JharkhandRanchi

बीजेपी मंत्री-सांसद विवाद : मार्केट निर्माण के निरीक्षण में गये थे डिप्टी मेयर, टारगेट बने मंत्री सीपी सिंह

  • कहीं बीजेपी की अंदरूनी राजनीति का केंद्र बिंदु तो नहीं है बकरी बाजार मार्केट
  • दोनों नेताओं के विवाद के पीछे तीसरी शक्ति की हो रही चर्चा
  • मंत्री सीपी सिंह ने कहा, 50 सालों से पार्टी की सेवा कर रहा हूं, आरोप लगानेवाले का तो तब अता-पता नहीं था

Ranchi : बकरी बाजार में बननेवाले मार्केट और पार्किंग पर बीजेपी सांसद महेश पोद्दार और बीजेपी विधायक सह नगर विकास मंत्री सीपी सिंह के बीच जो अनबन देखी जा रही है, कहीं वह बीजेपी की अंदरूनी राजनीति का तो हिस्सा नहीं है. यह सवाल इसलिए भी चर्चा में है कि करीब 4 माह बाद विधानसभा चुनाव होना है. वहीं रांची सीट से पांच टर्म विधायक रहे सीपी सिंह की जगह अब बीजेपी के ही कई नेता लेने को तैयार बैठे हैं. माना जा रहा है कि मार्केट मामले में दोनों के बीच के संघर्ष के पीछे कोई तीसरी शक्ति अहम भूमिका निभा रही है.

बीजेपी सांसद महेश पोद्दार के लिखे खुले पत्र पर नगर विकास मंत्री सीपी सिंह ने न्यूज विंग को बताया है कि पूरा मामला रांची नगर निगम का है. बकरी बाजार के निरीक्षण पर वे नहीं डिप्टी मेयर संजीव विजयवर्गीय अपने अधिकारियों के साथ गये थे. इसकी जानकारी भी उन्हें अगले दिन समाचार पत्र से हुई. मार्केट बनाने का काम निगम बोर्ड से भी पास नहीं हुआ है, ऐसे में मार्केट बनाने में मेरी भूमिका ही कहां है?  पूरे मामले पर उन्हें टारगेट किये जाने के सवाल पर मंत्री सीपी सिंह ने कहा कि मैं पिछले 50 सालों से पार्टी के लिए काम कर रहा हूं. आरोप लगानेवाले का तो तब पार्टी में अता-पता तक नहीं था. वहीं बीजेपी सांसद ने मंत्री पर टारगेट की चर्चा के सवाल पर कहा कि वे केवल राजधानी का विकास चाहते हैं. उन्हें चुनाव तो लड़ना नहीं है. विभागीय मंत्री को पत्र लिखने का मामला यह पहली बार नहीं है. सो इसे राजनीतिक रंग नहीं देना चाहिए.

इसे भी पढ़ें – मोदी सरकार चाहती है हर दिन सोने का अंडा देने वाली मुर्गी के सारे अंडे एक साथ निकालना  

पहल निगम ने की, पत्र लिख सवाल मुझसे क्यों : सीपी सिंह

मंत्री सीपी सिंह ने कहा कि बकरी बाजार मार्केट का निरीक्षण देखने संजीव विजयवर्गीय गये थे. अभी तो निगम ने मार्केट बनाने की शुरुआत ही की है. प्रस्ताव न तो बोर्ड से पास हुआ है, न ही इसकी कोई रूपरेखा बनी है. अगर वे मार्केट निर्माण की कोई पहल करते, तो वे प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से गुनाहगार होते, लेकिन पहल तो निगम ने की, जिसकी जानकारी उन्हें भी नहीं थी. ऐसे में सांसद ने उन्हें पत्र लिख उनसे सवाल क्यों किया. विभागीय मंत्री ने कहा कि निगम विभाग की एक ईकाई जरूर है, लेकिन उसका भी अपना अस्तित्व है. नगर विकास का काम तो केवल इतना ही है कि बोर्ड से पारित प्रस्ताव पर या तो स्वीकृति दे या न दे. शुक्रवार को ही समाचार पत्र से उन्हें जानकारी मिली कि निगम एदलहातू में खाली पड़ी अपनी 10 एकड़ जमीन पर एक क्वार्टर बनायेगा. अब क्या सांसद इसके निर्माण पर भी उन्हीं से सवाल पूछेंगे.

इसे भी पढ़ें – पहले जिस पप्पू लोहरा के साथ घूमते थे, अब उससे ही लड़ना पड़ रहा झारखंड पुलिस को

50 सालों से पार्टी की सेवा कर रहा, आरोप लगानेवाले का तो तब अता-पता नहीं था

विधानसभा चुनाव को देख उन्हें टारगेट किये जाने के सवाल पर विभागीय मंत्री ने कहा कि राजनीति में रहते हुए वे 50 सालों से पार्टी की सेवा कर रहे हैं. इसी सेवा को करते हुए इमरजेंसी के दौरान जेल तक गये. उस वक्त मुझ पर आरोप लगानेवाले का अता-पता तक नहीं था. मामले में वे टारगेट हैं कि नहीं, इससे उन्हें कोई मतलब नहीं है. मंत्री, विधायक और पार्टी कार्यकर्ता होने के नाते वे अपने दायित्व को ईमानदारीपूर्वक निभाते रहेंगे. जहां तक उनके विरुद्ध राजनीति करने की बात है, तो उनकी भी कुछ सीमाएं हैं. हर बातों का वे पलटवार नहीं कर सकते हैं.

मार्केट निर्माण से सहमत नहीं, तो पब्लिकली बोल दें मंत्री : महेश पोद्दार

सांसद महेश पोद्दार ने बताया कि उन्होंने नगर विकास पर कोई आरोप नहीं लगाया, बल्कि उनका ध्यान आकर्षित कराया है. वे चाहते हैं कि बच्चों के खेलने के लिए ओपन स्पेस राजधानी में बची रहे. जब उनकी बात कोई नहीं सुन रहा, तो विभागीय मंत्री होने के नाते मैंने उन्हें पत्र लिखा. ऐसा नहीं है कि उन्होंने पहली बार कोई पत्र विभागीय मंत्री को लिखा. लेकिन उनके किसी पत्र का जवाब ही नहीं मिलता. उन्होंने कहा कि मार्केट बनाने की फाइलें जब जायेंगी, तब का तब देखा जायेगा. अगर मंत्री सीपी सिंह मार्केट निर्माण से सहमत नहीं हैं, तो पब्लिकली बोल दें कि यहां मार्केट नहीं मैदान बने. बात यहीं खत्म हो जायेगी. मामले को राजनीतिक रूप दिये जाने की चर्चा के सवाल पर बीजेपी सांसद ने कहा कि चुनाव से इसका दूर-दूर तक कोई मतलब नहीं है. न तो वे उम्मीदवार हैं, न ही वे चुनाव लड़ना चाहते हैं. उनका मकसद केवल यही है कि राजधानी में नागरिक सुविधा काफी अच्छी रहे.

adv

प्रस्ताव भेजे जाने की डिप्टी मेयर ने कही थी बात

बता दें कि बकरी बाजार मार्केट और पार्किंग को लेकर निरीक्षण के दौरान ही डिप्टी मेयर संजीव विजयवर्गीय ने मीडिया को बताया था कि इससे जुड़ा प्रस्ताव जल्द ही विभागीय मंत्री को भेजा जायेगा. वहीं मार्केट निर्माण को लेकर मंत्री और सांसद के बीच विवाद के सवाल पर डिप्टी मेयर ने बताया कि उन्हें इसकी जानकारी नहीं है. हालांकि उन्होंने यहा जरूर कहा कि बकरी बाजार मार्केट निर्माण एचईसी में बन रहे रांची स्मार्ट सिटी का एक हिस्सा है.

इसे भी पढ़ें – सीएनटी एक्ट का उल्लंघन कर ब्रदर ने खरीदी 4.23 एकड़ जमीन, खरीदी 2.6 लाख में, बेची 4.72 करोड़ में

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: