JharkhandLead NewsRanchi

ट्रैफिक पुलिस ने रोका तो खुद को बताया मजिस्ट्रेट, पर पुलिसकर्मियों ने थमाया चालान

Ranchi : रांची ट्रैफिक पुलिस जुर्माना न ले उसके लिए लोग एक से एक बहाने बनाते हैं और कभी-कभी लोग बड़े अधिकारी के नाम पर पुलिस पर धौंस भी जमाते हैं.

ताजा मामला रांची के जेल चौक के पास का है. ट्रैफिक पुलिसकर्मी ने एक कार रोक कर जानना चाहा कि किस काम से घर से बाहर निकले हैं. कार चालक ट्रैफिक पुलिसकर्मी पर आग बबूला हो गया और कहने लगा वह मजिस्ट्रेट है.

advt

मजिस्ट्रेट की गाड़ी रोकने की हिम्मत कैसे हुई, लेकिन ट्रैफिक पुलिसकर्मी भी अपने सवाल का जवाब जानने पर अड़े हुए थे. कार चालक से पूछा कहां के मजिस्ट्रेट हैं और अपना आई कार्ड दिखाइये.

इसे भी पढ़ें :हेमंत सोरेन के ट्वीट पर बोले जगन रेड्डी- हेमंत सोरेन जी यह वक्त एक दूसरे पर उंगली उठाने का नहीं, साथ देने का है

कार चालक ने ट्रैफिक पुलिसकर्मियों को चकमा देकर भागने की कोशिश की और इसी दौरान एक स्कूटी सवार को धक्का मार दिया. हालांकि इस दुर्घटना वह व्यक्ति बाल-बाल बच गया. बाद में सभी पुलिसकर्मियों ने खुद को मजिस्ट्रेट बतानेवाले व्यक्ति का चालान काट कर हाथ में थमा दिया.

रांची में लॉकडाउन के पालन को लेकर ट्रैफिक एसपी अजीत पीटर डुंगडुंग की ओर से कड़ा आदेश जारी किया गया है. इसके मुताबिक गाइडलाइन का सख्ती से अनुपालन करवाने की जिम्मेदारी सभी पुलिसकर्मियों और अधिकारियों पर है.

दोपहर 3 बजे के बाद सड़क पर नजर आनेवाले वाहनों को संदिग्ध माना जायेगा. केवल उन्हीं वाहनों को गुजरने दिया जायेगा, जिन्हें सरकार की ओर से अनुमति है.

इसे भी पढ़ें :इंस्टीट्यूट ऑफ होटल मैनेजमेंट की 12 जून को प्रस्तावित ज्वाइंट एंट्रेंस परीक्षा स्थगित

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: