Corona_Updates

मुंबई में मजदूरों का प्रदर्शन : अफवाह फैलाने वाले की गिरफ्तारी के बाद टीवी पत्रकार पुलिस की हिरासत में

Mumbai :  महाराष्ट्र में एक टीवी पत्रकार के खिलाफ उस खबर को लेकर प्राथमिकी दर्ज की गई जिसमें कहा गया था कि ट्रेन सेवाएं बहाल होंगी, जिसके कारण उपनगर बांद्रा में मंगलवार को प्रवासी कामगार उमड़ पड़े.

एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि महाराष्ट्र के उस्मानाबाद जिले के आरोपी राहुल कुलकर्णी को हिरासत में ले लिया गया है और पुलिस उसे मुंबई ला रही है.

उन्होंने बताया कि हाल ही में एक खबर में कुलकर्णी ने कहा था कि लॉकडाउन के कारण फंसे हुए लोगों के लिए जन साधारण विशेष ट्रेनें बहाल होंगी. अधिकारी ने बताया कि उस पर आईपीसी की धारा 188, 269, 270 और 117 के तहत मामला दर्ज किया गया है.

Catalyst IAS
ram janam hospital

गौरतलब है कि मंगलवार दोपहर को यहां बांद्रा रेलवे स्टेशन के समीप 1,000 से अधिक प्रवासी कामगार उमड़ पड़े थे जिनमें से अधिकतर बिहार, उत्तर प्रदेश और पश्चिम बंगाल के थे.

The Royal’s
Pushpanjali
Pitambara
Sanjeevani

वे मांग कर रहे थे कि राज्य सरकार उनके लिए यातायात का प्रबंध करें ताकि वे अपने-अपने शहर और गांव लौट सकें.

इसे भी पढ़ें:  #TabligiJamaat: मौलाना साद समेत 7 पर गैर-इरादतन हत्या का केस दर्ज, 1900 विदेशी जमातियों के खिलाफ लुकआउट नोटिस 

ये है पूरा मामला

देश भर में कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए लॉकडाउन को 3 मई तक बढ़ा दिया गया है. पीएम नरेंद्र मोदी ने 14 मार्च को इसकी घोषणा की.

उनकी इस घोषणा के बाद मुंबई के बांद्रा स्टेशन के पास हजारों लोग सड़कों पर उतर आये. इसी मामले को लेकर पुलिस ने एक शख्स को गिरफ्तार किया है. शख्स का नाम विनय दुबे बताया जा रहा है.

इसे भी पढ़ेंः एक नजर में जानें कि किन-किन सेवाओं को लॉकडाउन में 20 अप्रैल से सरकार ने दी है छूट

कैंपन चलाकर लोगों को कर रहा था गुमराह

विनय पर मजदूरों को गुमराह करने का आरोप है साथ ही उस पर लॉकडाउन के वक्त भीड़ जमा करने का भी आरोप लगा है. मुंबई में यह व्यक्ति ‘चलो घर की ओर’ नाम का कैंपन चला रहा था. विनय पर खिलाफ आइपीसी की धारा 117, 153 ए, 188, 269, 270, 505(2) और एपिडेमिक एक्ट की धारा 3 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है.

विनय के गुमराह करने की वजह से बांद्रा स्टेशन पर हजारों की संख्या में भीड़ जमा हो गयी थी. पुलिस ने इस मामले में 1000 लोगों पर मामला दर्ज किया है.

गौरतलब है कि कोरोना से बुरी तरह प्रभावित मुंबई में इस कदर भीड़ का उमड़ना काफी खतरनाक साबित हो सकता है. इस भीड़ में ज्यादातर वैसे लोग शामिल थे जो दूसरे राज्यों से मुंबई में आकर काम करे थे. वहीं मौके पर पहुंची पुलिस ने लाठीचार्ज कर इन लोगों को तितर-बितर कर दिया था.

लॉकडाउन बढ़ने से मन में डर

देश में 21 दिन का लॉकडाउन 14 अप्रैल को समाप्त होनेवाला था, पर इसे 3 मई तक के लिए बढ़ा दिया गया है. लॉकडाउन को लंबा खिंचता देख लोग घबरा गये. उन्हें यह आशंका लगने लगी कि उनके भोजन पानी की व्यवस्था कैसे होगी. वे लोग घर वापस भेजे जाने की मांग करने लगे.

पहले भी जुटी थी भीड़

महाराष्ट्र से पहले कर्नाटक के मेंगलुरु में भी इसी तरह की भीड़ इकट्ठा हो गयी थी. कर्नाटक के होइगे बाजार में सैकड़ों लोग एक ही जगह पर इकट्ठा हो गये थे. कर्नाटक में अब तक कोरोना के कुल 258 मामले सामने आ चुके हैं, जिसमें से 9 लोगों की मौत हो चुकी है.

इससे पहले जब लॉकडाउन की घोषणा हुई थी तो उस वक्त बी दिल्ली और उत्तर प्रदेश की सीमा पर इसी तरह का नजारा देखने को मिला था. वहां भी हजारों की संख्या में प्रवसी मजदूर घर जाने को लेकर जमा हो गये थे.

इसे भी पढ़ेंं:  #Corona के खौफ ने मार दी इंसानियत: घंटों घायल पड़े बुजुर्ग की मदद करने वाला कोई नहीं

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button