न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

विदेश मंत्री जयशंकर ने कहा,  दुनिया में बढ़ रहा राष्ट्रवाद, देश में कामकाज का तरीका बदलने की जरूरत

भारत जिस तरह आगे बढ़ रहा है, वह दुनिया की इकॉनमी को बदलने वाला है.

53

NewDelhi  विदेश सचिव से विदेश मंत्री बने एस जयशंकर ने गुरुवार को राजधानी दिल्ली में एक समारोह  में कहा कि पिछले पांच साल में सरकार ने अपने कामकाज की गति को बढ़ाया है, इससे ना सिर्फ लोगों का विश्वास बढ़ा है बल्कि देश में माहौल भी बदला है. इस कार्यक्रम में उन्होंने राष्ट्रवाद के मुद्दे पर भी खुलकर बात की.

विदेश मंत्री के अनुसार भारत को अब ग्लोबल पार्टनरशिप पर ध्यान देना होगा, इससे भारतीय उद्योग को विदेश में प्रसार का मौका मिलेगा. उन्होंने कहा कि आज दुनिया भर में राष्ट्रवाद आगे बढ़ रहा है, लेकिन हर जगह इसके कई मायने हैं. राष्ट्रवाद को आज लोग चुन रहे हैं, लेकिन कुछ जगह इसकी अलग उम्मीदें हैं तो कहीं पर लोग अलग अपेक्षा लगाये हुए हैं.

इसे भी पढ़ेंःमोदी सरकार ने किया मंत्रिमंडल की विभिन्न समितियों का गठन, रोजगार के सृजन पर विशेष ध्यान

भारत दुनिया की इकॉनमी को बदलने वाला है

एस जयशंकर  ने वैश्विक मुद्दों पर  कहा कि ग्लोबल सप्लाई चेन, बाजार, प्रतिभाओं से इतर हम एक विश्वास पैदा करने की ओर कदम बढ़ा सकते हैं. अगर आज दुनिया में एक आर्थिक सुधार की जरूरत है, तो उसमें भारतीय विदेश नीति अहम भूमिका निभा सकती है. कहा कि  पिछले कुछ दशकों में जिस तरह चीन आगे बढ़ा है और फिर अब उसके बाद अब भारत जिस तरह आगे बढ़ रहा है, वह दुनिया की इकॉनमी को बदलने वाला है.

एस जयशंकर ने बताया कि देश में भी अब कामकाज के तरीके को बदलने की जरूरत है. मुझे मंत्रालय संभाले हुए एक हफ्ता ही हुआ है, लेकिन मैंने विदेश से ज्यादा वित्त और कॉमर्स मंत्रालय में वक्त बिताया है अब हर किसी को एक साथ आगे बढ़ना होगा.  बता दें कि जब मोदी सरकार का शपथ ग्रहण हुआ तो एस जयशंकर को देख हर कोई हैरान था. एस जयशंकर इससे पहले विदेश मंत्रालय में बतौर सचिव काम कर चुके हैं.

इसे भी पढ़ेंःगिरिराज सिंह को नीतीश का जवाब- ‘दूसरों के धर्म का सम्मान नहीं करने वाले अधार्मिक’

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्लर्क नियुक्ति के लिए फॉर्म की फीस 1000 रुपये, कितना जायज ? हमें लिखें..
झारखंड में नौकरी देने वाली हर प्रतियोगिता परीक्षा विवादों में घिरी होती है.
अब JSSC की ओर से क्लर्क की नियुक्ति के लिये विज्ञापन निकाला है.
जिसके फॉर्म की फीस 1000 रुपये है. यह फीस UPSC के जरिये IAS बनने वाली परीक्षा से
10 गुणा ज्यादा है. झारखंड में साहेब बनानेवाली JPSC  परीक्षा की फीस से 400 रुपये अधिक. 
क्या आपको लगता है कि JSSC  द्वारा तय फीस की रकम जायज है.
इस बारे में आप क्या सोंचते हैं. हमें लिखें या वीडियो मैसेज वाट्सएप करें.
हम उसे newswing.com पर  प्रकाशित करेंगे. ताकि आपकी बात सरकार तक पहुंचे. 
अपने विचार लिखने व वीडियो भेजने के लिये यहां क्लिक करें.

you're currently offline

%d bloggers like this: