न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#CM ने दक्षिण पूर्व रेलवे के जीएम से की मुलाकात, कहा- झारखंड को डंपिंग यार्ड ना बनाये रेलवे

813

Ranchi : राज्य के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा है कि रेलवे झारखंड को डंपिंग यार्ड ना बनाये. देश में झारखंड एक ऐसा राज्य है जो रेलवे को संसाधनो से सबसे अधिक लाभ देता है. किंतु रेलवे अपनी ओर से ऐसा रेस्पॉन्स नहीं करती है.

उन्होंने यह बात शुक्रवार को मंत्रालय में दक्षिण पूर्व रेलवे के महाप्रबंधक संजय कुमार मोहंती से मुलाकात के दौरान कही. उन्होंने कहा कि राज्य के लोगों की सुविधा के अनुरूप ट्रेनों की संख्या नहीं है.

Aqua Spa Salon 5/02/2020

जो ट्रेन हैं उनमें अधिकांश की गुणवत्ता में बहुत खराब है. एसी कोच वाले ट्रेन में जो एसी लगे होते हैं, कई में उनकी भी क्वालिटी अच्छी नहीं होती है.

बैठक में रेलवे ने अपनी परियोजनाओं के सम्बंध में विभिन्न मामले रखे जिस पर मुख्य सचिव ने सभी मामलों में राज्य सरकार द्वारा ससमय की जा रही कार्रवाई के बारे में जानकारी दी.

इसे भी पढ़ें : #Ranchi में आठ लेन के सिंथेटिक ट्रैक के लिए खर्च हुआ 7.27 करोड़, चंदनकियारी में छह लेन के लिए 11 करोड़!

राज्य से समन्वय बनाकर काम करे रेलवे

महाप्रबंधक से बातचीत कर सीएम ने कहा कि दुमका-रांची ट्रेन और वनांचल एक्सप्रेस में एसी फर्स्ट और एसी टू के कम्पोजिट कोच लगाये जायें.

उन्होंने कहा कि झारखंड के सभी ट्रेनों में इस प्रकार की सुविधा दी जाये जिससे हर श्रेणी में यात्रा करने वाले यात्री सुविधा के साथ यात्रा कर सकें. कहा कि रेलवे ओवर ब्रिज(आरओबी) सिंगल एंटिटी में (या केवल रेलवे या केवल राज्य सरकार) बनाये.

Gupta Jewellers 20-02 to 25-02

मुख्यमंत्री ने कहा कि ऐसा बराबर देखा जाता है कि रेलवे लाइन के उपर का पुल रेलवे बनाती है और एप्रोच रोड राज्य सरकार द्वारा बनाया जाता है.

Related Posts

#Giridih: गाड़ी खराब होने के बहाने घर में घुसे अपराधियों ने लूटे ढाई लाख कैश व 50 हजार के गहने

धनवार के कोडाडीह गांव की घटना, तीन दिन पहले ही गृहस्वामी ने बेची थी जेसीबी

इससे पुल और एप्रोच रोड का एलाइनमेंट भी बहुत सुगम नहीं रह पाता है. उन्होंने कहा कि इनका उपयोग करने वाली जनता परेशान होती है.

मुख्यमंत्री ने दक्षिण पूर्व रेलवे के जीएम से कहा कि रेलवे राज्य में जहां रेलवे काम कर रहा है, वहां  डबल लाइन किये जाने के लिए पेड़ों के काटने की अनुमति की आवश्यकता है.

उन मामलों में एक साथ समेकित प्रस्ताव बनाकर भेजें ताकि वन विभाग का अनुमोदन मिल सके. अलग अलग टुकड़े में भेजने से काम के लम्बित होने की संभावना अधिक रहती है.

इसे भी पढ़ें : पुलवामा के शहीद विजय सोरेंग को रघुवर ने ठगा, CCL-BCCL फैमली मैटर की वजह से नहीं कर पा रही मदद

योजनाएं ऐसी जिससे वन्य जीवों को न हो परेशानी

मुख्यमंत्री ने कहा कि रेलवे अपनी योजनाएं ऐसी बनाये जिससे वन्य जीवों को किसी प्रकार की परेशानी न हो. अंडरपास या कोई और जो बेहतर तरीका हो वो किया जा सकता है.

मुख्यमंत्री ने कहा कि विकास कभी भी वन और वन्य जीवों और जैव विविधता को नुकसान ना पहुंचाये. बैठक में मुख्य सचिव डॉ डी के तिवारी,  भू राजस्व के सचिव के के सोन, पीसीसीएफ शशि नंदकुलियार, परिवहन सचिव के रवि कुमार, दक्षिण पूर्व रेलवे के जीएम संजय कुमार मोहंती, रांची के डीआरएम नीरज अम्बष्ठ सहित कई अधिकारी उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ें : तो क्या सरकार और NIOS के बदलते नियमों के कारण अप्रशिक्षित रह गये 4500 पारा शिक्षक

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like