न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

हेमंत सोरेन का स्थायी पता पूछनेवाली बीजेपी पर जेएमएम का पलटवार, कहा ‘खौफ में भाजपा नेता, कर रहे मूर्खतापूर्ण सवाल’

362

Ranchi: जेएमएम कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन के स्थायी पत्ता से संबंधित सवाल पूछनेवाली बीजेपी पर जेएमएम  ने पलटवार किया है. उन्होंने कहा कि सोरेन परिवार में पिता-पुत्र सांसद एवं मुख्यमंत्री रह चुके हैं. स्वाभाविक है कि उन्हें सरकारी आवास आवंटित किया गया है. ऐसे में उनका पत्राचार इन आवासों से होना तय है. पार्टी महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य ने एक प्रेस वार्ता में कहा कि भाजपा नेता पहले हेमंत सोरेन की संपत्ति पर सवाल खड़ा करते थे. जब इसमें सफलता नहीं मिली, तो अब हेमंत सोरेन के खौफ से वे मूर्खतापूर्ण सवाल पूछ रहे हैं. उन्होंने गोड्डा में अडाणी पावर प्लांट को लेकर भी भाजपा पर निशाना साधा. इस दौरान उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 2014 में दिये एक भाषण का भी जिक्र किया. उन्होंने कहा था कि मेरे जिंदा रहते कोई माई का लाल राज्य के आदिवासी-मूलवासियों की जमीन को लूट नहीं सकता. आज पीएम की ये बातें सही हो रही हैं. क्योंकि अब अडाणी और अंबानी ही केवल भाजपा के संरक्षण में आदिवासियों की जमीन लूटने में लगे हैं.

इसे भी पढ़ें – गोड्डा : निशिकांत दुबे लगायेंगे हैट्रिक या प्रदीप यादव जीतेंगे वोटरों का दिल

Trade Friends

कई जगह मिला सरकारी आवास, सभी से होता है पत्राचार

सुप्रियो भट्टाचार्य ने कहा कि केंद्र की पांच और राज्य की साढ़े चार साल की उपलब्धियों पर भाजपावाले कोई बात नहीं करते. इन वर्षों में वे केवल एक ही राग आलापते रहे हैं कि सोरेन परिवार द्वारा जमीन लूटी जा रही है. उन्होंने कहा कि भाजपा नेता अब मूर्खतापूर्ण भरा सवाल कर रहे हैं. हेमंत सोरेन के पास कोई नयी संपत्ति नहीं है, बल्कि अधिकांशतः सरकारी संपत्ति है. कहा कि जिस व्यक्ति के पिता या वे खुद जहां रहते हैं, वही उसका पता होता है. उनके पिता गुरुजी के सांसद बनने के बाद बोकारो क्वॉर्टर को सेल प्रबंधन ने आवास आवंटित किया था. हेमंत सोरेन ने अपना बचपन वहीं व्यतीत किया था. यहीं से उनका पत्राचार होता था. सरकार ने जब गुरुजी को रांची में आवास आवंटित किया, तो हेमंत सोरेन यहां भी रहते थे. 2006 में हेमंत सोरेन ने हरमू हाउसिंग कॉलोनी के B/63 में एक क्वॉर्टर खरीदा. इसी आवास से उनका वोटर कार्ड बना है. तो स्वाभाविक है कि यह भी उनका पता है. उपमुख्यमंत्री बनने के वक्त उन्हें मेयर्स रोड पर एक आवास आवंटित हुआ, तो इससे भी पत्राचार होता रहा है.

इसे भी पढ़ें – पलामू संसदीय चुनाव में लैंड माइंस बड़ी चुनौती, 2015 से अबतक चार हजार से अधिक लैंड माइंस बरामद

आदिवासियों की जमीन हड़पने में किया गया जुल्म

WH MART 1

पार्टी महासचिव ने बताया कि पीएम ने यह भी कहा था कि झारखंड में काफी कोयला है, लेकिन फिर भी यहां अंधेरा है. लेकिन आज इसी कोयला बहुल धरती पर भाजपा के सहयोग से आदिवासियों से जमीन हड़प कर अडाणी थर्मल पावर प्लांट लगाया जा रहा है. प्रोजेक्ट को लगाने में आदिवासियों की जमीन हड़पने में जैसा जुल्म किया गया, वह प्रधानमंत्री के भाषण का एक संकेत था कि उनके रहते आदिवासियों की जमीन और कोई छीन नहीं सकता. यह सभी जानते हैं कि इससे बनी बिजली से झारखंड नहीं बल्कि बांग्लादेश रोशन होगा.

इसे भी पढ़ें – भारतीय सेना की बहाली के दौरान फर्जी कागजात के साथ पकड़े गए 40 अभ्यर्थी, हो सकता है बड़े रैकेट का पर्दाफाश

खौफ में आ गये हैं भाजपा नेता

अपने पांच सालों में भाजपा ने विकास का कोई काम नहीं किया है. इस दौरान आदिवासी-मूलवासी के हितों के लिए कोई काम नहीं हुआ. रोजगार और स्थानीयता की नीति पर भाजपा नेता कुछ नहीं बोलते हैं. उन्होंने कहा कि भाजपा वाले खौफ में आ गये हैं. पीएम मोदी को यूपीए नेता राहुल गांधी का खौफ है. मुख्यमंत्री रघुवर दास को हेमंत सोरेन का खौफ है. वहीं पड़ोसी राज्य के सीएम नीतीश कुमार को राजद अध्यक्ष लालू यादव का खौफ है. इस दौरान उन्होंने सभी राजनीतिक दलों से वाजिब मुद्दों पर चुनाव लड़ने की भी अपील की.

इसे भी पढ़ें – पिछले पांच वर्षों में देश ने की है बहुत तरक्की, जल्द होंगे विकसित देशों की श्रेणी में शामिल : डॉ शास्वत

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like