न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

विधायक और सांसद मिल कर रोज ही कर रहे हैं बीजेपी की छीछालेदर, पार्टी चुप, भगवान भरोसे झारखंड में पार्टी

789

Akshay Kumar Jha

Ranchi: बाघमारा विधायक ढुल्लू महतो और गिरिडीह सांसद रवींद्र पांडेय दोनों मिल कर रोज ही बीजेपी की छीछालेदर कर रहे हैं. पार्टी की हरकतों को देखते हुए लोगों ने यह कहना शुरू कर दिया है कि देश में पार्टी राम भरोसे और झारखंड में पार्टी भगवान भरोसे है. नहीं तो एक ही पार्टी के विधायक और सांसद आपस में एक-दूसरे के कैरेक्टर पर रोज ही ऊंगुली उठा रहे हैं और पार्टी मौनव्रत धारण किये हुए है. पार्टी के अध्यक्ष का पूरे मामले पर किसी तरह का कोई बयान नहीं आया है. बयान लेने के लिए न्यूज विंग ने दो बार फोन भी किया तो पार्टी अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुआ ने फोन काट दिया. ऐसे में विश्व की सबसे बड़ी और अनुशासित पार्टी की भद पिट रही है और इसे रोकनेवाला कोई नहीं है. बात-बात पर बीजेपी के प्रदेश प्रवक्ता बयान जारी करते हैं. लेकिन इस गंभीर मुद्दे पर किसी प्रदेश प्रवक्ता की तरफ से अभी तक कोई बयान नहीं आया है.

पार्टी का प्रभारी कौन शायद ही कोई कार्यकर्ता जानता हो

देवेंद्र सिंह रावत के उत्तराखंड के सीएम बनने के बाद से एक तरह से प्रदेश प्रभारी की कुर्सी खाली ही मानी जा रही है. श्री रावत के समय से ही पार्टी के सहप्रभारी राम विचार नेताम हैं. लेकिन उनके पार्टी के राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने के बाद झारखंड में उनकी सक्रियता न के बराबर है. इधर श्री रावत के बाद पार्टी की तरफ से अरुण सिंह को झारखंड का प्रभारी बनाया गया. लेकिन आम कार्यकर्ताओं में शायद ही कोई उन्हें ठीक से जानता हो. यूपी के रहनेवाले अरुण सिंह दिल्ली की राजनीति में ज्यादा सक्रिय माने जाते हैं. लक्ष्मण गिलुआ के पार्टी का अध्यक्ष बनने के बाद से ही यह सवाल उठता रहा है कि लक्ष्मण गिलुआ की सक्रियता पार्टी में न के बराबर है. इक्का-दुक्का प्रेस कॉन्फ्रेंस के अलावा उन्हें कहीं भी नहीं देखा जाता है. ऐसे में झारखंड में पार्टी की रूप रेखा तय करनेवाला कोई नहीं है. जिसे जो मर्जी हो रही है वो कर रहा है.

पार्टी के कद्दावर नेता ही सरकार और पार्टी की गतिविधि पर उठाते हैं सवाल

ऐसा कई बार देखा जाता है कि पार्टी के कद्दावर नेता और पूर्व मुख्यमंत्री अर्जुन मुंडा और वर्तमान सरकार के मंत्री सरयू राय ही सरकार के काम-काज और पार्टी के अंदर के अनुशासन को लेकर सवाल उठाते रहते हैं. दोनों कद्दावर नेताओं ने पारा शिक्षक मामले पर भी सरकार को घेरा है. सरकार की नीति को गलत करार दिया है. सरयू राय आए दिन सरकार को विभागों की कार्यशैली को लेकर चिट्ठी लिखते रहते हैं. हालांकि किसी भी चिट्ठी को सरकार की तरफ से गंभीरता से लिया गया हो ऐसा उदाहरण अभी तक किसी को नहीं मिला है.

विधायक और सांसद के मामले को पार्टी ने गंभीरता से लिया हैः दीपक प्रकाश

बीजेपी के महामंत्री ने न्यूज विंग को बताया कि बाघमारा विधायक और गिरिडीह सांसद के मामले को पार्टी ने काफी गंभीरता से लिया है. पार्टी अपने स्तर से जांच कर रही है. जांच के बाद मामले के लिए जिम्मेदार कौन है तय किया जाएगा. लेकिन यहां गौर करने वाली बात यह है कि आए दिन ढुल्लू महतो और रवींद्र पांडेय एक-दूसरे के कैरेक्टर को लेकर प्रेस के सामने छीछालेदर कर रहे हैं.

इसे भी पढ़ें – विधायक ढुल्लू ने अपनी ही पार्टी के सांसद को कहा ‘उसका कैरेक्टर ढीला’, कमल संदेश के संपादक को कहा उसकी औकात नहीं

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: