BiharBihar Election 2020

बिहार चुनाव : नित्यानंद राय के बयान से जदयू असहज, मुस्लिम वोटरों की नाराजगी का अंदेशा

नित्यानंद राय ने कहा था कि यदि बिहार में तेजस्वी यादव के नेतृत्व में यूपीए की सरकार बन गयी तो कश्मीर के आतंकवादी बिहार में शरण लेंगे

विज्ञापन

 Patna : केंद्रीय मंत्री नित्यानंद राय आतंकवाद वाले के बयान से जदयू असहज हो गयी है. जान लें कि नित्यानंद राय ने कहा था कि यदि बिहार में तेजस्वी यादव के नेतृत्व में यूपीए की सरकार बन गयी तो कश्मीर के आतंकवादी बिहार में शरण लेंगे.

जदयू को डर है  कि राय के बयान से जदयू को नुकसान होगा क्योंकि मुस्लिम समाज का एक तबका उन्हें वोट देने से परहेज नहीं करता, लेकिन ऐसे विवादास्पद बयान से वैसे मतदाताओं पर प्रतिकूल असर पड़ता है.

इसे भी पढ़ें : बिहार चुनाव : चिराग पासवान ने कहा, पिता की सलाह पर ही लोजपा अकेले उतरी, अमित शाह को बताया गया था

advt

नित्यानंद राय को ऐसे बयानों से बचना चाहिए : जदयू

जदयू   के बिहार इकाई के कार्यकारी अध्यक्ष अशोक चौधरी ने कहा कि नित्यानंद राय को ऐसे बयानों से बचना चाहिए. केंद्रीय गृह राज्यमंत्री नित्यानंद राय के उस बयान पर बुधवार को दिन भर आरोप-प्रत्यारोप का दौर चला.

इस बयान पर राजद नेता तेजस्वी ने पलटवार किया और कहा कि बिहार में तो बेरोजगारी, भुखमरी व पलायन का आतंकवाद है और यह सब राजग की देन है. तेजस्वी यादव ने सवाल किया कि 15 साल में डबल इंजन की सरकार ने क्या किया?

इसे भी पढ़ें : बिहार चुनाव पर नक्सली हमले का साया! सुरक्षा बलों का नक्सलियों के खिलाफ ऑपरेशन जंगल अभियान

नित्यानंद राय के बयान को तोड़-मरोड़ कर पेश किया गया : भाजपा

जदयू के इस रूख के बाद भाजपा ने भी सफाई दी कि उनका कहने का यह अर्थ नहीं था. बिहार के प्रभारी और पार्टी महासचिव भूपेन्द्र यादव ने कहा कि नित्यानंद राय के बयान को तोड़-मरोड़ कर पेश किया गया है.

adv

हालाँकि, राय ना तो अपने विवादास्पद बयान पर सफाई देने के लिए आगे आये और ना ही उन्होंने कोई ट्वीट कर इस बारे में कुछ कहा. इससे पूर्व राजद ने इस बयान के आधार पर बुधवार को नीतीश कुमार को घेरने की कोशिश की.

भाजपा लोगों का ध्यान भटकाने के लिए ही ऐसा बयान दे रही है

तेजस्वी यादव ने कहा कि बिहार में बेरोजगारी, भुखमरी और पलायन का आतंकवाद है. उनका कहना है कि दरअसल भाजपा इन सभी एजेंडा से लोगों का ध्यान भटकाने के लिए ही ऐसा बयान दे रही है. पार्टी के वरिष्ठ नेता शिवानंद तिवारी ने चुटकी लेते हुए कहा था कि लगता है भाजपा नेताओं को नीतीश कुमार के विकास पर भरोसा नहीं है, इसलिए धार्मिक ध्रुवीकरण के लिए अभी से ऐसे बयान दिये जा रहे हैं.

बता दें कि 2015 के विधान सभा चुनाव में भी भाजपा नेताओं ने इसी तरह के बयान किशनगंज में दिये थे. तब अमित शाह ने कहा था कि अगर महागठबंधन जीत गया तो पाकिस्तान में दीवाली मनायी जायेगी, पटाखे फोड़े जायेंगे. इस बयान से पार्टी को सीमांचल में विशेष लाभ मिला था.

इसे भी पढ़ें : बिहार चुनाव : चिराग पासवान का तंज, नीतीश कुमार को पीएम मोदी की तस्वीर की जरूरत, हमें नहीं, मोदी मेरे अभिभावक

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button