न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

जमीन किसी की, मुआवजे का दावा किसी और ने किया

हाल बिरसा मुंडा अंतरराष्ट्रीय विमानपत्तन के लिए अधिगृहित की जानेवाली जमीन का

284

Ranchi: बिरसा मुंडा अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट के लिए अधिगृहित की जानेवाली जमीन के लिए चंदाघासी मौजा में दूसरे की जमीन का मुआवजा लेने के लिए आवेदन दिया गया है. प्लॉट संख्या 145 के खाता संख्या 151, 152, 169, 170 और अन्य के लिए चंदर तेली ने अपना दावा प्रस्तुत किया है. फिलहाल मो मंसूर अली के परिजनों के हस्तक्षेप करने के बाद जिला भू-अर्जन पदाधिकारी के यहां से चंदर तेली को सभी वास्तविक दस्तावेज प्रस्तुत करने का नोटिस भेजा गया है. एयरपोर्ट के नजदीक चंदाघासी और छोटाघाघरा में चार एकड़ से अधिक जमीन के लिए चंदर तेली ने अपने नाम से आवेदन दिया है. इस मौजा में चंदर तेली के नाम से प्लॉट नंबर 817 में 1.18 एकड़ जमीन दर्ज है. जो रजिस्टर-2 में भी अंकित है.

इसे भी पढ़ें – वोट कम और माफी ज्यादा मांग रहे चतरा से BJP प्रत्याशी सुनील सिंह, हो रहा भारी विरोध-देखें वीडियो

क्या है मामला

hosp3

बिरसा मुंडा एयरपोर्ट के विस्तारीकरण को लेकर भारतीय विमानन प्राधिकरण (एएआइ) ने तीन सौ एकड़ से अधिक की जमीन के अधिग्रहण का प्रस्ताव राज्य सरकार को दिया था. इसमें आसपास के आधा दर्जन से अधिक गांवों की जमीन सरकार की ओर से अधिगृहित की गयी है. इन गांव में छोटाघाघरा, चंदाघांसी, हुंडरू, हेथू, बड़ा घाघरा और आसपास के गांव शामिल हैं. सरकार की तरफ से प्रति डिसमिल मुआवजे की दर 90 से 95 हजार रुपये तय की गयी है. एयरपोर्ट के लिए जमीन अधिगृहित करने में कई फरजी मामले भी अब तक सामने आये हैं. एक दर्जन से अधिक मामले विभिन्न न्यायालयों में लंबित भी हैं. इसमें ही चंदर तेली ने मो मंसूर अली की जमीन पर अपना दावा प्रस्तुत कर मुआवजे की रकम हासिल करने का आवेदन भी दिया. इस बात की भनक लगने पर इजहारुल हक ने मुआवजे की राशि का भुगतान करने पर रोक लगाने की अरजी दी. इनका कहना है कि हमारी पुश्तैनी जमीन पर कई लोगों की नजर लगी हुई है. इसलिए चुपचाप कंपेनशेसन लेने की कोशिश की गयी है.

इसे भी पढ़ें – सीएम का दावा: लोहरदगा का पेशरार हुआ उग्रवाद मुक्त, जल्द आयेंगे प्रधानमंत्री

खतियान में प्लाट नंबर 145, 143, 146 के पन्ने गायब

नामकुम अंचल के चंदाघांसी मौजा के खतियान और रजिस्टर-2 में प्लाट नंबर 145, 143, 146 समेत कई अन्य के पन्ने गायब हैं. इतना ही नहीं खाता नंबर 151, 152, 170 प्लाट का आंकड़ा भी नहीं है. इस मौजा में गैर मजरुआ मालिक के नाम से 62 एकड़ से अधिक की जमीन और गैर मजरुआम के 14.42 एकड़ के दस्तावेज भी गायब हैं.

इसे भी पढ़ें – पलामू: भाकपा माले का घोषणा पत्र जारी, दीपांकर भट्टाचार्य ने भाजपा पर साधा निशाना

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: