न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बकोरिया कांडः पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने डीजीपी को हटाने की मांग की

हाइकोर्ट के फैसले का स्वागत किया

637

Ranchi: बकोरिया कांड की जांच सीबीआइ से कराने के झारखंड उच्च न्यायालय के फैसले के बाद झारखंड की राजनीति गरमा गयी है. पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने इस फैसले का स्वागत किया है. उन्होंने घटना की जांच हाइकोर्ट की मॉनिटरिंग में ही कराने की बात कही है. साथ ही उन्होंने राज्य के डीजीपी डीके पांडेय को तत्काल प्रभाव से हटाने की भी मांग की है. उन्होंने कहा कि झामुमो समेत पूरा विपक्ष शुरू से ही बकोरिया कांड की उच्च स्तरीय जांच कराने की मांग कर रहा था. इसके लिए सदन से लेकर सड़क तक मांग की गयी थी. उन्होंने कहा कि मामले को इतना उठाये जाने के बाद भी राज्य सरकार सच को उजागर करने से भाग रही थी.

इसे भी पढ़ें – बकोरिया कांडः डीजीपी के कारण गृहमंत्री की हैसियत से मुख्यमंत्री रघुवर दास भी आ सकते हैं जांच के दायरे में

क्या कहा पूर्व मुख्यमंत्री ने

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा – विगत वर्षों से मैं, झामुमो और पूरा विपक्ष बकोरिया कांड के कोल्ड ब्लडेड मर्डर को लेकर सीबीआइ जांच की मांग करते आ रहे हैं. हमने सड़क से सदन तक रघुवर सरकार से इसकी उच्चस्तरीय जांच की मांग कि लेकिन उनके कानों में जूं भी नहीं रेंगा. शुरू से शासन, प्रशासन और पुलिसिया अधिकारियों का टालमटोल वाला रवैया इस मामले में एक बड़ा प्रश्नचिन्ह बनकर उभरा है. किसे बचाने की कोशिश कर रही है झारखंड की दुश्मन यह रघुवर सरकार? थक हार कर अब न्यायालय को बकोरिया कांड की जांच सीबीआइ को सौंपनी पड़ी। मैं हाकोर्ट के इस आदेश का स्वागत करता हूं.

इसे भी पढ़ें – बकोरिया कांड की सीबीआई जांच के फैसले का विपक्ष ने किया स्वागत, बीजेपी ने कहा : अभी चुप रहूंगा

क्या है मामला

8 जून 2015 को पलामू के बकोरिया में 12 लोगों को पुलिस ने मार गिराया था, जिन्हें पुलिस ने नक्सली करार दिया था. इनमें कई नाबालिग भी शामिल थे. घटना के बाद से ही यह मुठभेड़ सवालों के घेरे में थी. विपक्ष ने सड़क से लेकर सदन तक सरकार पर इस मामले में हमला बोला था. सरकार शुरू से ही उच्च स्तरीय जांच कराने से बचती रही.

इसे भी पढ़ें – बकोरिया कांडः मुठभेड़ स्थल की तसवीरें

 

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: