न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#Turkey समर्थक विद्रोहियों का #Syria पर हमला, नौ लोगों को मौत के घाट उतारा, तीन दिन से हो रही है जंग

744

Berut: कुर्द नागरिक उत्तर-पूर्वी सीरिया में प्रमुख शहरों से भाग रहे हैं क्योंकि तुर्की की सेना ने लगातार तीसरे दिन भी बमबारी को जारी रखा.

पूर्वोत्तर सीरिया में कुर्द लड़ाकों के नियंत्रण वाले क्षेत्र में तुर्की की सैन्य कार्रवाई में शनिवार को एक महिला नेता समेत कम से कम नौ नागरिकों को “मौत के घाट उतार दिया’’ गया. संघर्ष पर नजर रखने वाली संस्था सीरियन ऑब्जर्वेटरी फॉर ह्यूमन राइट्स ने यह जानकारी दी.

संस्था ने कहा कि नौ नागरिकों की तल अब्याद कस्बे के दक्षिण में अलग-अलग मौकों पर हत्या कर दी गयी. कुर्द लड़ाकों का कहना है कि मारे गये लोगों में कुर्दी नेता हेवरिन खलाफ और उनका चालक भी शामिल है.

इसे भी पढ़ें- नेता पापा कहते हैं, मेरे बेटे को विधायक बना दो

निहत्थे नागरिकों के प्रति अपनी आपराधिक नीति जारी रखे हुए है तुर्की 

कुर्द लड़ाकों की अगुवाई वाले सीरियन डेमोक्रेटिक फोर्सेज (एसडीएफ) की राजनीतिक शाखा ने एक बयान में बताया कि 35 वर्षीय खलाफ को तुर्की समर्थित हमले के दौरान उनकी कार से बाहर निकाला गया और तुर्की का समर्थन कर रहे लड़ाकों ने उनकी हत्या कर दी.

Whmart 3/3 – 2/4

शाखा ने कहा कि यह इस बात का साफ-साफ प्रमाण है कि तुर्की निहत्थे नागरिकों के प्रति अपनी आपराधिक नीति जारी रखे हुए है. खलाफ फ्यूचर सीरिया पार्टी की महासचिव थीं. कुर्द राजनीति के विशेषज्ञ मुतलु सिविरोगलु ने उनकी मौत को “बड़ी क्षति” बताया है.

इसे भी पढ़ें- फरार अपराधी अमन साव ने फेसबुक पर जारी किया वीडियो, कहा, विकास तिवारी गैंग से मिलकर मुझे फंसा रहे हजारीबाग पुलिस के अफसर, देखें पूरा वीडियो

हत्याओं के दो वीडियो सोशल मीडिया पर पोस्ट

Related Posts

कोरोना वायरस संकट : जापान में लागू हो सकती है इमरजेंसी,  प्रधानमंत्री ने प्रस्ताव रखा

पाकिस्तान में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 3200 के पार

कुर्द कार्यकर्ताओं ने इन हत्याओं के दो वीडियो सोशल मीडिया पर पोस्ट किये हैं जिसकी निगरानी संस्था ने पुष्टि भी की है. ऑब्जर्वेटरी के मुताबिक इन हत्याओं के साथ ही हमले की शुरुआत से सीरिया में अब तक कम से कम 38 आम लोग मारे जा चुके हैं.

शनिवार देर रात सीरियन नेशनल आर्मी ने कहा कि अनुचित व्यवहार करने वालों पर कड़े प्रतिबंध लगाये जाएंगे और सैन्य अवज्ञा के लिए कानून के समक्ष लाया जायेगा.

इसे भी पढ़ें- डबल डिजिट में पहुंचने को आजसू बेकरार, 19 सीटों पर है दावेदार

फ्रांस, जर्मनी ने तुर्की को हथियार निर्यात पर लगायी

रोक

सीरिया में कुर्द लड़ाकों के खिलाफ तुर्की के हमले को लेकर फ्रांस और जर्मनी ने तुर्की को किये जाने वाले हथियारों के निर्यात पर शनिवार को रोक लगा दी. यूरोप के कई शहरों में रैलियां कर प्रदर्शनकारियों ने तुर्की की निंदा की है.

तुर्की के सैनिकों ने कुर्द लड़ाकों के खिलाफ बुधवार को सीमा पार से हमले करने शुरू कर दिए थे. तुर्की इन लड़ाकों को आतंकवादियों की तरह देखता है.

रक्षा और विदेश मंत्रालयों की ओर से जारी संयुक्त बयान में फ्रांस ने कहा कि उसने तुर्की को “हथियार सामग्रियों’’ की नियोजित निर्यात पर रोक लगा दी है. यह रोक इस आशंका के बीच लगायी गयी है कि इन हथियारों का प्रयोग सीरिया पर किये जा रहे हमलों में किया जा सकता था.

जर्मनी के उस बयान के बाद फ्रांस ने बयान जारी किया कि उसने हथियार निर्यात पर रोक लगा दी है. जर्मनी तुर्की का मुख्य हथियार आपूर्तिकर्ता है. कई देशों ने तुर्की के हमले की निंदा की है और फिनलैंड, नॉर्वे और नीदरलैंड पहले ही तुर्की को हथियार निर्यात पर रोक लगाने की घोषणा कर चुका है.

न्यूज विंग की अपील


देश में कोरोना वायरस का संकट गहराता जा रहा है. ऐसे में जरूरी है कि तमाम नागरिक संयम से काम लें. इस महामारी को हराने के लिए जरूरी है कि सभी नागरिक उन निर्देशों का अवश्य पालन करें जो सरकार और प्रशासन के द्वारा दिये जा रहे हैं. इसमें सबसे अहम खुद को सुरक्षित रखना है. न्यूज विंग की आपसे अपील है कि आप घर पर रहें. इससे आप तो सुरक्षित रहेंगे ही दूसरे भी सुरक्षित रहेंगे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like