न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

ओडिशा : फोनी की तबाही के एक महीने बाद भी अंधेरे में रह रहे 1.64 लाख परिवार

855

Bhubaneswar : पुरी के समीप फोनी चक्रवात के तबाही मचाने के एक माह बाद भी ओडिशा के तटीय जिलों में 1.64 लाख परिवारों के पांच लाख से अधिक लोग गर्मी और उमस भरे मौसम में रह रहे हैं. चक्रवात की वजह से ठप हुई बिजली आपूर्ति अभी बहाल नहीं हो पाई है.

eidbanner

इसे भी पढ़ेंःतत्कालीन महापौर रमा खलखो के ससुरालवालों ने सतीश चंद्र बाउल की 5.53 एकड़ जमीन पर कर रखा है कब्जा

1,51,889 को ही फिर से मिल पाई बिजली 

एक अधिकारी ने बताया कि तीन मई को आए फोनी का सर्वाधिक कहर पुरी जिले पर टूटा जहां 2,91,171 प्रभावित उपभोक्ताओं में से केवल 1,51,889 को ही फिर से बिजली मिल पाई है. फोनी की वजह से जिले में बिजली की अवसंरचना को गहरा नुकसान हुआ है.

फोनी से राज्य के 14 जिलों के कुल 1.65 करोड़ परिवार प्रभावित हुए हैं. चक्रवात की वजह से कम से कम 64 लोगों की जान चली गई. अकेले पुरी जिले में 39 लोगों की मौत हुई. फोनी की वजह से अंगुल, ढेंकानाल, कटक, पुरी, नयागढ़, खुर्दा, केंद्रपाड़ा, जगतसिंहपुर और जैतपुर में भीषण नुकसान हुआ है.

Related Posts

डॉक्टरों की हड़ताल समाप्त होने के आसार,  सीएम ममता का हर अस्पताल में पुलिस अधिकारी तैनात करने का आदेश 

डॉक्टरों की हड़ताल समाप्त होने के आसार हैं. पश्चिम बंगाल में हिंसा के विरोध में हड़ताल पर गये चिकित्सकों और राज्य सरकार के बीच गतिरोध खत्म होने के संकेत नजर आ रहे हैं.

इसे भी पढ़ेंःदर्द ए पारा शिक्षक: बेटे को प्रतियोगी परीक्षा नहीं दिला पा रहे अमर, मानदेय मिलता तो परीक्षाएं नहीं छूटतीं

सकूलों की भी मरम्मत जारी

चक्रवात प्रभावित इलाकों में पेयजल, बैंकिंग, दूरसंचार एवं अन्य सेवाओं में उल्लेखनीय सुधार हुआ है. ओडिशा के स्कूल एवं सामूहिक शिक्षा मंत्री समीर रंजन दास ने कहा कि अधिकारियों से स्कूलों की मरम्मत करने को कहा गया है क्योंकि गर्मी की छुट्टियां 19 जून को खत्म हो जाएंगी.

पुरी के रहने वाले दास ने कहा कि जिले के ग्रामीण इलाकों में बिजली बहाल करने के लिए सभी प्रयास किए जा रहे हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: