न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

जल संसाधन विभाग ने नहीं मानी पाकुड़ डीसी की बात, वापस बुलाए गए चहेते कनीय अभियंता

1,464

Ranchi: पाकुड़ डीसी दिलीप कुमार झा की लाख कोशिशों के बावजूद उनके चहेते कनीय अभियंता मदन मोहन सिंह का तबादला नहीं रुका. पाकुड़ के स्पेशल डिवीजन के जूनियर इंजीनियर मदन मोहन सिंह का जल संसाधान विभाग ने मेदिनीनगर तबादला कर दिया था. तबादले के आदेश के बाद पाकुड़ डीसी ने मदन मोहन सिंह को रोकने के लिए जल संसाधन विभाग के अपर सचिव को एक चिट्ठी लिखी थी. चिट्ठी में पाकुड़ डीसी ने लिखा था कि मदन मोहन सिंह कनीय अभियंता का तबादला मेदिनीनगर  कर दिया गया है. लिखा कि  कनीय अभियंता मदन मोहन सिंह के पास कई महत्वपूर्ण काम हैं. एकलव्य विद्यालय और आश्रम के साथ-साथ मुख्यमंत्री ग्राम सेतु योजना भी इसी कनीय अभियंता के जिम्मे है. इसलिए मदन मोहन सिंह का तबादला रोक दिया जाये. इनके तबादले से काम में काफी असर पड़ेगा. लेकिन 15 अक्टूबर को जल संसाधन विभाग की तरफ से एक चिट्ठी राज्य भर के उपायुक्तों के लिए जारी की गयी. जिसमें साफ तौर से निर्देश है कि तीन दिनों के अंदर सभी अभियंता जिनका तबादला हुआ है, वे अपना पद भार ग्रहण करें.

इसे भी पढ़ें – चंदवे में लड़की की छेड़खानी को लेकर हंगामा, दो पक्ष भिड़े, पुलिस बल तैनात

31 जुलाई को डीसी ने लिखी थी चिट्ठी

hosp3

किसी भी जिले में कई जूनियर इंजीनियर होते हैं. लेकिन ऐसा कम ही होता है कि किसी जूनियर इंजीनियर का ट्रांस्फर रोकने के लिए खुद डीसी विभाग के अपर मुख्य सचिव को चिट्ठी लिखे. पाकुड़ डीसी दिलीप कुमार झा ने 31 जुलाई को जल संसंधान के अपर मुख्य सचिव को एक चिट्ठी लिखी. डीसी की चिट्ठी के बाद राज्य भर में यह चर्चा शुरू हो गयी थी कि ये कैसे अभियंता हैं जिनके जाने से जिले का सारा काम ही बाधित हो जायेगा. शायद वे पहले डीसी होंगे, जिनके खिलाफ शहर में पोस्टरबाजी हुई हो. पूछा जा रहा है कि आखिर सहायक खनन पदाधिकारी और डीसी के बीच कैसे मधुर रिश्ते हैं.

इसे भी पढ़ें – धनबाद की पुलिस दुर्गा पूजा में बेटियों को सुरक्षा देने में नाकाम

लगा है आरोप, डीसी साहब का ओरमांझी में बन रहा है घर, मदद कर रहे हैं कनीय अभियंता

हाल के दिनों में पाकुड़ डीसी दिलीप कुमार झा के विरुद्ध जम कर पोस्टरबाजी हो रही है. आरजेडी और आजसू पार्टी शहर भर में डीसी के खिलाफ पोस्टरबाजी की है. आरजेडी के जिला अध्यक्ष सुरेश अग्रवाल ने आरोप लगाया है कि पाकुड़ डीसी दिलीप कुमार झा अवैध रूप से कमाये गये पैसों से रांची के ओरमांझी में घर बनवा रहे हैं. घर स्पेशल डिवीजन के जूनियर इंजीनियर मदन मोहन सिंह की देखरेख में बनवाया जा रहा है. उन्होंने कहा है कि दो महीना पहले ही मदन मोहन सिंह का तबादला हो गया. लेकिन डीसी साहब उसे रोककर रखे हुए हैं. मदन मोहन सिंह ने पाकुड़ में करोड़ों रुपए की योजनाएं संचालित की हैं और सभी से मोटी कमाई है. साथ ही सहायक खनन पदाधिकारी सुरेश शर्मा पर आरोप लगाते हुए कहा कि उनका देवघर रोड पर ब्रिज के पास करोड़ों रुपए का मॉल बन रहा है. देवघर बिहार के शेखपुरा और धनबाद में भी आलीशान घर है. आरजेडी अध्यक्ष का आरोप है कि सहायक खनन पदाधिकारी पहले माइन्स को सीज करते हैं और फिर तीन-चार दिनों में कागजात भी बनाकर माइन्स को फिर से शुरू करवा देते हैं. हर माइन्स शुरू करने के लिए सहायक खनन पदाधिकारी 10-15 लाख रुपए की मोटी रकम वसूल लेते हैं. आरजेडी के जिला अध्यक्ष ने पूरे मामले पर सीबीआई जांच की मांग भी की है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: