न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#CoronaVirus : ढाई माह के बच्चे को लेकर परिजन घूमते रहे अस्पतालों में, हो गयी मौत, कोरोना जैसे थे लक्षण

717

Kolkata: जानलेवा कोरोना वायरस संक्रमण को लेकर फैली दहशत के बीच कोलकाता में दिल दहला देनेवाली घटना सामने आयी है. ढाई महीने के बच्चे को लेकर उसके परिजन अस्पतालों में घूमते रहे लेकिन कहीं भी उसे भर्ती नहीं लिया गया.

पांच अस्पतालों में घूमने के बाद रास्ते में ही बच्चे की मौत हो गयी. बच्चे को सर्दी, खांसी और बुखार जैसे कोरोना संक्रमण के लक्षण थे. बताया गया है कि ढाई महीने के बच्चे को सर्दी, खांसी, बुखार व निमोनिया आदि होने के बाद उसके मां-बाप पांच अस्पतालों में घूमने के बाद गुरुवार देर शाम मेडिकल कॉलेज अस्पताल पहुंचे.

इसे भी पढ़ें – #TabligiJamaat: दो दिन में 14 राज्यों से कोरोना के 647 मरीज सामने आये , जमात की वजह से बढ़े केस – स्वास्थ्य मंत्रालय

ऑक्सीजन नहीं मिलने की वजह से हुई मौत

इमरजेंसी वार्ड में जब बच्चे की जांच हुई तो पता चला कि उसकी रास्ते में ही मौत हो चुकी है. ऑक्सीजन नहीं मिलने की वजह से उसकी मौत हुई थी. चिकित्सकों ने बताया कि बच्चे की मौत रास्ते में हुई है इसलिए उसका पोस्टमार्टम किया जायेगी. उसके बाद परिवार को उसका शव दिया जायेगा.

इस बीच जब डॉक्टरों ने बच्चे के पोस्टमार्टम के लिए कागजात तैयार करना शुरू किया तो उसकी चिकित्सकीय हिस्ट्री तलाशी गयी. पता चला कि बच्चा कोलकाता के शिशु मंगल अस्पताल में भर्ती था. उसमें इलाज में लापरवाही का मामला सामने आया.

चिकित्सकों ने उसमें निमोनिया संक्रमण की पुष्टि की थी, फिर भी उसे घर भेज दिया गया था. इधर जो लक्षण निमोनिया के हैं वहीं कोरोना के भी हैं. इसलिए इमरजेंसी में बैठे डॉक्टरों के हाथ-पांव फूल गये थे. उसके शव को तुरंत संरक्षित किया गया और नमूने को जांच के लिए बेलियाघाटा नाइसेड व एसएसकेएम अस्पताल में भेज दिया गया.

इसे भी पढ़ें – #Fightagainstcorona : काफी मशक्कत के बाद रांची के कडरू स्थित हज हाउस को बनाया गया क्वॉरंटाइन सेंटर

कोरोना की जांच में रिपोर्ट निगेटिव

उसके मां-बाप को भी आइसोलेशन में रखने की व्यवस्था की गयी. बाद में गुरुवार रात आयी जांच रिपोर्ट में बच्चे को कोरोना निगेटिव बताया गया. सावधानी बरतते हुए कोलकाता मेडिकल कॉलेज अस्पताल में चिकित्सकों को भी अलग कर दिया गया था और चाइल्ड केयर सेंटर में प्रवेश करने के दरवाजे बंद कर दिये गये थे. सभी परिजनों को एक घर में रहने की सलाह दी गयी थी.

इसकी रिपोर्ट राज्य स्वास्थ्य विभाग को भेजी गयी है. बच्चे को लेकर उसके मां-बाप जिस-जिस अस्पताल में गये थे, वहां से रिपोर्ट तलब की जायेगी कि आखिरकार उसे भर्ती क्यों नहीं लिया गया?

इसे भी पढ़ें – #Ramgarh में उपासी देवी की भूख से हुई मौत के लिए हेमंत सरकार और जिला प्रशासन दोषी : दीपक प्रकाश

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

o1
You might also like