न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

श्रीलंका में सभी मुस्लिम मंत्रियों ने दिया इस्तीफा, हिन्दू सांसदों ने जताया कड़ा ऐतराज

670

Colombo: श्रीलंका में ईस्टर के मौके पर चर्च पर हुए हमले के बाद से ही श्रीलंका में सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है. इस हमले में 250 लोग मारे गये थे. उसके बाद से ही बौद्ध बहुल श्रीलंका में अल्पसंख्यकों और इनके बीच तनातनी चल रही है. इसी कड़ी में मंगलवार को श्रीलंका सरकार के सभी नौ मुस्लिम मंत्रियों ने इस्तीफ़ा दे दिया है. दो प्रांतीय गवर्नरों ने भी इस्तीफा दिया है.

इसे भी पढ़ें – दर्द ए पारा शिक्षक: बेटे को प्रतियोगी परीक्षा नहीं दिला पा रहे अमर, मानदेय मिलता तो परीक्षाएं नहीं छूटतीं

बौद्ध भिक्षु थे आमरण अनशन पर

श्रीलंका के प्रभावी बौद्ध संन्यासी अथुरालिये रतना की भूख हड़ताल को देखते हुए इन मंत्रियों ने इस्तीफ़ा दिया है.  रतना ने कहा था कि उनका यह आमरण अनशन है और जब तक दो प्रांतीय मुस्लिम गवर्नर और एक मंत्री इस्तीफ़ा नहीं दे देते हैं, तब तक यह जारी रहेगा. मुस्लिम मंत्रियों के इस्तीफ़ा होने के बाद रतना ने अपनी भूख हड़ताल ख़त्म कर दी.

बौद्ध संन्यासी का कहना है कि इन मंत्रियों के आत्मघाती हमलावर से संबंध थे. उन्होंने राष्ट्रपति से इन मंत्रियों को हटाने के लिए कहा था. हालांकि संन्यासी रतना ने सभी मुस्लिम मंत्रियों को निशाने पर नहीं लिया था, पर मुस्लिम मंत्रियों ने एकजुटता का प्रदर्शन करते हुए इस्तीफा दे दिया.

इसे भी पढ़ें – कैलाश विजयवर्गीय ने कहा- बंगाल में जय महाकाली, जय श्री राम होगें BJP के नारे

सरकार पर असर

मंत्रियों के इस्तीफ़े से सरकार की स्थिरता पर कोई असर नहीं पड़ेगा. ये बतौर सासंद सरकार के साथ खड़े हैं. श्रीलंका मुस्लिम कांग्रेस के सांसद राउफ़ हाकीम ने कहा है कि उन्होंने और अन्य मुस्लिम नेताओं ने इसलिए इस्तीफ़ा दिया है ताकि सरकार आरोपों की जांच कर सके.  रउफ़ ने कहा कि श्रीलंका में मुस्लिम विरोधी कैंपेन और आरोपों से हम मुक्त होना चाहते हैं इसलिए इस्तीफ़ा ज़रूरी था.

रउफ ने कहा कि अगर जांच में हम किसी भी तरह से दोषी पाये जाते हैं, तो जो भी सज़ा होगी भुगतने के लिए तैयार हैं.

हिंदू सांसदों ने जताया ऐतराज

श्रीलंका की इस राजनीतिक घटना पर हिंदू सांसदों और नेताओं ने कड़ा ऐतराज जताया है. हिंदू सांसदों ने इन इस्तीफों का विरोध किया है. द तमिल नेशनल अलायंस (टीएनए) ने कहा कि मुस्लिम मंत्रियों के साथ भेदभाव हो रहा है. टीएनए के प्रवक्ता और सांसद एम सुमनतिरन ने कहा कि आज ये निशाने पर हैं, कल हमलोग होंगे और आगे कोई और होगा. आज सभी श्रीलंकाई नागरिकों को साथ रहने की ज़रूरत है. हमलोग मुसलमानों से मिल कर रहेंगे.

इसे भी पढ़ें – मोदी को “राष्ट्र ऋषि” की उपाधि देने पर मतभेद, घोषणा के हफ्ते भर बाद काशी परिषद में फूट

तो बुद्ध भी नहीं बचा पायेंगे देश को

तमिल प्रोग्रेसिव अलायंस और श्रीलंका के हिन्दू नेता मनो गणेशण ने कहा है कि अगर सरकार बौद्ध संन्यासियों के हिसाब से चलेगी तो गौतम बुद्ध भी देश को नहीं बचा पायेंगे. गणेशन ने कहा कि मुसलमानों पर कोई भी आरोप सिद्ध नहीं हुआ है और न ही ये आज तक ऐसी गतिविधि में शामिल रहे हैं.

इसे भी पढ़ें- मुस्लिम समुदाय को ईद को तोहफाः 55 करोड़ की लागत से तैयार हज हाउस का सीएम ने किया लोकार्पण

खौफ में मुस्लिम आबादी

शहरी विकास, जल एंव आपूर्ति मंत्री रउफ़ हकीम ने कहा कि बीते दो दिनों से देश की मुस्लिम आबादी ख़ौफ़ में है. हकीम श्रीलंका की सबसे बड़ी मुस्लिम पार्टी के मुखिया हैं. उन्होंने कहा कि हमारे लोग ख़ूनी संघर्ष से डरे हुए हैं.

इसे भी पढ़ें – ओडिशा : फोनी की तबाही के एक महीने बाद भी अंधेरे में रह रहे 1.64 लाख परिवार

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्लर्क नियुक्ति के लिए फॉर्म की फीस 1000 रुपये, कितना जायज ? हमें लिखें..
झारखंड में नौकरी देने वाली हर प्रतियोगिता परीक्षा विवादों में घिरी होती है.
अब JSSC की ओर से क्लर्क की नियुक्ति के लिये विज्ञापन निकाला है.
जिसके फॉर्म की फीस 1000 रुपये है. यह फीस UPSC के जरिये IAS बनने वाली परीक्षा से
10 गुणा ज्यादा है. झारखंड में साहेब बनानेवाली JPSC  परीक्षा की फीस से 400 रुपये अधिक. 
क्या आपको लगता है कि JSSC  द्वारा तय फीस की रकम जायज है.
इस बारे में आप क्या सोंचते हैं. हमें लिखें या वीडियो मैसेज वाट्सएप करें.
हम उसे newswing.com पर  प्रकाशित करेंगे. ताकि आपकी बात सरकार तक पहुंचे. 
अपने विचार लिखने व वीडियो भेजने के लिये यहां क्लिक करें.

you're currently offline

%d bloggers like this: