न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

25 IAS व 32 IFS राज्य से बाहर, विदेशों की कर रहे सैर, इतनी बड़ी तादाद में छुट्टियां कितनी तर्कसंगत

अपर मुख्य सचिव रैंक के सिर्फ एक अफसर ही राजधानी में हैं

7,134

Ranchi : दुर्गा पूजा की लंबी छुट्टी सभी के लिए फायदेमंद साबित हुई. खासकर ब्यूरोक्रेसी और आइएफएस अफसरों के लिए. दुर्गा पूजा की छुट्टी के बाद शनिवार और रविवार भी छुट्टी रहेगी. मुख्यालय में कामकाज सोमवार से ही शुरू होगा. इस छुट्टी का भरपूर लुत्फ ब्यूरोक्रेट्स और आइएफएस अफसर उठा रहे हैं. हालांकि किसी ने एलटीसी लिया है तो किसी ने सरकार से परमिशन लिया है. सभी की छुट्टी मंजूर की गई है. बड़ा सवाल यह उठ रहा है कि इतनी बड़ी तादाद में आइएएस अफसरों को मुख्यालय छोड़ने की अनुमति देना कितना तर्कसंगत है. अपर मुख्य सचिव रैंक के सिर्फ एक अफसर ही राजधानी में हैं.

इसे भी पढ़ें : सरकार की कार्यवाही से नाराज हैं विहिप, बजरंग दल के कार्यकर्ता

जल, जंगल, जमीन ,खान, गृह, कैबिनेट, पेयजल विभाग के अफसर मुख्यालय से बाहर

सबसे दिलचस्प यह है कि क्रीम विभाग के सभी अफसर राज्य से बाहर हैं. हालांकि वे अपने विभागाध्यक्ष से परमिशन लेकर ही गये हैं. कोई नियाग्रा जलप्रपात विहंगम नाजारा देख रहे हैं. तो कई ऑस्ट्रेलिया, तो कोई लंदन व सिंगापुर में परिवार के साथ सैर कर रहे हैं. कार्मिक विभाग के सूत्रों के अनुसार सिर्फ छह अफसरों ने ही छुट्टी ली है, बाकी ने सरकार से परमिशन लिया है. सूत्रों के अनुसार 25 आइएएस और 32 आइएफएस राज्य से बाहर हैं.

इसे भी पढ़ें : पलामू: दुर्गा प्रतिमा विसर्जन के दौरान दो समुदायों में हिंसक झड़प, दस वाहन फूंके गये, एक की मौत

क्या कहता है नियम

ऑल इंडिया सर्विस रूल के मुताबिक मुख्यालय छोड़ने या फॉरेन विजिट या निजी यात्रा पर जाने से पहले सरकार की मंजूरी जरूरी है. निजी यात्रा के परमिशन के लिए राज्य सरकार अधिकृत है. इसके अलावा कई अफसर एलटीसी पर गये हैं और कई जिनका छुट्टी बाकी था, वे सरकार से परमिशन लेकर विदेशों की सैर में हैं. सचिव रैंक के अफसर सीएस से छुट्टी की मंजूरी लेते हैं. बाकी अपने एचओडी से छुट्टी लेते हैं.

इसे भी पढ़ें : लोकसभा की धनबाद सीट पर कौन होगा उम्मीदवार, इस पर सत्ताधारी और विपक्षी दलों में मंथन जारी

क्या कहते हैं कार्मिक सचिव

कार्मिक विभाग के अपर मुख्य सचिव केके खंडेलवाल ने कहा कि सभी अफसर परमिशन लेकर ही छुट्टी में गये हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: