JharkhandRanchi

झामुमो की भाजपा नेताओं को चुनौती, क्या भाजपा नेताओं ने सीएनटी और एसपीटी एक्ट का उल्लंघन नहीं किया है

  • पार्टी के केंद्रीय उपाध्यक्ष हेमंत सोरेन ने यदि गलत किया है, तो उन पर भी नियम सम्मत कार्रवाई हो
  • राजधानी रांची के सांप्रदायिक माहौल को अशांत करने की कोशिश चिंताजनक

Ranchi: झारखंड मुक्ति मोरचा ने भाजपा नेताओं द्वारा छोटानागपुरी काश्तकारी अधिनियम (सीएनटी) और संताल परगना काश्तकारी अधिनियम के प्रावधानों का उल्लंघन किये जाने पर की जा रही बयानबाजी पर खुली चुनौती दी है. पार्टी के केंद्रीय महासचिव सुप्रीयो भट्टाचार्य ने शनिवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि बार-बार राज्य सरकार द्वारा पार्टी के उपाध्यक्ष हेमंत सोरेन पर सीएनटी एक्ट का उल्लंघन कर जमीन खरीदने का आरोप लगाया जाता रहा है. सीएनटी एक्ट के मामले में जमीन का रीस्टोरेशन होना चाहिए. सरकार ने एक कमेटी भी गठित की है. पर उस पर कोई काम नहीं होता है. श्री सोरेन का नाम जान बूझ कर घसीटा जा रहा है.

इसे भी पढ़ें – CBI जांच शुरू होते ही बकोरिया से कांड से जुड़े कई अधिकारियों की बढ़ सकती हैं मुश्किलें

Catalyst IAS
SIP abacus

उन्होंने कहा कि भाजपा के कोई भी जनजातीय नेता यह दावा नहीं कर सकते हैं कि उन्होंने सीएनटी, एसपीटी एक्ट का उल्लंघन किया है. यदि झामुमो नेताओं पर लगे आरोप सिद्ध होते हैं, तो निश्चित ही कार्रवाई होना चाहिए. सीएनटी, एसपीटी एक्ट पर पार्टी के नेता हेमंत सोरेन का नाम घसीटना जानबूझ कर प्रतीत होता है. हमलोग उन्हें चुनौती दे रहे हैं. निष्पक्ष जांच हो और सब पर जांच हो. हम भी आते हैं, तो हमें भी लाया जाये.

Sanjeevani
MDLM

इसे भी पढ़ें- कर्नाटक : कांग्रेस-जेडीएस सरकार गिरने का खतरा, 11 विधायक इस्तीफा देने पहुंचे

सिविल पुलिसिंग की आवश्यकता

श्री भट्टाचार्य ने कहा कि शुक्रवार को रांची में सरायकेला-खरसावां मॉब लिंचिंग मामले पर जनाक्रोश सभा आयोजित की गयी थी. सभा के बाद रांची में कुछ उपद्रवी ताकतों द्वारा राजधानी के सांप्रदायिक माहौल को खराब करने की कोशिश की गयी. उन्होंने कहा कि अब सिविल पुलिसिंग करने की आवश्यकता है. राजधानी में कानून-व्यवस्था पूरी तरह ध्वस्त हो चुकी है. पुलिस सिर्फ वीआइपी लोगों की गतिविधियों तक सीमित रह गयी है. लोगों को अब सचेत रहने की आवश्यकता है. सरकार का खुफिया तंत्र फेल हो गया है. रांची में आयोजित आक्रोश रैली में लोगों की भावना अच्छे तरीके से परिलक्षित हुई. उन्होंने कहा कि हर तीन-तीन माह में राजधानी का माहौल अशांत हो जाता है. सिर्फ रांची ही नहीं रामगढ़, टंडवा समेत 20 मॉब लिंचिंग की घटना राज्य में हो चुकी है. भीड़ द्वारा जाति, धर्म को नहीं, बल्कि लोगों को टार्गेट कर प्रताड़ित किया जा रहा है. उन्होंने कहा कि झामुमो लगातार जन मुद्दों पर आंदोलन करता रहा है. जन मुद्दों को उठाना हमारा सरोकार है. हमारा मकसद है.

इसे भी पढ़ें – नोटबंदी-जीएसटी से कुछ नहीं बिगड़ा तो फिर पेट्रोल-डीजल पर अतिरिक्त टैक्स क्यों ?

Related Articles

Back to top button