Corona_UpdatesJharkhandRanchiTOP SLIDER

CORONA UPDATE : प्राइवेट हॉस्पिटल में 50 फीसदी बेड कोरोना मरीजों के लिए रिजर्व

Ranchi : राज्य में कोरोना के गंभीर संक्रमितों की बढ़ती संख्या को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग ने कदम उठाये हैं. हेल्थ डिपार्टमेंट ने आदेश जारी किया है कि प्राइवेट हॉस्पिटल्स में अब कोरोना के मरीजों के लिए 50 फीसदी बेड रिजर्व रहेंगे. साथ ही यह भी कहा गया है कि जरूरत पड़ी तो 75 फीसदी बेड कोविड मरीजों के लिए बढ़ाये जा सकते हैं. जिससे अब कोरोना मरीजों के लिए बेड की कमी नहीं होगी.

इसे भी पढ़ें – उपायुक्त ने की कोरोना संक्रमण के लिए गठित कोषांगों की समीक्षा, कोरोना गाइडलाइन्स का उल्लंघन करने वाले प्रतिष्ठानों को सील करने का निर्देश

उल्लेखनीय़ है कि कोरोना संक्रमण में अचानक आये उछाल के कारण अस्पतालों पर बहुत अधिक दबाव बढ़ गया है. चाहे सरकारी अस्पताल हों या निजी, लगभग सभी अस्पताल फुल चल रहे हैं. निजी अस्पतालों का आलम तो यह है कि वहां 50-50 मरीज तक वेटिंग चल रहा है. बहुत मुश्किल से मरीजों को बेड मिल पा रहा है. गंभीर रोगियों के लिए तो और भी दिक्कत है, क्योंकि ऑक्सीजनवाले, आइसीयू बेड और वेंटिलेटर की संख्या सीमित है.

ऐसे में स्वास्थ्य विभाग द्वारा बेड की संख्या बढ़ाये जाने से मरीजों को राहत मिल सकेगी.

advt

इसे भी पढ़ें – कोरोना विस्फोट होने के बावजूद अस्पतालों में नहीं हो रहा कोविड प्रोटोकॉल का पालन

हेल्थ मिनिस्टर ने बुलाई आपात बैठक, स्किल सेंटर को कोविड सेंटर बनाने का निर्देश

हेल्थ मिनिस्टर मंत्री बन्ना गुप्ता ने नेपाल हाउस में स्वास्थ्य सचिव से मिलकर आपात बैठक की. जिसमें कोरोना संक्रमण के बढ़ते हुए मामले को देखते हुए ज्यादा प्रभावित जिलों के डीसी से फोन पर बातकर स्थिति की जानकारी ली. साथ ही बेड के इंतजाम, दवाइयों की स्थिति समेत अन्य विषयों पर दिशा निर्देश दिए. सचिव  केके सोन से मिलकर एक महत्वपूर्ण बैठक की, जिसमे राज्य में वर्तमान स्थिति की समीक्षा की गई.

1500 रेमडेसिविर इंजेक्शन आया

हेल्थ मिनिस्टर ने कल केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन से फोन पर बात कर दवा उपलब्ध कराने का आग्रह किया था. इसके बाद आज 1500 इंजेक्शन झारखंड को दिया गया है. उन्होंने कहा कि बढ़ते मरीजों की स्थिति देखते हुए स्किल इंडिया सेंटर के रेसिडेंशियल केंद्रों को भी कोविड सेंटर के रूप में तैयार करने कोकहा. स्वास्थ्य सचिव को निर्देश दिया गया कि स्थिति की समीक्षा कर उपलब्धता का आकलन करें ताकि जरूरत पड़ने पर उन्हें बेड के रूप में इस्तेमाल किया जा सके.

इसे भी पढ़ेंदेश विभाजन के बाद सांप्रदायिक दंगों में गीतकार गुलशन बावरा के सामने ही हुई थी माता-पिता की हत्या

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: