JharkhandRanchi

वामपंथियों को शामिल नहीं किया गया, महागठबंधन ‘महा’ नहीं बन सका : दीपंकर

  • पाकिस्तान चाहता है मोदी बनें पीएम, ताकि बना रहे भारत-पाक के बीच तनाव का महौल
  • झारखंड में कोडरमा और पलामू से उम्मीदवार देगी पार्टी
  • बाबूलाल मरांडी से माले को फर्क नहीं पड़ता, वे नन परफॉर्मर हैं

Ranchi: राज्य में हुए विभिन्न सर्वेक्षण बताते हैं कि यहां अब बीजेपी की सरकार नहीं बनेगी. सरकार भी जानती है कि भाजपा का राज्य में सफाया होनेवाला है. उक्त बातें भाकपा माले के राष्ट्रीय सचिव दीपंकर भट्टाचार्य ने कहीं. वे सोमवार को प्रेस वार्ता को संबोधित कर रहे थे. उन्होंने कहा कि इस चुनाव से भाजपा सरकार को भय है. तभी तो खबरें आ रही हैं कि कहीं राजद से तो झामुमो से कार्यकर्ताओं को पार्टी में शामिल किए जाने की कोशिश की जा रही है. हार के डर से भाजपा दूसरी पार्टी के मजबूत उम्मीदवारों को पार्टी में बुला रही है. खुद को डबल इंजन की कहनेवाली सरकार डबल बुल्डोजर है. मोदी सरकार को तबाही और बर्बादी मिलेगी. उन्होंने कहा कि यह चुनाव संविधान को बचाने के लिए होगा.

देखें वीडियो-

Catalyst IAS
ram janam hospital

The Royal’s
Sanjeevani
Pitambara
Pushpanjali

इसे भी पढ़ें- कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का गरीबी पर फाइनल वार कहा- गरीबों को देंगे 72 हजार रुपया सालाना

महागठबंधन नहीं है महा

उन्होंने कहा कि महागठबंधन किसी भी मायने में महा नहीं है. अगर वामपंथियों को इसमें शामिल किया जाता तो ये महा हो सकता था. लेकिन अब ये सिर्फ गठबंधन है. उन्होंने कहा कि महागठबंधन में वामपंथियों के शामिल नहीं होने से कहीं भी चुनाव परिणाम में असर नहीं पड़ेगा. क्योंकि जनता का रुख स्पष्ट है कि अब राज्य में बीजेपी नहीं आने वाली. गठबंधन में वामपंथियों को शामिल नहीं करना कहीं से उचित नहीं है. कोडरमा सीट छोड़ने की बात की जा रही थी. लेकिन माले ही ऐसी पार्टी है जो कोडरमा में मोदी लहर रहते हुए भी दूसरे नंबर पर दो लाख 60 हजार के करीब वोट लायी थी. ऐसे में कहीं से वामपंथी राज्य में कमजोर नहीं हैं.

इसे भी पढ़ें – राशिद अल्वी के चुनाव लड़ने से इनकार के बाद कांग्रेस ने सचिन चौधरी को दिया अमरोहा से टिकट

कोडरमा और पलामू में दे रहे उम्मीदवार

दीपंकर ने कहा कि माले की ओर से कोडरमा और पलामू में उम्मीदवार दिया जा रहा है. जिसमें कोडरमा में राजकुमार यादव और पलामू में सुषमा मेहता को पार्टी टिकट दे रही है. उन्होंने कहा कि वामपंथी एकता के कारण एक दूसरे के खिलाफ उम्मीदवार नहीं दे रहे हैं. लेकिन जहां भी गठबंधन के उम्मीदवार हैं वहां भाकपा अपना समर्थन देगी. क्योंकि वामपंथियों का एजेंडा है कि बीजेपी के खिलाफ खड़ी पार्टियों को समर्थन दिया जाएगा.

इसे भी पढ़ें – आप से गठबंधन पर दिल्ली कांग्रेस में दो फाड़, राहुल गांधी पर छोड़ा अंतिम फैसला

चुनाव में बाबूलाल मरांडी को फैक्टर नहीं मानते

उन्होंने कहा कि बाबूलाल मरांडी के गठबंधन में रहने से अधिक फर्क नहीं पड़नेवाला. न ही वामपंथियों पर इसका असर होगा. क्योंकि पिछले चुनाव में वे लोकसभा और विधानसभा की दो सीटों से चुनाव लड़ चुके हैं. लेकिन कहीं भी उनकी जीत नहीं हुई. ऐसे में राज्य में उनकी स्थिति का पता लगाया जा सकता है. माले के राजकुमार यादव ही विधानसभा की एक सीट पर उनकी हार का कारण भी बने. ऐसे में वे नन परफॉर्मर हैं.

इसे भी पढ़ें – निर्वाचन आयोग के निर्देशों का राज्य सरकार पर असर नहीं, अब चल रहा आयोग का डंडा

भारत-पाक के बीच बीजेपी के रहते तनाव बना रहेगा

भारत पाक संबध का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि पाकिस्तानी मीडिया ये चाहती है की मोदी सरकार वापस सत्ता में आये. क्योंकि मोदी के रहते भारत-पाक के बीच तनाव कभी कम नहीं होगा. उन्होंने कहा कि खुद को चौकीदार कहते हैं तो पुलवामा और बालाकोट जैसी घटनाएं क्यों होती हैं. जब सीआरपीएफ के जवानों ने हवाई जहाज की मांग थी, तब मोदी सरकार ने जवानों को हवाई जहाज क्यों नहीं दिया. अगर उस वक्त अगर सरकार हवाई जहाज जवानों को दे देती तो इतनी बड़ी घटना होती ही नहीं. और अगर सरकार इतनी बड़ी चौकीदार है तो पहले नीरव मोदी, विजय माल्या जैसों को पकड़ के लाये.

इसे भी पढ़ें – चुनावी तापमान के साथ बदलेगा मौसम का मिजाज, आज और कल बारिश के आसार

भगत सिंह और आंबेडकर के विचारों का प्रसार किया जाएगा

इस दौरान माले के आगामी कार्यक्रमों की जानकारी देते हुए राज्य सचिव जर्नादन प्रसाद ने कहा कि 23 मार्च से ही विभिन्न जिलों में भगत सिंह और बाबा साहेब आंबेडकर के विचारों के प्रसार के लिए कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं. जो 14 अप्रैल तक जारी रहेंगे. वहीं 13 अप्रैल को जालियांवाला बाग हत्याकांड के सौ साल पूरे हो जाने पर 12 और 13 अप्रैल को कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा. जिसमें लोगों को जागरूक किया जाएगा कि जैसे सौ साल पहले जालियांवाला बाग कांड हुआ था. उसी तरह पिछले पांच सालों में बीजेपी सरकार ने तरह तरह से लोगों का शोषण किया है.

इसे भी पढ़ें – राजधानी में मोआवोदियों की पोस्टरबाजी, बरियातू थाना क्षेत्र में कई जगहों पर लगाये पोस्टर

Related Articles

Back to top button