न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

अंदरुनी कलह के बीच राजद की अहम बैठक आज, शामिल होंगे तेजस्वी यादव

शुक्रवार को राबड़ी आवास पर हुई बैठक में शामिल नहीं हुए थे लालू यादव के दोनों बेटे तेजप्रताप और तेजस्वी यादव, इसलिए शनिवार को फिर से होगी मीटिंग

652

Patna: राजद में चल रहे अंदरूनी उठापटक के बीच शनिवार को फिर से पार्टी की अहम बैठक होगी. जिसमें विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष और लालू यादव के छोटे बेटे तेजस्वी यादव शामिल होंगे. दरअसल, शुक्रवार को हुई बैठक में लालू परिवार से सिर्फ राबड़ी देवी इस बैठक में शामिल हुईं थी, और मीटिंग का नेतृत्व किया था.

इसे भी पढ़ेंःकश्मीर मसले पर UNSC की बैठक में पाकिस्तान के साथ सिर्फ चीन, रूस ने निभायी भारत से दोस्ती

तेजस्वी, तेजप्रताप और मीसा भारत बैठक से नदारद थे, जिसके बाद शनिवार को फिर से बैठक होगी. माना जा रहा है कि इस मीटिंग में तेजस्वी यादव को पार्टी के कुछ पुराने और वरिष्ठ नेताओं की नाराजगी झेलनी पड़ सकती है.

तेजस्वी के नदारद होने से उठे थे सवाल

इससे पहले शुक्रवार को पार्टी में अंदरुनी कलह एकबार फिर तब सामने आ गया, जब यहां आयोजित पार्टी की एक अहम बैठक में तेजस्वी यादव शामिल नहीं हुए.

hotlips top

राजद सूत्रों ने बताया कि लोकसभा चुनाव में पार्टी के खराब प्रदर्शन के बाद ऐसी अटकलें हैं कि कई नेता मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पार्टी जदयू से जुड़ने की योजना बना रहे हैं. यह बैठक उन अटकलों की पृष्ठभूमि में हुई.

पार्टी सूत्रों ने कहा कि इस बैठक में पार्टी के सभी विधायकों, विधान पार्षदों के अलावा राज्यसभा सदस्यों और शीर्ष पदाधिकारियों को शामिल होना था, लेकिन ‘राज्य विधानमंडल के दोनों सदनों के करीब आधे सदस्य इस बैठक में शामिल नहीं हुए.

बैठक में शामिल नहीं होने वालों में लालू प्रसाद के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव और उनकी बेटी राज्यसभा सांसद मीसा भारती भी शामिल हैं. लेकिन सबसे ज्यादा 30 वर्षीय तेजस्वी यादव की कमी महसूस हुई.

इसे भी पढ़ेंःहटियाः नवीन जायसवाल को लेकर बीजेपी में असमंजस, पुराने कार्यकर्ता पर पार्टी जता सकती है भरोसा

पुराने नेताओं की अनदेखी!

शनिवार को दोबारा होने वाली इस बैठक में माना जा रहा है कि तेजस्वी यादवों को पार्टी के कुछ पुराने नेताओं की नाराजगी झेलनी पड़ सकती है.

सूत्रों की मानें तो, पटना के 10 सर्कुलर रोड स्थित पूर्व सीएम राबड़ी देवी के आवास पर होनेवाली इस बैठक होने में एक बार फिर पार्टी के पुराने नेताओं की हो रही अनदेखी का मुद्दा उठाया जा सकता है.

बता दें कि शुक्रवार को हुई बैठक में पूर्व केंद्रीय मंत्री कांति सिंह ने कहा था कि पार्टी के पुराने नेताओं को दरकिनार किया जा रहा है, पार्टी चापलूसों से भर गई है.

वहीं शुक्रवार को हुई मीटिंग में तेजस्वी के गायब होने पर शिवानंद तिवारी ने कहा था कि, हमलोग एक्सपेक्ट करते हैं कि वो पार्टी की अहम बैठकों में शामिल हो.

हालांकि, पूर्व डिप्टी सीएम का बचाव करते हुए रघुवंश प्रसाद ने कहा था कि अगर तेजस्वी बैठक में नहीं हैं, तो वो पार्टी के किसी काम से कहीं दूसरी जगह व्यस्त हैं.

इसे भी पढ़ेंःमहागठबंधन पर संकट के बादल, प्रदेश अध्यक्ष नहीं होने से कांग्रेस कार्यकर्ता हतोत्साहित

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

o1
You might also like