न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

ढुल्लू महतो की रंगदारी के खिलाफ जोर पकड़ रहा है आंदोलन

इंडस्ट्रीज एंड कॉमर्स एसोसिएशन ने कोयला लोडिंग के नगद भुगतान से किया इनकार

832

Dhanbad: कतरास क्षेत्र के लोडिंग प्वाइंटों पर वसूली जा रही रंगदारी के खिलाफ आंदोलन जोर पकड़ता जा रहा है. इंडस्ट्रीज एंड कॉमर्स एसोसिएशन ने कोयला लोडिंग का नगद भुगतान करने से इनकार कर दिया है. एसोसिएशन ने कहा है कि भीम एप से सीधे मजदूरों के खाते में मजदूरी का भुगतान किया जायेगा, ताकि उनको पूरा हक मिले. कोई बिचौलिया मजदूरों का हक नहीं मार सके. एसोसिएशन की इस घोषणा के बाद रंगदारी वसूलनेवालों में खलबली मची है.

400 से बढ़ कर 1250 रुपये हुई रंगदारी

लोडिंग मजदूरों के नाम पर पहले 400 रुपये रंगदारी लिंकेज होल्डरों से वसूली जाती थी. इसके बाद वसूली की दर बढ़ा कर 650 रुपये प्रतिटन कर दी गयी. इसके बाद रंगदारों ने इसे बढ़ा कर 1250 रुपये कर दिया. एसोसिएशन के अध्यक्ष बीएन सिंह ने रंगदारी वसूली को लेकर बाघमारा के विधायक ढुल्लू महतो पर आरोप लगाया है. वहीं, ढुल्लू ने कहा है कि वह मजदूरों के लिए लड़ते हैं इसलिए रंगदार कहे जाते हैं. इस बीच एसोसिएशन का पूर्व विधायक और मंत्री रहे जलेश्वर महतो, सांसद रवींद्र पांडेय, कांग्रेस नेता रणविजय सिंह, विजय झा, मासस नेता हलधर महतो, सामाजिक कार्यकर्ता अनिल पांडेय, ढुल्लू की रंगदारी का खुद को शिकार बतानेवाले जिला परिषद सदस्य सुभाष राय आदि ने समर्थन किया है.

सिर से ऊपर बहने लगा है पानीः बीएन सिंह

इंडस्ट्रीज एंड कॉमर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष बीएन सिंह ने न्यूज विंग से कहा कि अब पानी सिर के ऊपर से बहने लगा है. पहले 400 रुपये रंगदारी ली जाती थी. उसे बढ़ाकर 650 रुपये कर दिया. अब 1250 रुपये की मांग है. हम इंडस्ट्री चलानेवाले इतनी रंगदारी कहां से देंगे? एक हद होनी चाहिए. मजदूरों को 200-250 रुपये से ज्यादा का भुगतान नहीं किया जाता है. सारा पैसा रंगदार अपनी जेब में रख लेता है. हम चाहते हैं कि पैसा मजदूर को मिले. मगर, जिनको सरकार का संरक्षण है वह मनमानी कर रहे हैं. कोई रोकने-टोकनेवाला नहीं है.

मजदूरों ने कर दी है हड़ताल

इधर, मजदूरों ने रेट बढ़ाने के लिए हड़ताल कर दी है. इस कारण लोडिंग नहीं हो रही है. यह स्थिति कब तक रहेगी, कुछ कहा नहीं जा सकता. मामले में प्रशासन और बीसीसीएल प्रबंधन ने अब तक कोई ऐसा कदम नहीं उठाया है, जिससे लोडिंग चालू हो सके.

रवींद्र पांडेय को बताया मजदूर विरोधी

ब्लांक टू में असंगठित मजदूर संघ ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस किया. असंगठित मजदूर संघ के नेता शम्मी शर्मा ने कहा कि मजदूर विरोधी सांसद रवीन्द्र पांडेय ने डीओ आफर बंद करवा कर मजदूरों की रोजी-रोटी और काम छीनने का प्रयास किया था. विधायक ढुल्लू महतो के प्रयास और असंगठित मजदूरों की चट्टानी एकता ने इसे विफल कर दिया. बीसीसीएल प्रबंधन ने सभी मजदूरों की मांग मानने पर सहमति जताई.

इसे भी पढ़ें – विधायक और सांसद मिल कर रोज ही कर रहे हैं बीजेपी की छीछालेदर, पार्टी चुप, भगवान भरोसे झारखंड में पार्टी

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

%d bloggers like this: