न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

आडवाणी ने ब्लॉग में लिखी ‘मन की बात’, कहा- राजनीतिक विरोधियों को कभी देश-विरोधी नहीं माना

देश सबसे पहले, पार्टी बाद में, आखिर में खुद

667

 New Delhi: भाजपा के भीष्म पितामह माने जानेवाले लालकृष्ण आडवाणी ने लंबे समय के बाद चुप्पी तोड़ी है. अपने मन भावनाओं को उन्होंने अपने ब्लॉग के जरिये व्यक्त किया है. गांधीनगर से इस बार पार्टी का टिकट नहीं मिलने के बादउन्होंने अपनी पहली सार्वजनिक टिप्पणी में पार्टी के नीतियों और सिद्धांतों को लेकर कई अहम बातें कही हैं. आडवाणी ने अपने ब्लॉग में लिखा कि हमने कभी भी राजनीतिक विरोधियों को दुश्मन या देशविरोधी नहीं माना.

इसे भी पढ़ें – #दुमकाः नौवीं बार शिबू होंगे सांसद या तीसरी बार खिलेगा कमल

अपने सिद्धांतों पर अटल रहने की कोशिश

श्री आडवाणी ने 6 अप्रैल को पार्टी के स्थापना दिवस से 2 दिन पहले एक ब्लॉग लिख कर गांधीनगर की जनता के प्रति आभार जताया है, जहां से वह 1991 के बाद 6 बार सांसद रहे. इस बार गांधीनगर से बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह मैदान में हैं. बीजेपी के संस्थापक आडवाणी ने ब्लॉग में लिखा है उनकी जिंदगी का सिद्धांत रहा है- देश सबसे पहले, उसके बाद पार्टी और आखिर में खुद. उन्होंने लिखा कि हर परिस्थिति में उन्होंने इस सिद्धांत पर अटल रहने की कोशिश की है जो आगे भी जारी रहेगी.

इसे भी पढ़ें – राशन कार्ड में नाम जुड़वाने में पेंच, गरीबों को दो जून की रोटी नहीं दे पा रही सरकार

साझा की राजनीतिक सफर की बातें

अपने ब्लॉग में आडवाणी ने अपने अबतक के राजनीतिक सफर के बारे में बातें साझा की हैं. उन्हों लिखा है कि कैसे वह 14 साल की उम्र में आरएसएस से जुड़े और किस तरह वह पहले जनसंघ और बाद में बीजेपी के संस्थापक सदस्यों में रहे और पार्टी के साथ करीब 7 दशकों तक जुड़े रहे. ब्लॉग में आडवाणी ने पार्टी के सिद्धांतों और नीतियों पर जोर देते हुए सभी राजनैतिक दलों से आत्मनिरीक्षण की अपील भी की.

Mayfair 2-1-2020

इसे भी पढ़ें – राजस्थान के राज्यपाल कल्याण सिंह पीएम मोदी का प्रचार कर फंसे, राष्ट्रपति बोले- एक्शन ले सरकार

भारतीय लोकतंत्र का सार उसकी विविधता

ब्लॉग में उन्होंने लिखा है कि भारतीय लोकतंत्र का सार उसकी विविधता और अभिव्यक्ति की आजादी है. उन्होंने लिखा कि अपने जन्म के बाद से ही, बीजेपी ने खुद से राजनीतिक तौर पर असहमति रखने वालों को कभी ‘दुश्मन’ नहीं माना, बल्कि उन्हें हमसे अलग विचार वाला माना है. इसी तरह, भारतीय राष्ट्रवाद की हमारी अवधारणा में, हमने राजनीतिक तौर पर असहमत होने वालों को कभी देश – विरोधी नहीं माना.’ ब्लॉग के आखिर में आडवाणी ने लिखा है कि सत्य, राष्ट्र निष्ठा और लोकतंत्र की तिकड़ी ने बीजेपी के विकास की पथप्रदर्शक रही हैं.

Sport House

इसे भी पढ़ें – आधा दर्जन से अधिक आइएएस को अतिरिक्त प्रभार, चुनाव पर्यवेक्षक बनाये गये अफसरों के कारण सौंपा गया अतिरिक्त प्रभार

SP Jamshedpur 24/01/2020-30/01/2020

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like