BokaroJharkhandlok sabha election 2019

पूरी तरह से फेल रही है केंद्र की मोदी सरकार : कीर्ति आजाद

विज्ञापन

Bokaro : धनबाद लोकसभा क्षेत्र से महागठबंधन के कांग्रेस प्रत्याशी कीर्ति झा आजाद ने बोकारो में कहा कि केंद्र की मोदी सरकार पूरी तरह से फेल रही है. महंगाई कम करने और अच्छे दिन का सपना दिखाकर लोगों से वोट लेने वाली मोदी सरकार सबसे भ्रष्ट सरकार साबित हुई है. एक ओर से कच्चे पेट्रोलियम पदार्थो का दाम कम है, लेकिन देश में पेट्रोल के दाम कम नहीं हुए हैं. सरकार इस पर जीएसटी नहीं लगा रही है, क्योंकि इसके धंधे में सबसे अधिक घोटाला होता है.

इसे भी पढ़ें :बेटिकट हुए हेवीवेट उम्मीदवार थर्ड फ्रंट बनाने में जुटे, विधानसभा चुनाव में सबक सिखाने की तैयारी!

advt

मोदी सरकार से कोई उम्‍मीद नहीं

सरकार हर वर्ष दो करोड़ युवाओं को नौकरी देने की बात कही थी, लेकिन किसी को भी नौकरी नहीं मिला. काला धन वापस लाने की बात भी हुई थी, लेकिन इस दिशा में सरकार कोई काम नहीं कर सकी. उन्होंने जब पार्टी के सामने दिल्ली क्रिकेट बोर्ड के चार सौ करोड़ के घोटाले का उजागर किया, तो पहले उन्हें पार्टी से बाहर का रास्ता दिखाया गया. इसलिए इस सरकार से किसी भी प्रकार की उम्मीद नहीं की जा सकती है.

इसे भी पढ़ें पलामू : 70 साल में एक बांध का भी नहीं हुआ निर्माण, ग्रामीण करेंगे वोट…

गृह प्रदेश में आकर काफी अच्छा लगा

आजाद ने कहा कि अब वे अपने गृह प्रदेश में काफी दिनों के बाद वापस लौटे है. पार्टी की ओर से उन्हें धनबाद से चुनाव लड़ने की जिम्मेवारी दी गयी है. यहां के कार्यकर्ताओं के बदौलत इस बार धनबाद से कांग्रेस की जीत होगी. लगातार दस वर्षों तक यहां से प्रतिनिधित्व करने वाले सांसद को अब रिटायर हो जाना था, वे किसी भी काम के सांसद नहीं रहें है. जो भी काम धनबाद संसदीय क्षेत्र के लिए होना था, वह दस सालों में कहीं पर नजर नहीं आ रहा है. उन्होंने सांसद पीएन सिंह पर चुटकी लेते हुए कहा कि वे सिर्फ पान चबाने वाले सांसद रहे हैं. उनसे किसी भी प्रकार का कोई काम की उम्मीद नहीं रखना चाहिए. धनबाद की समस्यां आज भी वहीं खड़ी है.

adv

इसे भी पढ़ें :लोकसभा चुनावः हिंसा, EVM में गड़बड़ी और मतदाता सूची से नाम गायब होने…

मेरे पिता पर लगने वाले आरोप निराधार

आजाद ने कहा कि उनके पिता पर जिस भागलपुर दंगे के आरोप लगाये जाते  रहे हैं, वह पूरी तरह से निराधार है. घटना जिस वक्त हुई, उन दिनों श्रद्धानंद सिन्हा बिहार के सीएम के थे, जबकि उनके पिता की तबियत काफी खराब थी और उनका इलाज दिल्ली में चल रहा था. घटना के बाद वे दिल्ली से आकर मामले को शांत करने का काम किया था.

उन्होंने कहा कि वे जिस दरभंगा से लगातार बीस वर्षों से सांसद रहे हैं,  वहां पर इन वर्षों में किसी भी प्रकार के कोई दंगा और हिंसा नहीं हुआ. जबकि भाजपा के लोग हर वक्त इन कामों को करने में लगे हुए थे. मौके पर कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता राजेश ठाकुर, जिलाध्यक्ष मंजूर अंसारी के अलावे काफी कांग्रेस कार्यकर्ता मौजूद थे.

इसे भी पढ़ें :पलामू : चतरा सीट को लेकर महागठबंधन में हालात ठीक नहीं, राजद ने कांग्रेसियों का किया विरोध, धीरज साहू…

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button
Close