JharkhandRanchiTop Story

लंबित मांगों को लेकर झारखंड आंदोलनकारियों ने मानव श्रृंखला बनायी, मुख्यमंत्री को ज्ञापन सौंपा

Ranchi : झारखंड आंदोलनकारी संघर्ष मोर्चा के तत्वावधान में बुधवार को अपनी लंबित मांगों के समर्थन में मोरहाबादी स्थित महात्मा गांधी की प्रतिमा के समक्ष मानव श्रृंखला बना कर प्रदर्शन किया गया. इस अवसर पर मोर्चा के कार्यकारी अध्यक्ष राजू महतो ने कहा कि झारखंड आंदोलनकारियों के अथक प्रयास और लगातार आंदोलन का ही परिणाम था कि अलग झारखंड राज्य मिला. पर राज्य अलग होने के बाद झारखंड अंदोलनकारियों के त्याग और बलिदान को बिसार दिया गया. जिनकी वजह से राज्य अलग हुआ वे आज दाने-दाने को मोहताज हो गये हैं. कुछ आंदोलनकारियों को सम्मान मिला है पर बड़ी संख्या में अभी आंदोलनकारी हैं जिन्हें न सम्मान मिला और न ही पेंशन या अन्य सुविधाएं.

इसे भी पढ़ें – रांचीः तिरंगे में लिपट कर आया चान्हो का लाल, लोगों ने नम आंखों से दी अंतिम विदाई

15 नवंबर तक करें सम्मानित

मौके पर राजू महतो ने कहा कि 15 नवंबर तक झारखंड अंदोलनकारियों को सम्मान मिलना चाहिए. इसके अलावा सरकार हमारी लंबित मांगों को भी जल्द से जल्द पूरा करे. अगर मोर्चा की मांगें पूरी नहीं की जाती हैं तो आंदोलनकारी फिर से आंदोलन करने पर मजबूर होंगे.

11 सूत्री मांगों को लेकर ज्ञापन सौंपा

मोर्चा की ओर से मुख्यमंत्री को 11 सूत्री मांगों से संबंधित ज्ञापन सौंपा गया. इनमें कहा गया है कि अभी तक कई विख्यात आंदलनकारियों को सम्मान नहीं मिला और न ही आंदोलनकारी के तौर पर उनकी पहचान की गयी है. मरांग गोमके जयपाल सिंह मुंडा, एनई होरो, विनोद बिहारी महतो, निर्मल महतो, देवेंद्र मांझी, सीपी तिर्की, डॉ रामदयाल मुंडा, डॉ बीपी केसरी, लाल रणविजय नाथ शाहदेव, रीतलाल प्रसाद वर्मा, एके राय, सोबरन अंसारी, बसीर अहमद जैसे आंदोलनकारियों को झारखंड रत्न देकर सम्मानित करना चाहिए.

इसके अलावा सरकार अपने पूर्व में पारित संकल्प के आधार पर झारखंड अंदोलनकारियों को चिकित्सा सुविधा, पेंशन, नियोजन और बच्चों के नियोजन का लाभ दे.

मोर्चा ने कहा है कि झारखंड आंदोलनकारी चिन्हितिकरण आयोग का पुनर्गठन अविलंब हो. आयोग में अध्यक्ष सहित 11 सदस्य हों तथा इसका कार्यकाल कम से कम तीन सालों के लिए किया जाये.

इसके अलावा छूटे हुए सभी अंदोलनकारियों के संबंध में शीघ्र ही विज्ञापन निकाल उन्हें भी सूचीबद्ध किया जाये.  झारखंड अंदोलनकारियों के लिए शहीद कॉरीडोर का निर्माण, चौक चौराहों का नामकरण, आंदोलनकारियों के नाम करने सहित अन्य मांगें भी शामिल हैं.

इसे भी पढ़ें – Vacancy: पोषण अभियान के लिये समाज कल्याण विभाग को चाहिये कंसल्टेंट, जानें डिटेल्स

ये थे शामिल

बुधवार को मानव श्रृंखला में रांची के अलावा कई और जिलों से आंदोलनकारी आये थे. इनमें अध्यक्ष डॉ वीरेंद्र कुमार सिंह, कार्यकारी अध्यक्ष राजू महतो, अश्विनी कुजूर, अजीत मिंज, राजकमल महतो, प्रफुल्ल तत्वा, सूर्यदेव भगत,  प्रवीण सहाय, किशोर किस्कू, क्यूम खान,  डॉ वीरेंद्र कुमार महतो, आजम अहमद, प्रवीण सहाय, प्रेम मित्तल, पुष्कर महतो सहित अन्य शामिल थे.

इसे भी पढ़ें – मुंगेर की घटना पर कांग्रेस ने नीतीश सरकार को घेरा, पूछा- क्या बिहार में मूर्ति विसर्जन करना अपराध है

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: