INTERVIEWSRanchi

Interview : ..फिर क्या भाजपाई हो जायेंगे प्रदीप यादव ! जानिये क्या कहा न्यूजविंग से

Ranchi : झारखंड विकास मोर्चा के भाजपा में विलय की अटकलों की चर्चा राजनीतिक गलियारे में गहराती जा रही है. शुक्रवार को झाविमो की केन्द्रीय कार्यसमिति का गठन किया गया. पार्टी के दो विधायकों को पार्टी के सांगठनिक दयित्व से अलग रखा गया है.

केन्द्रीय कार्यसमिति में प्रदीप यादव एवं बंधु तिर्की को सिर्फ केन्द्रीय समिति का सदस्य बनाया गया है. वहीं झाविमो के वरिष्ठ नेताओं के बीच संवादहीनता की स्थिति भी दिख रही है. बाबूलाल मरांडी ने केन्द्रीय कार्य समिति में सिर्फ सदस्य के रूप में पार्टी के दोनों विधायकों को रखा है.

जो पूर्व में प्रधान महासचिव व केन्द्रीय सचिव थे. चर्चा है कि भाजपा में विलय करने वाले लोगों को लेकर कार्यसमिति का गठन किया गया है. इन हालात में बड़ा प्रश्न उठता है कि पार्टी का विलय अगर भाजपा में होता है तो क्या भाजपाई हो जायेगे प्रदीप यादव? हमने इन सवालों के जवाब उनसे पूछे हैं:

 

फ्लोर पर मामला आने के बाद ही तय होगा

न्यूजविंग से बातचीत में प्रदीप यादव ने दो टूक कहा कि विलय की बात सार्वजनिक रूप से सामने नहीं आयी है. कौन कहां जाना चाहता है, यह फ्लोर पर मामला आने के बाद ही तय होगा.

मीडिया में प्रकाशित खबरों के संबंध में प्रदीप यादव ने कहा कि अगर कोई सुगबुगाहट होती है, तभी किसी बात का चर्चा शुरू होती है. अगर बाबूलाल भाजपा में जाते हैं तो इस स्थिति में प्रदीप यादव क्या भाजपा में शामिल होंगे.

इस सवाल के जवाब में सीधे तौर पर कहा कि जब मामला सामने आयेगा तब देखा जायेगा. पार्टी के विधायक बंधु तिर्की से बातचीत के बारे में प्रदीप यादव ने कहा, ”हां वे मिलने आये थे. काफी देर बातचीत हुई. बंधु तिर्की भी बीजेपी में शामिल होने के पक्षधर नहीं हैं. यह तो सच है कि उहापोह की स्थिति बनी हुई है.

बाबूलाल जी को भी पता है कि हम दोनों उधर जाने को तैयार नहीं हैं. आगे क्या कुछ निकल कर सामने आता है, उसे देख रहे हैं”

प्रदीप यादव ने सफ तौर पर कहा कि कौन कहां जाना चहता है, या फिर पार्टी में रहना चहता है, इस पर मिल बैठ का निर्णय जाना चाहिए. केन्द्रीय कार्य समिति में किसी पद का दयित्व नही मिलने पर प्रदीप ने कहा कि कार्य समिति के गठन में बाबूलाल जी ने मापतौल कर लोगों को रखा है.

इसे भी पढ़ेंः #Citizenship देने के नाम पर ऐसा कानून लायी सरकार कि अपने ही देश के लोग हो जायेंगे वंचित: प्रेम शाही

बीजेपी में क्यों नहीं जाना चाहते ?

ये पूछे जाने पर कि आप बीजेपी में क्यों नहीं जाना चाहते. बीजेपी में आप विधायक, मंत्री रह चुके हैं- इस सवाल पर प्रदीप यादव ने कहा, ”वह पुरानी बात है. जल, जंगल जमीन के सवाल पर लड़ाई और झारखंड के नौजवानों को रोजगार दिलाना, झारखंडी हक अधिकार की बात करना हमारी राजनीति का आधार है.

अडानी के खिलाफ लड़ाई लड़ी. आदिवासी, दलित, अकलीयत, पिछड़े हमें चुनते हैं. ये मुद्दे बीजेपी की प्राथमिकता में नहीं हैं. हम अपने वोटरो से गद्दारी नहीं कर सकते.

इसे भी पढ़ेंः #Shabana_Azmi की कार ट्रक से जा टकरायी,  गंभीर रूप से घायल अभिनेत्री अस्पताल में भर्ती

इसे भी पढ़ेंः 19 जनवरी को आम लोगों के लिए खुला रहेगा पतरातू रिजॉर्टः रामगढ़ डीसी

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close