न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

डॉ अजय और नक्सली की तथाकथित बातचीत की सीडी मामले में सरयू राय और दिनेशानंद गोस्वामी कोर्ट से बरी

440

Jamshedpur: झारखंड सरकार के मंत्री सरयू राय और भाजपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष डॉ दिनेशानंद गोस्वामी को कोर्ट ने कांग्रेस नेता डॉक्टर अजय कुमार और नक्सली समर की तथाकथित बातचीत की सीडी जारी करने के मामले में बरी कर दिया है. जमशेदपुर जिला सिविल कोर्ट के सीजेएम ओंकार नाथ चौधरी ने दोनों को साक्ष्य के अभाव में बरी करने का फैसला सुनाया.

इसे भी पढ़ें – शर्मनाक: झारखंड के 2149550 लोगों के पास इनकम का कोई साधन नहीं, 61750 लोग मांगते हैं भीख

क्या है मामला

वर्ष 2011 में हुए जमशेदपुर में लोकसभा के उपचुनाव में सरयू राय और डॉ दिनेशानंद गोस्वामी ने उस समय झारखंड विकास मोर्चा के प्रत्याशी डॉ. अजय कुमार की नक्सली समर से तथाकथित बातचीत की सीडी जारी की थी. वर्ष 2011 के लोकसभा उपचुनाव में जमशेदपुर से डॉ अजय कुमार झारखंड विकास मोर्चा और भारतीय जनता पार्टी से डॉ दिनेशानंद गोस्वामी उम्मीदवार थे. मतदान के दिन सरयू राय और डॉ दिनेशानंद गोस्वामी ने प्रेस कांफ्रेंस बुला कर सीडी जारी की थी. दोनों नेताओं की ओर से यह बताया गया था कि डॉ अजय कुमार ने चुनाव जीतने के लिए नक्सली समर से बात की थी.

इसे भी पढ़ें – झारखंड में शिक्षा का हाल : 58.7% युवा आबादी को नहीं आता है पढ़ना-लिखना

डॉ अजय ने किया था षडयंत्र रचने का केस

डॉ अजय कुमार ने सरयू राय और दिनेशानंद गोस्वामी के द्वारा जारी की गयी सीडी को फर्जी बताते हुए साकची थाना में उन दोनों के खिलाफ मामला दर्ज कराया था. उनका कहना था कि षडयंत्र के तहत चुनाव को प्रभावित करने के लिए सीडी तैयार की गयी है. उन्होंने कहा था कि यह सीडी फर्जी है और चुनाव प्रभावित करने की कोशिश है. उनकी किसी नक्सली की बातचीत नहीं हुई है.

इसे भी पढ़ें – विदेश मंत्री जयशंकर ने कहा,  दुनिया में बढ़ रहा राष्ट्रवाद, देश में कामकाज का तरीका बदलने की जरूरत

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्लर्क नियुक्ति के लिए फॉर्म की फीस 1000 रुपये, कितना जायज ? हमें लिखें..
झारखंड में नौकरी देने वाली हर प्रतियोगिता परीक्षा विवादों में घिरी होती है.
अब JSSC की ओर से क्लर्क की नियुक्ति के लिये विज्ञापन निकाला है.
जिसके फॉर्म की फीस 1000 रुपये है. यह फीस UPSC के जरिये IAS बनने वाली परीक्षा से
10 गुणा ज्यादा है. झारखंड में साहेब बनानेवाली JPSC  परीक्षा की फीस से 400 रुपये अधिक. 
क्या आपको लगता है कि JSSC  द्वारा तय फीस की रकम जायज है.
इस बारे में आप क्या सोंचते हैं. हमें लिखें या वीडियो मैसेज वाट्सएप करें.
हम उसे newswing.com पर  प्रकाशित करेंगे. ताकि आपकी बात सरकार तक पहुंचे. 
अपने विचार लिखने व वीडियो भेजने के लिये यहां क्लिक करें.

you're currently offline

%d bloggers like this: