न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

11 लाख को पानी पिलाने की योजना ठंडे बस्ते में,1100 करोड़ की योजनायें लंबित

पाइप लाइन बिछाने में जमीन बनी बाधा, राज्य में 20 फीसदी ग्रामीणों को ही मिलता है नल का पानी

73

Ranchi : प्रदेश में 11 लाख लोगों को पानी पिलाने की योजना ठंढ़े बस्ते में चली गई है. ग्रामीण पेयजलापूर्ति की 1100 करोड़ की योजनाएं लंबित हैं. योजनाओं के क्रियान्वयन में पड़ने वाले वन विभाग की जमीन, एनएच की जमीन सहित अन्य संस्थाओं की जमीन का अधिग्रहण सबसे बड़ी बाधा है. अब तक एनओसी नहीं मिल पाई है. इसमें जमीन सबसे बड़ी बाधा है. इसके कारण 630 करोड़ की गोविंदपुर नार्थ साउथ जलापूर्ति योजना, 138 करोड़ की साहेबगंज मल्टीविलेज जलापूर्ति योजना और 300 करोड़ की पांकी-छत्तरपुर-लेस्लीगंज जलापूर्ति योजना लंबित हैं. राज्य में सिर्फ 20 फीसदी ग्रामीणों को ही नल का पानी मिलता है.

इसे भी पढ़ें – News Wing Breaking :  बदल जायेगा राज्य का प्रशासनिक ढांंचा ! एचआर पॉलिसी, क्षेत्रीय प्रशासन, परिदान…

50 से अधिक जलापूर्ति योजना कागजों में

राज्य में 50 से अधिक जलापूर्ति योजना कागजों में ही सिमट कर रह गई हैं. इसमें प्रमुख रुप से गुमला शहरी जलापूर्ति योजना, गढ़वा शहरी जलापूर्ति योजना, चाईबासा शहरी जलापूर्ति योजना, मिहिजाम शहरी जलापूर्ति योजना, जामताड़ा शहरी जलापूर्ति योजना, जामताड़ा शहरी जलापूर्ति योजना, कतरास, धनबाद, चिरकुंडा, गिरिडीह, बिरसनगर, जुगसलाई, मानगो, चतरा, झुमरी तिलैया, दुमका, साहेबगंज और पाकुड़ शहरी जलापूर्ति योजनायें शामिल हैं.

इसे भी पढ़ें – विभागों में निलंबित करने और निलंबन मुक्त करने के लिए काम करती है लॉबी

नक्सल प्रभावित जिलों में नहीं पहुंचा नल का पानी

नक्सल प्रभावित जिलों में नल का पानी भी अब तक नहीं पहुंच पाया है. नक्सल प्रभावित जिलों में नल का पानी पहुंचाने के लिये सौर आधारित 2000 लघु जलापूर्ति योजना स्वीकृत की गई थी. इसमें नक्सल प्रभावित 1844 लघु ग्रामीण जलापूर्ति योजनायें भी शामिल हैं. इस योजना के तहत पूर्वी सिंहभूम, दुमका, गढ़वा, खूंटी, पलामू और सरायकेला को जोड़ा जाना था.

इसे भी पढ़ें –  डेढ़ साल से ढिबरी युग में जी रहे कलाईपुरा के ग्रामीण, कहा- बिजली नहीं मिली, तो नहीं करेंगे मतदान

इन योजनाओं को भी मिली थी स्वीकृति

20.31 करोड़ से 2973 स्कूलों में नलकूप का निर्माण

264.33 करोड़ से 37 ग्रामीण जलापूर्ति योजनाओं का निर्माण

72.97 करोड़ से 12 ग्रामीण जलापूर्ति योजनाओं का निर्माण

ये ग्रामीण जलापूर्ति योजनाएं भी नहीं हुईं पूरी

इसे भी पढ़ें – जमीन अधिग्रहण रुकने से नहीं हो पा रहा डोरंडा के घाघरा में हॉस्पिटल निर्माण कार्य

योजना का नाम                  राशि (करोड़ में)

पांकी                                                                      41.35 करोड़

टुंडी मलडीहा                                                         32.44 करोड़

छत्तरपुर                                                                 67.17 करोड़

पत्थरगढ़ा                                                                 10.17 करोड़

टुंडी कोल्हर                                                               55.43 करोड़

बलियापुर                                                                   71.96 करोड़

बरहरवा                                                                      09.99 करोड़

सतगांवा                                                                      12.25 करोड़

सरैयाहाट                                                                      12.25 करोड़

इसे भी पढ़ें – जुर्माना लगने पर भी नहीं सुधर रहे चालक, बिना परमिट के एमजी रोड में दौड़ा रहे हैं 250 ई-रिक्शा

अब तक किस जिले में कितने को नल का पानी

silk_park

जिला                    कितने को नल का पानी(लाख में)

चतरा                    1.07

देवघर                    1.07

धनबाद                   3.09

दुमका                    3.04

गढ़वा                    3.45

गिरिडीह                        6.58

गोड्डा                    2.86

गुमला                    1.65

हजारीबाग                 5.79

जामताड़ा                 70 हजार

खूंटी                     1.15

कोडरमा                  91 हजार

लातेहार                   1.03

लोहरदगा                 80 हजार

पाकुड़                    1.19

पलामू                    2.18

पश्चिमी सिंहभूम           2.56

पूर्वी सिंहभूम               2.21

रामगढ़                   1.97

रांची                     4.11

साहेबगंज                 3.15

सरायकेला                 1.05

सिमडेगा                  48 हजार

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: