JharkhandRanchi

सिंथेटिक ट्रैक मामला: खेल विभाग में शुरू हुआ समीक्षा का दौर, जल्दी ही मिलेगा खिलाड़ियों को लाभ

Ranchi: रांची के बिरसा मुंडा फुटबॉल स्टेडियम में बिछाये गये सिंथेटिक ट्रैक और फुटबॉल मैदान के सुंदरीकरण कार्यों के संबंध में लगातार आती खबरों के बीच खेल विभाग में समीक्षा शुरू हो गयी है.

Advt

जानकारी के अनुसार 13 फरवरी को साझा कार्यालय, रांची (झारखंड खेल प्राधिकरण) के कार्यालय में सिंथेटिक ट्रैक निर्माण कार्य और इसे हैंडओवर लिये जाने संबंधी मसले पर गहन विचार विमर्श किया गया.

बैठक में विभागीय सचिव राहुल शर्मा, खेल निदेशक अनिल कुमार सिंह, एनआरइपी-2 के प्रतिनिधि और अन्य लोग शामिल हुए थे.

इसे भी पढ़ें : #CM ने दक्षिण पूर्व रेलवे के जीएम से की मुलाकात, कहा- झारखंड को डंपिंग यार्ड ना बनाये रेलवे

मुख्य सचिव ने लिया संज्ञान

NewsWing ने मोरहाबादी में बिछे सिंथेटिक ट्रैक मामले पर लगातार खबर प्रकाशित की. इसमें ट्रैक बिछाने और इसे हैंडओवर लिये जाने के मामले में हो रही आनाकानी के संबंध में जानकारी थी.

इन्हीं खबरों के आधार पर मुख्य सचिव डीके तिवारी ने संज्ञान लेते हुए 12 फरवरी को विभागीय सचिव और खेल विभाग के अन्य पदाधिकारियों से वस्तुस्थिति की जानकारी मांगी थी.

सिंथेटिक ट्रैक का लाभ उठाने को खिलाड़ी हैं बेचैन

शहर के बीचोंबीच स्थित बिरसा मुंडा फुटबॉल स्टेडियम में बिछाये गये आठ लेन के सिंथेटिक ट्रैक पर अभ्यास करने के लिए खिलाड़ी इंतजार में बैठे हैं.

सवा सात करोड़ की लागत से बिछाये गये ट्रैक और मैदान के सुंदरीकरण कार्यों का लाभ खिलाड़ियों को कब से मिलेगा, यह साफ साफ बताने वाला कोई नहीं है.

संवेदक के अनुसार उसने अपना काम पूरा कर दिया है. एनआरइपी को हैंडओवर लिये जाने के लिए पत्र भी लिखा जा चुका है. पर विभागीय स्तर से अब तक औपचारिक रूप से स्टेडियम को हैंडओवर लेने की सूचना नहीं है.

इसे भी पढ़ें : #IAS विनय चौबे बने नगर विकास सचिव, सुनील बर्णवाल को राजस्व पर्षद का अपर सदस्य बनाया गया

सिंथेटिक ट्रैक बिछाने के काम में त्रुटियों की शिकायत

खेल विभाग को पिछले साल (वर्ष 2019) ट्रैक बिछाये जाने के काम में कुछ शिकायतें प्राप्त हुई थीं. इसके आलोक में विभाग ने अपने स्तर से जांच समिति बनाकर इस संबंध में जानकारी देने को कहा.

समिति ने ट्रैक बिछाये जाने के कार्य में कुछ बिंदुओं पर आयी कमियों पर सहमति जतायी है. इधर स्टेडियम हैंडओवर नहीं लिये जाने से खिलाड़ी इसका लाभ उठाने से वंचित हो रहे हैं.

इसे भी पढ़ें : #Ranchi में आठ लेन के सिंथेटिक ट्रैक के लिए खर्च हुआ 7.27 करोड़, चंदनकियारी में छह लेन के लिए 11 करोड़!

Advt

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button