Corona_Updates

#Hazaribagh : पीएम केयर फंड के नाम से फर्जी वेबसाइट बना कर की 52 लाख की ठगी, मुख्य आरोपी फरार

Hazaribagh : हजारीबाग जिले की पुलिस ने एक बड़े साइबर अपराध का खुलासा किया है. साइबर अपराधियों ने ठगी के लिए पीएम केयर रिलीफ फंड डॉट कॉम नाम से एक फर्जी वेबसाइट तैयार कर कई लोगों को लाखों रुपये की ठगी की है.

इसमें दिये गये खाता नंबर पंजाब नैशनल बैंक और यूनियन बैंक के हैं. इन दोनों खातों के माध्यम से 52,58,442.26 रुपये की ठगी का मामला सामने आया है. इस मामले में पुलिस ने कार्रवाई करते हुए मोहम्मद इफ्तेखार को गिरफ्तार किया.

इनसे पूछताछ में मुख्य सरगना के रूप में मुफस्सिल थाना क्षेत्र के ओरिया निवासी परमेश्वर साव का नाम सामने आया है, जो फरार चल रहा है. पुलिस परमेश्वर साव की गिरफ्तारी के लिए लगातार प्रयास में जुटी हुई है.

इसे भी पढ़ें – #CoronaUpdates: दो दिनों में 16 हजार टेस्ट हुए, मात्र 0.2 प्रतिशत पॉजिटिव मिले

52 लाख से ज्यादा की ठगी

मिली जानकारी के अनुसार पीएम केयर रिलीफ फंड डॉट कॉम वेबसाइट में जिन अकाउंट का उल्लेख किया गया था, उसके बारे में पंजाब नेशनल बैंक बड़ी बाजार शाखा के मैनेजर सुजीत कुमार सिंह और यूनियन बैंक शाखा आनंद चौक के मैनेजर अमित कुमार ने जांच की तो पाया कि दोनों खाते के खाताधारक सगे भाई हैं, जो मुफस्सिल थाना क्षेत्र के रहनेवाले हैं.

इस पर शाखा प्रबंधकों को संदेह हुआ और उन्होंने सदर थाना में अलग-अलग आवेदन दिया है. दोनों बैंक से इस फर्जी वेबसाइट और अकाउंट के माध्यम से कुल 5258442.26 रुपये का डिजिटल माध्यम से ठगी करने का उल्लेख है.

भारी मात्रा में बैंक पासबुक, चेक बुक, एटीएम कार्ड सहित कई दस्तावेज बरामद किये हैं

पुलिस ने पकड़े गये आरोपी की निशानदेही पर परमेश्वर साव के घर पर छापामारी कर उसकी कार और कार में रखे भारी मात्रा में बैंक पासबुक, चेक बुक, एटीएम कार्ड सहित कई दस्तावेज बरामद किये हैं.

इसे भी पढ़ें – रिम्स के डॉक्टर की पहल: आम लोगों के कोरोना के ज्ञान पर होगा सर्वे, महामारी से लड़ने में मिलेगी मदद

साइबर अपराध करने का मामला दर्ज किया गया है

इस संबंध में यूनियन बैंक के शाखा प्रबंधक अमित कुमार के आवेदन पर 124/20 और पंजाब नेशनल बैंक के शाखा प्रबंधक सुजीत कुमार सिंह के आवेदन पर कांड संख्या 125/20 दोनों कांड में धारा 420, 406 आईपीसी और 66 (सी) आईटी एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया है. जिसमें मुख्य सरगना सहित अन्य को भी अभियुक्त बनाया गया है.

यूनियन बैंक के शाखा प्रबंधक ने 17,70,741 रुपये और पंजाब नैशनल बैंक के शाखा प्रबंधक ने 34,87,701.26 रुपये का साइबर अपराध किये जाने का आरोप लगाया है. दोनों शाखा से कुल 52,58,442.26 राशि का साइबर अपराध करने का मामला दर्ज किया गया है.

इसे भी पढ़ें – #Lockdown: जमशेदपुर में पुलिस ने रोका तो बाइक सवार युवक ने जवान पर तान दी पिस्तौल

Telegram
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close