Corona_UpdatesEducation & Career

#Corona की चपेट में मैट्रिक-इंटर के 6.21 हजार बच्चों का रिजल्ट, रुका है मूल्यांकन कार्य

Ranchi: कोरोना वायरस की वजह से हुए लॉकडाउन ने राज्य के 6.21 हजार विद्याथिर्यों के भविष्य को अपनी चपेट में लिया है. राज्य में मैट्रिक-इंटर परीक्षा का खत्म हुए लगभग एक महीने हो चुके हैं.

समय पर रिजल्ट दे सकें इसके लिए कॉपियों के मूल्यांकन का कार्य भी शुरू हो चुका था, लेकिन कोरोना के खतरे को देखते हुए सभी मूल्यांकन के कार्य को रोक दिया गया है.

इसे भी पढ़ेंःInterview :  लॉकडाउन में नकारात्मकता से बचें, रचनात्मकता को अपनाएं : मनोवैज्ञानिक डॉ. समीर पारिख

ऐसे में मैट्रिक और इंटर की परीक्षा में शामिल हुए छह लाख से अधिक परीक्षार्थियों को रिजल्ट के लिए इंतजार ही करना होगा. जैक सचिव महीप कुमार सिंह बताते हैं कि 14 अप्रैल के बाद सरकार के आदेश के अनुरूप ही मूल्यांकन कार्य शुरू किया जायेगा.

621384 परीक्षार्थी राज्य भर से हुए शामिल 

जैक की ओर से लिए गये मैट्रिक और इंटर की परीक्षा में राज्य भर से 621384 स्टूडेंट्स शामिल हुए हैं. राज्य में दोनों ही परीक्षाओं के लिए 1310 परीक्षा केंद्र बनाये गये हैं. आंकड़ों की बात करें तो मैट्रिक के 940 केंद्रो पर 387021 तो इंटर में 470 केंद्रों पर 234363 परीक्षार्थी शामिल हुए. इंटर आर्ट्स की परीक्षा में 129263, कॉमर्स में 28515 व साइंस में 76585 परीक्षार्थी शामिल हुए हैं.

सबसे अधिक परीक्षार्थी रांची तो सबसे कम पाकुड़ से

पिछले वर्ष की तरह इस बार भी मैट्रिक व इंटरमीडिएट दोनों ही परीक्षा में सबसे अधिक परीक्षार्थी रांची जिले से रहे. रांची से मैट्रिक में 34080 तो इंटर में 32960 परीक्षार्थी परीक्षा में शामिल हुए. मैट्रिक व इंटर दोनों में सबसे कम परीक्षार्थी पाकुड़ से हैं. यहां मैट्रिक के 5690 तो इंटर के 2651 परीक्षार्थी शामिल हुए.

20 मार्च से होना था मूल्यांकन

गौरतलब है कि मैट्रिक व इंटर की कॉपियों का मूल्यांकन कार्य पहले 17 मार्च से शुरू होना था, जिसे परिवर्तित करते हुए 20 मार्च किया गया. इस वर्ष मूल्यांकन के लिए राज्य में 67 केंद्र बनाये गये हैं. जिसमें रांची जिला में 14 केंद्र हैं. इसमें मैट्रिक के 7 और इंटर के 7 केंद्र हैं.

इसे भी पढ़ेंः#Jharkhand में तीसरे कोरोना पॉजिटिव का तबलीगी कनेक्शनः बांग्लादेश में जमात में शामिल होकर लौटी थी महिला

नये मूल्यांकन प्रक्रिया के तहत एक परीक्षक को अधिकतम 30 कॉपियों का मूल्यांकन करना है. जैक ने इस वर्ष मई के पहले सप्ताह में रिजल्ट देने का सोचा था. लेकिन कोरोना वायरस की वजह से हुए लॉक डाउन ने रिजल्ट में देर होने की संभावना को बढ़ा दिया है.

किस जिले से कितने परीक्षार्थी

जिलामैट्रिकइंटर
रांची35,98537330
गुमला140307939
लोहरदगा77034249
सिमडेगा71443939
खूंटी64144203
हजारीबाग2868923972
गिरिडीह3572619733
धनबाद3106826439
चतरा1844111189
बोकारो3033023253
कोडरमा121147722
रामगढ़1543111368
पलामू3986130592
गढ़वा2195313331
लातेहार105104919
दुमका132118560
देवघर1603010959
साहेबगंज118447821
पाकुड़66674276
गोड्डा162079520
जामताड़ा77905106
पूर्वी सिंहभूम2358820535
प. सिंहभूम162799942
सरायकेला142598938

इसे भी पढ़ेंःधनबाद : लोग नहीं रख रहे सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल, बेवजह बाइक से निकल कर रहे खरीदारी

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: