Corona_UpdatesHEALTHJharkhandLead NewsRanchi

आधार कार्ड जरूर बनावा लें, कोरोना वैक्सीन लगाने में आयेगा काम

अगले साल फरवरी तक आ सकती भारत बायोटेक की कोवैक्सीन'

Ranchi: अगर आप चाहते हैं कि जब कोरोना वैक्सीन लगाने की प्रक्रिया जब शुरू हो तो आपको किसी तरह की परेशानी ना हो तो इसके लिए आपके पास आधार कार्ड होना चाहिए. ताजा जानकारी है उसके अनुसार भारत बायोटेक की कोवैक्सीन’ को अगले साल फरवरी तक आ सकती है.

Advt

से भी पढ़ें:आरयू एफिलिएटेड कॉलेजों में यूजी एडमिशन के लिये अब 15 नवंबर तक कर सकते है आवेदन

आधार कार्ड की होगी महत्वपूर्ण भूमिका

वैक्सीन लेने के लिए आधार कार्ड आपकी पहचान के रूप में लिया जायेगा जो अनिवार्य होगा. आधार कार्ड से ही आपकी पहचान होगी, अगर आप इन स्पेशल कैटिगिरी में आते हैं तो आपको टीका दिया जायेगा. अगर आपके पास आधार कार्ड नहीं है तो कोई भी सरकारी पहचान पत्र जिसमें आपकी तस्वीर होनी चाहिए वह भी मान्य होगा.

इसे भी पढ़ें:झारखंड में प्याज के स्टॉक पर पाबंदी, 25 मीट्रिक टन से ज्यादा स्टोर नहीं करेंगे कारोबारी

सबसे पहले 65 साल से अधिक उम्र के व्यक्तियों को मिलेगी वैक्सीन

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन पहले ही कह चुके हैं कि  जब भी वैक्सीन आयेगी तो सबसे पहले 65 साल से अधिक उम्र के व्यक्तियों को दी जायेगी. उसके बाद कोरोना से जंग लड़ रहे उन स्वास्थ्यकर्मचारियों को वैक्सीन दी जाएगी. इसके बाद वैक्सीन अन्य लोगों को मिलेगी.

इसे भी पढ़ें:अवैध जमाबंदी पर होगी कार्रवाई, म्यूटेशन के लंबित मामलों का भी होगा निपटारा

राज्यों से मांगी गयी है प्राथमिकता वाले लाभार्थियों के समूह की सूची

सरकार इस दिशा में काम कर रही है और जिन्हें टीका दिया जाना है उनकी पहचान कर रही है. राज्यों से वैक्सीन की प्राथमिकता वाले लाभार्थियों के समूह की पहचान कर उसकी सूची मांग ली गयी है. पहले चरण में कुल 30 करोड़ प्राथमिकता वाले लाभार्थियों को वैक्सीन की खुराक मिलेगी.

इसे भी पढ़ें:डेढ़ साल से है बंद है राज्य के एकमात्र पनबिजली प्लांट की एक यूनिट

दो करोड़ फ्रंटलाइन वर्कर्स को मिलेगी पहले चरण में वैक्सीन

इसके अलावा दो करोड़ फ्रंटलाइन वर्कर्स हैं जिन्हें पहले चरण में वैक्सीन दिया जाना है.इसमें नगर निगम के कर्मचारी, सुरक्षाबल और इस क्षेत्र में काम कर रहे लोगों को शामिल किया गया है. 50 साल से अधिक उम्र वालों को भी इसमें शामिल किया गया है जिन्हें खतरा ज्यादा है. ऐसे 26 लाख लोगों को पहचान की गयी . इसमें स्पेशल समूह को भी शामिल किया गया जिनकी उम्र 50 से नीचे हैं. इसमें ऐसे लोग हैं जिन्हें कोई बीमारी है.

इसे भी पढ़ें:अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में बाइडेन की जीत तय

Advt

Related Articles

Back to top button