्रोफेसर पद पर नियुक्ति

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like

you're currently offline

%d bloggers like this: