Corona_Updates

ओडिशा में लॉकडाउन का उल्लंघन करने वाले 54 लोगों को जबरन आइसोलेशन सेंटर में भेजा गया

Bhuwaneshwar : ओडिशा सरकार ने कोरोना वायरस के मद्देनजर भुवनेश्वर, कटक और भद्रक में 48 घंटे के शट डाउनका उल्लंघन करने के आरोपी 54 लोगों को जबरन सरकारी पृथक केंद्र में भेज दिया. अधिकारियों ने शनिवार को यह जानकारी दी.

Jharkhand Rai

उन्होंने बताया कि ओडिशा सरकार ने शुक्रवार रात आठ बजे से 48 घंटे के शट डाउन की घोषणा की थी और चेतावनी दी थी कि इसका उल्लंघन करने वालों को जबरन पृथक केंद्र भेजा जाएगा.

अधिकारियों ने बताया कि सरकार ने यह फैसला भुवनेश्वर के कोरोना वायरस से संक्रमण के केंद्र के रूप में उभरने के बाद लिया. राज्य में कुल आए 20 मामलों में 14 अकेले भुवनेश्वर शहर के हैं.

उन्होंने बताया कि बंद का उल्लंघन करने वाले 54 लोगों में 45 को भुवनेश्वर के पृथक केंद्र में भेजा गया है जबकि शेष भद्रक में स्थापित पृथक केंद्र में रखे गए हैं.

Samford

पुलिस उपायुक्त अनूप साहू ने बताया, ‘‘ शुक्रवार रात से अबतक 64 लोगों को हिरासत में लिया गया है जिनमें से 45 को पृथक केंद्र में भेजा गया है.’’

उन्होंने बताया कि हिरासत में लिए गए लोगों के खिलाफ भारतीय दंड संहिंता की धाराओं और ओडिशा कोविड-19 नियमन 2020 के तहत मामला दर्ज किया गया था.

साहू ने बताया कि मुख्य सड़कों पर नहीं लोगों के शहर की गलियों में भी घूमने पर रोक लगाई गई है.

भद्रक के जिलाधिकारी ने बताया कि जिले में नौ लोगों को पृथक वास में भेजा गया है और उनके खिलाफ मामला दर्ज किया गया है.

इसे भी पढ़ेंः #Giridih: छेड़खानी की शिकायत करने गयी पीड़िता को एसआइ ने फटकारा, सीएम से शिकायत के बाद किन्नर समेत छह पर केस

मुजफ्फरनगर में पुलिसवालों पर हमले का नेतृत्व करने वाले का पता बताने पर 25,000 का इनाम

इधर, कोविड-19 के मद्देनजर बंद का पालन कराने यहां एक गांव पहुंचे पुलिस दल पर ग्रामीणों के एक समूह द्वारा हमला किये जाने के मामले में अधिकारियों ने मुख्य आरोपी का पता बताने वाले को 25 हजार रुपये का इनाम देने की घोषणा की है. अधिकारियों ने शनिवार को यह जानकारी दी.

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) अभिषेक यादव ने कहा कि सुदेश ने पुलिस दल पर हमले का नेतृत्व किया और बुधवार को हुई इस घटना के बाद से ही फरार है.

इसे भी पढ़ेंः कोरोना का कहर : सुपर पावर अमेरिका लड़ाई में पिछड़ा, 7000 से ज्यादा मौतें, वैश्विक महामारी का केंद्र बना

एसएसपी ने कहा कि मुख्य आरोपी गांव के पूर्व प्रधान नाहर सिंह का बेटा है. उन्होंने बताया कि सिंह और चार अन्य ग्रामीणों को गिरफ्तार कर लिया गया है.

पुलिस ने कहा कि जिले के मोरना गांव में बंद लागू करवाने के लिये पहुंचे पुलिस दल पर हुए इस हमले में एक उपनिरीक्षक और एक कांस्टेबल बुरी तरह जख्मी हो गया था.

इस बीच, कटक पुलिस ने उल्लंघन करने के सिलसिले में 13 मामले दर्ज किए हैं और 55 मोटरसाइकिल जब्त की गई है. इसके साथ ही गत 24 घंटे में चार लाख 35 हजार रुपये का जुर्माना वसूला है.

इसे भी पढ़ेंः #Corona: मुस्लिमों को उकसाने के लिए सोशल मीडिया का इस्तेमाल,धर्म की आड़ में डाले जा रहे हैं भड़काऊ वीडियो

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: