न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सिंदूर खेला : मां दुर्गा को दी गई विदाई, अगले बरस फिर से आने का दिया आमंत्रण

मां को सिंदूर लगाने के बाद महिलाएं एक दूसरे को भी सिंदूर लगाती है. जो सुहाग की लंबी उम्र का प्रतीक होता है. इसके साथ ही बंगाली समाज में दुर्गोत्सव संपन्न हुआ.

119

Ranchi : महानवमी के साथ ही नव दिनों का दुर्गोत्सव संपन्न हुआ. जहां वाराणसी मान्यता से पूजा करने वाले भक्तों द्वारा नवमी के दिन कन्या पूजन किया गया. वहीं बंगाली समाज में नवमी के दिन सिंदूर खेल मां दुर्गा को विदाई दी गयी. इस दिन दुर्गा बाटी, देशप्रिय क्लब आदि जगहों में बंगाली रीति रिवाज से मां दुर्गा को विदाई दी गयी. दुर्गा बाटी में महानवमी की सुबह हवन, आरती आदि किया गया. जिसके बाद महिलाओं ने मां दुर्गा की प्रतिमा में पान पत्ता आदि अर्पित कर भोग लगाया और मां को सिंदूर लगा, लंबी सुहाग की कामना की. दुर्गा बाटी के मुख्य पुजारी शांतनु भट्टाचार्य ने बताया कि बंगाली समाज में मां को सिंदूर लगाने का अपना महत्व है. मां को सिंदूर लगाने के बाद महिलाएं एक दूसरे को भी सिंदूर लगाती है. जो सुहाग की लंबी उम्र का प्रतीक होता है. इसके साथ ही बंगाली समाज में दुर्गोत्सव संपन्न हुआ.

इसे भी पढ़ें : पलामू: दुर्गा प्रतिमा विसर्जन के दौरान दो समुदायों में हिंसक झड़प, दस वाहन फूंके गये, एक की मौत

एक दूसरे पर लगाया गया सिंदूर

पारंपरिक बंगाली कपड़ों में सजी धजी महिलाओं द्वारा मां दुर्गा को सिंदूर लगाने के बाद एक दूसरे को भी सिंदूर लगाया. इस दौरान दुर्गा बाटी मंदिर भी सिंदूर के समान लाल हो गया. भक्तिमय माहौल में महिलाओं ने एक दूसरे को सिंदूर लगाते हुए सदा सुहागन होने की कामना की.

इसे भी पढ़ें : सरकार की कार्यवाही से नाराज हैं विहिप, बजरंग दल के कार्यकर्ता

विजयादशमी को खेला सिंदूर

हिनू स्थित बांग्ला दुर्गा पूजा समीति की ओर से आयोजित पूजा में दशमी के दिन मां को सिंदूर अर्पित कर विदाई दी गयी. विधि विधान से भोग, हवन, आरती कर मां की पूजा विजयादशमी को की गयी. जिसके बाद महिलाओं द्वारा मां दुर्गा को सिंदूर अर्पित किया गया. पंडाल में उपस्थित महिलाओं ने इस दौरान एक दूसरे पर भी सिंदूर लगाया गया.

palamu_12

इसे भी पढ़ें : 25 IAS व 32 IFS राज्य से बाहर, विदेशों की कर रहे सैर, इतनी बड़ी तायदाद में छुट्टी कितनी न्याय संगत

201 कन्याओं का किया गया पूजन

सेवा भारती संस्थान की ओर से बिरसा चैक स्थित सेवा निकेतन में 201 कन्याओं का पूजन महानवमी को किया गया. सेवा भारती से जुड़ी महिलाओं द्वारा बस्तियों की 201 कन्या को नियमपूर्वक पैर धो, आरती कर साज सज्जा किया गया. जिसके बाद कन्याओं को भोजन भी कराया गया.

इसे भी पढ़ें : रांची : ठाकुरगांव के यूको बैंक में चोरी का प्रयास

बबिता शर्मा ने पूजा की जानकारी देते हुए कहा कि सेवा भारती की ओर से प्रत्येक वर्ष कन्याओं की पूजा की जाती है. जिसमें अधिक से अधिक कार्यकर्ता बढ़ चढ़ कर शामिल होते है

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: