JharkhandMain SliderRanchi

6th JPSC विवाद पर HighCourt : आयोग स्पष्ट करे अपना पक्ष नहीं तो JPSC सचिव भी होंगे तलब

विज्ञापन

♦    हाइकोर्ट में जेपीएससी परिणाम को लेकर हुआ जोरदार बहस

♦   सुनवाई की अगली तारीख तय

 25 जून और 31 जुलाई को होगी अगली सुनवाई

advt

Ranchi : 6ठी जेपीएससी परीक्षा विवाद को लेकर हाइकोर्ट में दायर याचिका की आज सुनवाई हुई. जेपीएससी परीक्षा को लेकर आज दो मामले की सुनवाई हुई. पहली सुनवाई राहुल कुमार और दूसरी सुनवाई मुकेश कुमार की ओर से दायर याचिका पर हुई. दोनों की अहम सुनवाई जज संजय कुमार द्विवेदी के बेंच में हुई. दोनों ही केस की सुनवाई करते हुए कोर्ट ने जेपीएससी को अपना पक्ष स्पष्ट करने को कहा है. ऐसा नहीं करने पर कोर्ट ने आयोग के सचिव को ही तलब करने की बात कही.

इसे भी पढ़ें – विनोबा भावे विवि के वीसी डॉ मुकुल नारायण देव को चाहिए 24 लाख की इनोवा गाड़ी, आइफोन और नया लैपटॉप

JPSC  ने 4 महीने से नहीं किया है काउंटर एफिडेविट फाइल

राहुल कुमार के मामले में वकील सुभाशीष रसिक सोरेन ने प्रार्थी का दमदार तरीके से पक्ष रखा. इसपर जेपीएससी के वकील संजय पीपरवाल ने आपत्ति दर्ज करायी कि उनको केस की पूरी कॉपी उपलब्ध नहीं हुई है.

इसपर प्रार्थी के वकील ने कहा कि जेपीएससी ने 4 महीने से काउंटर एफिडेविट फाइल नहीं किया है. केस की गंभीरता को देखते हुए कोर्ट ने आयोग के वकील को अगली तारीख पर स्पष्ट निर्देश लेकर आने को कहा. वहीं इस केस की अगली सुनवाई 25 जून को निर्धारित की गयी है.

adv

इसे भी पढ़ें – दिल्ली में कोरोना के सीरियस केस कम, होम क्वारेंटाइन लोगों को ऑक्सीजन पल्स मीटर देगी सरकार – केजरीवाल

फेल हो गये तो कर दिया केस – आयोग

वहीं दूसरी ओर मुकेश कुमार के मामले में करीब 20 मिनट दोनों पक्षों में बहस हुई. जिसपर आयोग के वकील ने कहा कि ये सभी फेल कैंडिडेट हैं, इसलिए इन्होंने केस किया है. इसपर प्रार्थी के वकील ने कड़ी आपत्ति दर्ज कर कहा कि पूरी नियुक्ति प्रक्रिया ही गलत है.

जेपीएससी ने अपने ही विज्ञापन का घोर उलंघन किया है. वकील के तर्क पर कोर्ट ने आयोग को कड़ी चेतावनी देते हुए समय पर काउंटर एफिडेविट फाइल करने को कहा है.

कोर्ट ने आयोग के वकील को स्पष्ट कहा कि जितना जल्दी हो काउंटर एफिडेविट फाइल करें. ऐसा नहीं करने पर जेपीएससी सचिव को तलब करने की बात कही है. इसके साथ ही प्रार्थी के वकील ने स्टे मांगा.

जिसपर कोर्ट ने कहा कि आयोग को पहले अपना पक्ष स्पष्ट करने का मौका दिया जाना चाहिए. और अगर चयन प्रक्रिया में गड़बड़ी पायी गयी तो पूरी प्रक्रिया कभी भी रद्द की जा सकती है. इस केस की अगली सुनवाई 31 जुलाई को निर्धारित की गयी है.

इसे भी पढ़ें – क्या होगा? धरती की तरफ तेजी से आ रहा ‘स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी’ से तीन गुना बड़ा उल्कापिंड

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button