न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

धनबाद के बाहुबली एलबी सिंह को कोई नहीं देता चुनौती !

जयप्रभा आऊटसोर्सिंग कंपनी का बीसीसीएल में चलता है सिक्का

2,316

Dhanbad :  झरिया और आसपास के इलाके में अपनी दबंगई से पांच-पांच आउटसोर्सिंग पैच चला रही जयप्रभा आऊटसोर्सिंग कंपनी से अपना गलत रिश्ता निभाने में ही भारत कोकिंग कोल लिमिटेड के अध्यक्ष सह प्रबंध निदेशक अजय कुमार सिंह नप गये. भला कौन एलबी सिंह के परिवार की कंपनी से पंगा ले. जिसने मनचाहा सीएमडी बनवाया. तब वे कुस्तौर क्षेत्र में मामूली ठेकेदार थे. उनके बीसीसीएल के डायरेक्टर टेक्निकल डीसी झा, सीएमडी पीएस भट्टाचार्य से गहरे संबंध की चर्चा आम थी. एलबी सिंह को लाखों का फर्जी भुगतान कर देने के आरोप की जांच के लिए सीबीआइ के अधिकारी गये थे, तो उनपर हमला हुआ और उन्हें भागना पड़ा. सीबीआइ इसके बाद भी बीसीसीएल में एलबी सिंह के बढ़ते प्रभाव को रोकने में कामयाब नहीं हो पायी.

इसे भी पढ़ें :एक लड़की के प्‍यार में दो दोस्‍त आपस में भिड़े, एक ने दूसरे पर चला दी गोली

हैदराबाद की कंंपनी के कर्मचारी भी खा चुके हैं मार

अपनी धौंस और बीसीसीएल, कोल इंडिया में प्रभाव के बूते पांच-पांच आउटसोर्सिंग पैच पर कब्जा जमाने में एलबी कामयाब हुए. ऐसी धौंस कि सांसद पशुपतिनाथ सिंह के रिश्तेदार के साथ भी मारपीट कर दी. भाजपा सरकार के रहते एलबी की ठसक कम कर पाने में सांसद सफल नहीं हो पाये. हैदराबाद की एक कंपनी बीसीसीएल का ठेका लेने आयी तो एलबी सिंह के लोगों ने उन्हें पीट कर भगा दिया. बीसीसीएल के कार्यालय का सीसीटीवी कैमरा भी जवाब दे गया. बताया गया कि कैमरा खराब था. बता दें कि एलबी के आऊटसोर्सिंग पैच तक भी कोई नहीं जा सकता. हैदराबाद की कंपनी के दो अधिकारी की पिटाई के बाद एक पत्रकार एलबी के आउटसोर्सिंग पैच की तस्वीर लेने गया था, तो उसका कैमरा कंपनी के मुस्टंडों ने छीन लिया. आखिर, अनुनय विनय के बाद कैमरा वापस दिया, तो फुटेज डिलिट करवा दिया गया.

इसे भी पढ़ें :जिले के 210 गैर मान्यता प्राप्त स्कूलों से सालाना एक करोड़ रुपये की वसूली

क्या एलबी की गतिविधियों की कोयला मंत्री को थी पूरी सूचना

लोदना स्थित एलबी सिंह की जयप्रभा आऊटसोर्सिंग कंपनी का काम देखकर कोयला मंत्री पीयूष गोयल बौखला गये थे. उनके आने से एक दिन पहले कोयला सचिव इंद्रजीत सिंह धनबाद आये थे. सूत्र बताते हैं कि सब कुछ पूर्व निर्धारित था. कोयला मंत्री लोदना में एलबी के आउटसोर्सिंग पैच पर गये तो बीसीसीएल के अधिकारियों और एलबी के लोगों को इसकी भनक नहीं लगी. वहां धनबाद के सांसद पशुपतिनाथ सिंह का जाना भी शायद स्वाभाविक ही लगा हो.

हालांकि, सांसद से लगातार जुबानी लड़ाई लड़ रहे धनबाद के मेयर चंद्रशेखर अग्रवाल भी वहां मौजूद थे. कोयला मंत्री पूर्व निर्धारित कार्यक्रम में नहीं गये. मंच, कुर्सियां खाली रह गयीं और कोयला मंत्री पहुंच गये लोदना में. वहां दहकते अंगारे की ट्रांसपोर्टिंग दिखाकर बीसीसीएल के अधिकारी कोयला मंत्री को दंग कर वाहवाही लूटना चाहते थे. इस अवैग्यानिक खनन पर कोयला मंत्री पीयूष गोयल ने सवाल खड़े किए तो किस के पास कोई तर्क ऐसा नहीं था, जो संतुष्ट कर सके. वहां कोयला मंत्री के कान फूंकने के लिए जिला भाजपाध्यक्ष के साथ एक प्रतिनिधिमंडल मौजूद था. मंत्री से भाजपा के लोगों ने ओवर बर्डेन के पहाड़ को लेकर सवाल किया तो यही सवाल उन्होंने अधिकारियों से कर दिया. कोयला मंत्री ने कहा, पहाड़ समतल कर पार्क बनाये जाएंगे

बीते दिनों लोदना आऊटसोर्सिंग का मुआयना करते हुए ही कोयला और रेल मंत्री पीयूष गोयल ने भाजपा के धनबाद जिलाध्यक्ष चंद्रशेखर सिंह को बताया था कि ओबी को समतल कर पार्क बनाये जाएंगे. जिला भाजपाध्यक्ष ने बताया कि ओबी की समस्या पर कोयला मंत्री से उनकी विस्तृत बातचीत हुई.

इसे भी पढ़ें :25 IAS व 32 IFS राज्य से बाहर, विदेशों की कर रहे सैर, इतनी बड़ी तायदाद में छुट्टी कितनी न्याय संगत

अधिकारियों से कहा, धनबाद आयें और सांसद से मिल कर दौरा करें

स्थानीय लोगों से बातचीत के बाद गोयल ने साथ आये अधिकारियों से कहा कि वे धनबाद आयें और सांसद पीएन सिंह से मिलकर स्थानीय इलाकों का दौरा करें. कोयलांचल के कई इलाकों में खदानों के ओवर बर्डेन की डंपिंग से बने पहाड़ों को समतल करने का निर्देश दिया. यह भी कहा कि ओबी के पहाड़ों को समतल करके पार्क बनाने की योजना पर कार्य क्यों नहीं किया गया. इसकी भी जांच की जाए.

इसे भी पढ़ें :सरकार की कार्यवाही से नाराज हैं विहिप, बजरंग दल के कार्यकर्ता

खदान में भरे पानी की उपयोगिता की हुई चर्चा

भाजपा जिलाध्यक्ष ने पीयूष गोयल के दौरे के दौरान हुई बातचीत का जिक्र कर कहा कि खदानों में भरे पानी के उपयोग की भी बात उठी. जिला भाजपा अध्यक्ष के नेतृत्व में भाजपा के एक प्रतिनिधि मंडल ने कोयलांचल की कई खदानों में भरे पानी को फ़िल्टर करके आम लोगों को उपलब्ध कराने की बात कही. जिससे कोयलांचल में हो रही पेयजल की समस्या से काफी हद तक निजात पायी जी सकेगी. साथ ही खदानों में भरे पानी में भी कमी आएगी.

इसे भी पढ़ें :बोकारो : अपराधी रघु पूर्ति की हत्या उसके ही साथियों ने की, पुलिस को झाड़ियों में मिली लाश

यह नये अध्याय की शुरुआत है

बता दें कि बीसीसीएल के सीएमडी पद से एके सिंह को चलता करने के बाद सीसीएल के सीएमडी गोपाल सिंह को चार्ज दे दिया गया है. मामले में कुछ और अधिकारियों पर कार्रवाई भी होगी. बड़े स्तर पर जांच की तैयारी है. ताप विद्युत केंद्रों को कोयले की शार्ट सप्लाई, ओवर रिपोर्टिंग और आऊटसोर्सिंग पैच से कोयले की बड़े पैमाने पर हो रही चोरी पर जांच केंद्रित होगी.

इसे भी पढ़ें :सिंदूर खेला : मां दुर्गा को दी गई विदाई, अगले बरस फिर से आने का दिया आमंत्रण

नये प्रभारी सीएमडी गोपाल सिंह के समक्ष कई चुनौतियां

बीसीसीएल के नये प्रभारी सीएमडी सीसीएल के सीएमडी गोपाल सिंह बनाए गये हैं. गोपाल सिंह इसके पहले भी बीसीसीएल के सीएमडी रहे हैं. इस कारण वह बीसीसीएल की वास्तविकता से अवगत हैं. वह बदले परिदृश्य में क्या धनबाद के सांसद पशुपतिनाथ सिंह की राजनीति और प्रभाव वृद्धि में सहायक होंगे यह देखना भी दिलचस्प होगा.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.


हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Open

Close
%d bloggers like this: