न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

लाठीचार्ज से घायल हुई पांच महिलाओं का चल रहा इलाज, लाठीचार्ज करनेवाले पुलिसकर्मियों को बर्खास्त करने की मांग

गुरुवार को सीएम का पुतला दहन करेंगी

359

Ranchi: सीएम आवास का घेराव करने जा रही आंगनबाड़ी सेविकाओं पर हुए लाठीचार्ज से उनमें काफी आक्रोश है. इन महिलाओं ने सरकार से मांग की है कि लाठीचार्ज करनेवाले पुलिसकर्मियों को बर्खास्त किया जाये. यदि सरकार उन पुलिसकर्मियों को बर्खास्त नहीं करती है तो आंदोलन और भी उग्र होगा.

देखें वीडियो-

देवघर से आयी राखी देवी ने बताया की सीएम आवास घेराव करने जा रही महिलाओं पर हुए लाठीचार्ज से लगभग 12 महिलाओं को गंभीर चोट लगी है. इनमें से पांच अब भी इलाजरत हैं. जिन महिलाओं का इलाज चल रहा है उनमें सुजाता देवी, कर्मी कुमारी, किरण कुमारी, हुस्ना आरा और विनिता देवी हैं.

इसे भी पढ़ें – सुनिये सरकार, लाठी चार्ज पर क्या कह रहे हैं लोग, कैसे कोस रहे हैं, पुलिस वाले भी उठा रहे हैं सवाल

hotlips top

अन्य महिलाओं को भी चोट लगी है. इलाज के बाद वे आंदोलनरत हैं. रेखा ने कहा कि महिला उत्थान की बात करनेवाली सरकार महिलाओं पर लाठीचार्ज कर रही है. बता दें कि मंगलवार को सीएम आवास का घेराव करने जा रही महिलाओं पर पुलिस ने लाठीचार्ज किया था.

आगे की रणनीति बनायी

झारखंड राज्य आंगनबाड़ी कर्मचारी संयुक्त संघर्ष मोर्चा के बैनर तले महिलाएं आंदोलन कर रही हैं. मोर्चा की ओर से बताया गया कि बुधवार शाम महिलाएं अल्बर्ट एक्का चौक में मशाल जुलूस निकालेंगी. वहीं गुरुवार को शाम छह बजे अल्बर्ट एक्का चौक में ही मुख्यमंत्री रघुवर दास और कल्याण मंत्री डॉ लुईस मरांडी का पुतला दहन किया जायेगा.

इसे भी पढ़ें – alexa.com रैंकिंग में देश में 18वें रैंक पर पहुंचा newswing.com

महिलाओं ने कहा कि रघुवर सरकार निरंकुश है. पढ़ी लिखी महिलाओं को बीच सड़क में मारा जा रहा है. सरकार की यह दमनकारी नीति है. रेखा देवी ने बताया कि पुलिसिया लाठीचार्ज के बाद घायल महिलाओं ने खुद इलाज कराया. सरकार की ओर से कोई पहल नहीं की जा रही है.

सात महिलाएं अब भी बैठी हैं अनशन पर

सात महिलाएं अब भी अनशन पर बैठी हैं. कुछ महिलाओं को दो दिनों के इलाज के बाद मंगलवार को ही आंदोलन स्थल लाया गया. जहां महिलाएं अब भी अनशन पर हैं. राज्य में आंगनबाड़ी सेविका, सहायिका और पोषण सखी 21 अगस्त से आंदोलनरत हैं.

इसे भी पढ़ें – #Dhullu तेरे कारण : मजदूर ने सपरिवार की कलेक्ट्रिएट के सामने आत्मदाह की कोशिश, पुलिस ने रोका

कोडरमा से आ रही महिलाओं के साथ चरही में हुई दुर्घटना

बुधवार को कोडरमा से आंगनबाड़ी बहनों का एक समूह आंदोलन में शामिल होने निकला. महिलाएं बस से सुबह छह बजे निकलीं. जहां चरही में बस दुर्घटनाग्रस्त हो गयी. इसमें लगभग 50 से 60 महिलाएं शामिल थीं.

आंगनबाड़ी सेविकाओं ने बताया कि अभी कितनी महिलाएं घायल हुईं इसकी जानकारी नहीं है. लेकिन बस सवार महिलाओं का हजारीबाग में इलाज कराया जा रहा है. महिलाओं ने इस दुख को व्यक्त करते हुए कहा कि सरकार अब भी नहीं सुन रही. महिलाएं कितनी तकलीफ में हैं.

इसे भी पढ़ें – देखें वीडियो- पुरुष पुलिसकर्मियों ने महिला आंगनबाड़ी सेविकाओं पर बरसायी लाठियां, थप्पड़ मारे

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

o1
You might also like