Education & CareerJamshedpurJharkhandSci & Tech

TATA OPEN INNOVATION : डायबिटीज का पता लगाने के लिए आईआईटी हैदराबाद को मिला पांच लाख रुपये का पुरस्कार

Jamshedpur: टाटा स्टील ने अपने ओपन इनोवेशन प्रोग्राम मैटेरियल नेक्स्ट 3.0 के विजेता की घोषणा की है. देश के युवाओं में इनोवेशन को बढ़ावा देने के लिए होनेवाले इस कार्यक्रम के विजेताओं को टाटा स्टील के एमडी टीवी नरेन्द्रन ने पुरस्कृत किया. आईआईटी हैदराबाद की टीम ‘नैनो ट्राइब’ को टाटा स्टील मैटेरियलनेक्स्ट’ के तीसरे संस्करण का विजेता घोषित किया गया. टीम में सुष्मिता वीरलिंगम, हरि प्रकाश और जलादुर्गम ईश्वरी ने डॉ सुषमा बधुलिका के मार्गदर्शन में ‘मानव सांस में प्री-डायबिटीज का पता लगाने के लिए सेल्फ-पॉवरिंग सेंसर’ शीर्षक नामक समाधान प्रस्तुत किया था. विजेता टीम को 5 लाख रुपये का नकद पुरस्कार मिला.
टूडी मेटेरियल्स के लिए मिला दुसरा पुरस्कार
इंडियन एसोसिएशन फॉर द कल्टीवेशन ऑफ साइंस (आईएसीएएस) कोलकाता की टीम ‘मेटेरियल्स इंजीनियरिंग लैब’ ने ‘दो-आयामी (2D) मटेरियल के लिए आसान, उच्च उत्पादन और रूम टेंपरेचर सिंथेसिस प्रोसेस’ शीर्षक वाले समाधान का प्रदर्शन किया और प्रथम रनर-अप का स्थान हासिल किया. इस टीम के सदस्य सुखेंदु मैती और डॉ कृष्णेंदु सरकार को डॉ प्रवीण कुमार ने मार्गदर्शन प्रदान किया था. उन्होंने 2.5 लाख रुपये का नकद पुरस्कार प्राप्त किया. आईआईटी रोपड़ की टीम ‘टीसीएन-आईआईटीआरपीआर’, ने ‘रिकवरी ऑफ प्योर हाइड्रोजन फ्रॉम एच2एस बाय ग्रीनर इलेक्ट्रोकेमिकल अप्रोच’ शीर्षक वाले समाधान का प्रदर्शन कर दूसरे उपविजेता का खिताब हासिल किया. मुकेश कुमार की इस एक सदस्यीय टीम को डॉ. सी.एन. थरमनी ने मार्गदर्शन दिया और इन्होंने एक लाख रुपये का नकद पुरस्कार प्राप्त किया.स

टाटा स्‍टील के प्रबंध न‍िदेशक ने कही ये बात
भी विजेताओं और फाइनलिस्टों को बधाई देते हुए टाटा स्टील के चीफ एग्जीक्यूटिव ऑफिसर और प्रबंध निदेशक टी.वी. नरेंद्रन ने कहा कि ज्ञान और प्रौद्योगिकी हमारे देश के जियोपोलिटिकल महत्व को बढ़ाने और मूल्य निर्माण को बढ़ावा देने के लिए प्रमुख प्रवर्तक के रूप में उभरे हैं. भारत अगले कुछ दशकों में 10 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनने के साथ-साथ अपनी शुद्ध शून्य महत्वाकांक्षाओं को साकार करने के लिए आगे बढ़ रहा है. टाटा स्टील में हमारा प्रयास कंपनी के बाहर मौजूद इनोवेशन इकोसिस्टम की तलाश करना है. स्थायी समाधान बनाने के लिए वैज्ञानिक प्रतिष्ठानों, शैक्षणिक संस्थानों और स्टार्ट-अप के साथ काम करना और मेटल्स तथा माइनिंग स्पेस में एक प्रौद्योगिकी लीडर बनने की हमारी यात्रा को गति प्रदान करना है. प्रतियोगिता में भाग लेने वाले युवा मस्तिष्कों द्वारा विकसित सफलता के विचार, पहल और नवाचार वास्तव में प्रशंसनीय हैं और आने वाले रोमांचक समय की एक झलक पेश करते हैं.
तकनीक उत्कृष्टता आइसोलेशन में नहीं होती-डॉ.देवाशीष भट्‌टाचार्या
इस अवसर पर टाटा स्टील के वाइस प्रेसीडेंट, टेक्नोलॉजी एंड न्यू मटेरियल्स बिजनेस, डॉ देवाशीष भट्टाचार्जी ने कहा कि किसी संगठन की तकनीकी उत्कृष्टता आइसोलेशन में नहीं होती है. इसे अत्यधिक सक्षम और सपोर्टिव इकोसिस्टम की आवश्यकता होती है. छात्र और शिक्षाविद किसी देश के ऐसे पारिस्थितिकी तंत्र की नींव बनाते हैं. मुझे यह देखकर खुशी हो रही है कि इस ओपन इनोवेशन इवेंट के माध्यम से हम प्रतिभाशाली संकायों द्वारा निर्देशित उज्ज्वल युवा मष्तिस्कों को बोल्ड आइडियाज के साथ आकर्षित करने में सक्षम हैं जो जल्द ही वास्तविकता बन सकते हैं. मैं विजेता टीम को बधाई देता हूं और मटेरियलनेक्स्ट 3.0 के सभी प्रतिभागियों के प्रयासों की सराहना करता हूं.

ये भी पढ़ें- INDUSTRY 4.0-जानिए आने वाले दिनों में मैनुफैक्चरिंग सेक्टर का चेहरा क्यों बदल जाएगा

Catalyst IAS
ram janam hospital

Related Articles

Back to top button