NEWS

#Corona : जामताड़ा में एक और कोरोना पॉजिटिव, राज्य में संक्रमितों की संख्या 106 हुई

Ranchi: राज्य में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या 106 हो गयी है. जामताड़ा के नाला से बुधवार को एक और पॉजिटिव केस का पता चला है, जामताड़ा जिला प्रशासन ने इस बात पुष्टि की है.

इसके साथ ही जामताड़ा में कोरोना वाय़रस से संक्रमित होनेवालों की संख्या दो हो गयी है. मंगलवार को हिंदपीढ़ी से दो कोरोना पॉजिटिव केस सामने आने के साथ ही राज्य में कुल मरीजों की संख्या 105 हो गयी थी.

प. बंगाल से लौटा था युवक

जामताड़ा में जिस व्यक्ति को कोरोना पॉजिटिव पाया गया है उसकी उम्र 32 वर्ष है. वह कुछ दिनों पहले प. बंगाल से आया था. मूल रूप से वह बिहार के बांका जिले का रहनेवाला है. उसे प्रशासन ने क्वारंटाइन कर रखा था. वहीं से उसका सैंपल जांच के लिए भेजा गया था. बताया जा रहा है कि पहले से कोरोना पॉजिटिव पाये गये व्यक्ति के साथ ही यह आया था.

advt

इसे भी पढ़ें – क्या वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण और अनुराग ठाकुर ने संसद में झूठ बोला, देश से जानकारी छुपायी!

झारखंड में ऐसे बढ़े मामले

31 मार्चः राज्य में पहला केस राजधानी के हिंदपीढ़ी में मिला था. यह 22 साल की मलेशियाई महिला थी. यह तबलीगी जमात में शामिल होकर हिंदपीढ़ी में रह रही थी. पुलिस को मिली सूचना के बाद उसे क्वारंटाइन में भेज कर जांच करायी गयी थी, जिसमें उसके पॉजिटिव होने की बात सामने आयी.
2 अप्रैलः हजारीबाग के विष्णुगढ़ में एक शख्स में संक्रमण की पुष्टि हुई थी. वो कुछ दिनों पहले कोलकाता से लौटा था.
5 अप्रैलः बोकारो से तीसरा केस सामने आया, जहां बांग्लादेश से लौटी एक महिला कोरोना संक्रमित पायी गयी. वो तबलीगी जमात में शामिल हुई थी.
6 अप्रैलः राजधानी रांची के हिंदपीढ़ी से एक और महिला में इस संक्रमण की पुष्टि हुई है. पीड़ित महिला की उम्र 54 साल है. उनकी कोई ट्रैवेल हिस्ट्री नहीं है. खबर है कि पीड़ित महिला राज्य की पहली संक्रमित मलेशियाई महिला के सीधे संपर्क में आयी थी.
9 अप्रैलः झारखंड में एक साथ 9 पॉजिटिव केस आने के बाद झारखंड में कुल मरीजों की संख्या 13 हो गयी. नये मरीजों में 4 बोकारो जिले के चंद्रपुरा इलाके के थे. 5 रांची के हिन्दपीढ़ी के रहनेवाले थे. बाकारो के जिन व्यक्तियों में कोरोना का संक्रमण पाया गया है, वह वहां पहले से संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आये थे. रांची के हिन्दपीढ़ी मुहल्ले से जो नये मामले सामने आये हैं, वे सभी पहले से पीड़ित परिवार के सदस्य हैं. एक मामला हजारीबाग के विष्णुगढ़ से सामने आये थे.
11 अप्रैलः झारखंड एक साथ तीन और कोरोना पॉजिटिव मरीजों की पुष्टि हुई. इसके साथ ही झारखंड में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ कर 17 हो गयी. नये कोरोना संक्रमित मरीजों में रांची, हजारीबाग व कोडरमा जिला के एक-एक मरीज शामिल थे. मामले को लेकर कोडरमा डीसी रमेश घोलप का कहना था कि जिस मरीज को कोडरमा का बताया जा रहा है वह कोडरमा का नहीं बल्कि गिरिडीह के धनवार थाना क्षेत्र का है.
12 अप्रैलः झारखंड में कोरोना के दो और मरीजों की पुष्टि हुई. दोनों मरीज बोकारो के गोमिया प्रखंड के साड़म गांव के दलाल टोला के रहने वाले थे. ये आपस में पिता-पुत्र थे. इन्हीं के परिवार के एक सदस्य की कोरोना से मौत हुई थी. नये मरीज मृतक के भाई और भतीजे हैं. इन दो नये मरीजों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि के साथ ही राज्य में कोरोना मरीजों की संख्या 19 हो गयी, जिनमें से दो की मौत हो गयी.
13 अप्रैलः झारखंड में 13 अप्रैल को पांच और कोरोना संक्रमित मरीज मिले. इन नये मरीजों में तीन रांची के हैं, जबकि एक बोकारो व एक गिरिडीह जिले का है. रांची के तीनों नये मरीज हिन्दपीढ़ी के रहनेवाले हैं. तीनों मरीज हिन्दपीढ़ी के कोरोना संक्रमित मरीजों के संपर्क में थे. इनकी उम्र 35, 40 और 45 साल है. बोकारो जिले का जो मरीज कोरोना संक्रमित पाया गया है वह गोमिया प्रखंड के साड़म गांव का रहनेवाला है. उसकी उम्र 24 साल है. वहीं, गिरिडीह जिले में पायी गयी मरीज (60) उस मरीज की मां है जो कोडरमा में इलाज के दौरान जांच में कोरोना पॉजिटिव पाया गया था.
14 अप्रैलः झारखंड में 14 अप्रैल को तीन नये कोरोना पॉजिटिव मरीजों की पुष्टि हुई. इनमें दो मरीज रांची के हिन्दपीढ़ी के थे. जबकि एक मरीज सिमडेगा जिले का था. तीनों नये मरीजों का तबलीगी कनेक्शन रहा है.
15 अप्रैलः धनबाद के एक मरीज में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई. राज्य में कुल मामले 29 हो गये.
17 अप्रैलः रांची के हिंदपीढ़ी से तीन और कोरोना पॉजिटिव पाये गये. इनमें एक पति-पत्नी भी शामित थे. कुल मरीजों की संख्या बढ़ कर 32 हो गयी.
18 अप्रैलः धनबाद के एक रेल कर्मी को कोरोना पॉजिटिव पाया गया. इसके अलावा हिंदपीढ़ी से पकड़े गये तबलीगी जमात से जुड़े एक और विदेशी को कोरोना पॉजिटिव पाया गया. यह त्रिनिदाद एंड टोबैगो का रहनेवाला है. राज्य में कोरोना पॉजिटिव की संख्या बढ़ कर 34 हो गयी.
19 अप्रैलः झारखंड में सात लोगों में कोरोना पॉजिटिव होने की पुष्टि हुई. इनमें से छह रांची और एक सिमडेगा का है. रांची के छह मरीजों में एक बेड़ो और पांच हिंदपीढ़ी के हैं. राज्य में मरीजों की संख्या 41 हो गयी.

20 अप्रैल : बोकारो के साड़म में एक बुजुर्ग को कोरोना पॉजिटिव होने की पुष्टि हुई जो कोरोना से ही जान गवां चुके व्यक्ति का भाई है. इसी दिन देर शाम दो मरीजों के कोरोना पॉजिटिव होने की पुष्टि हुई. इसमें एक रांची, एक देवघर और एक हजारीबाग का है.

22 अप्रैल : 4 और मरीजों के कोरोना पॉजिटिव होने की पुष्टि हुई. इनमें तीन रांची के व एक गढ़वा का है. रांची के मरीजों में हिन्दपीढ़ी निवासी 28 साल का युवक भी शामिल है जिसका भाई 16 अप्रैल को कोरोना पॉजिटिव पाया गया था.

adv

23 अप्रैल : रांची में 7 और कोरोना पॉजिटिव पाये गये. इनमें से 6 हिंदपीढ़ी का और एक बेड़ो का मामला है.

24 अप्रैल : देवघर के एक मरीज के कोरोना पॉजिटिव होने की पुष्टि हुई. उसके कुछ घंटे बाद रांची के हिन्दपीढ़ी से दो और मरीजों के कोरोना संक्रमित होने की पुष्टि हुई.

25 अप्रैल : रांची में चार मरीज और पलामू में 3 मरीज मिले. रांची के मरीजों में 4 हिन्दपीढ़ी के व 1 कांटाटोली का. पलामू के तीनों मरीज लेस्लीगंज के.

26 अप्रैल : कुल 16  कोरोना पॉजिटिव मरीजों की पुष्टि. इनमें पांच नर्सें भी शामिल. गढ़वा के दो बच्चे पॉजिटिव मिले जो पूर्व में मिले मरीज के बेटे हैं. एक मामला जामताड़ा से भी सामने आया.

27 अप्रैल : कुल 20 मामले सामने आये. यह एक दिन में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की सर्वाधिक संख्या रही. कुल संख्या 103 हो गयी.

28 अप्रैलः राजधानी रांची के हिंदपीढ़ी से दो कोरोना पॉजिटिव मरीजों का पता चला. कुल संख्या 105 हो गयी.

इसे भी पढ़ें – #RIMS निदेशक ने कहा था- पद छोड़ने के लिए अभी स्थिति अनुकूल नहीं; फिर भी स्वास्थ्य मंत्री ने कर दी अनुशंसा

दो मरीजों की हो चुकी है मौत

झारखंड में कोरोना संक्रमण के दो मरीजों की मौत हो चुकी है. इनमें एक बोकारो का था जबकि दूसरा रांची का. रांची के हिन्दपीढ़ी निवासी मृतक की पत्नी को भी कोरोना हुआ था. बाद में उसकी भी मौत हो गयी लेकिन उससे पहले उसकी रिपोर्ट निगेटिव हो चुकी थी.

बोकारो के जिले के जिस 75 वर्षीय शख्स की मौत हुई थी वह गोमिया प्रखंड के साड़म के दलाल टोला का रहने वाला था.

रिटायर्ड अफसर की हो चुकी है मौत

रांची के बरियातू में रहनेवाले रिटायर्ड प्रशासनिक अफसर (डीडीसी) की भी मौत कोरोना की वजह से हो चुकी है. इलाज के दौरान दिल्ली में उनकी मौत हुई इस कारण यह आंकड़ा झारखंड में नहीं जुड़ा.

इसे भी पढ़ें – मांग में कमी के बावजूद घंटों कट रही बिजली, 23 अप्रैल से टीटीपीएस यूनिट टू है बंद

 

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button