BokaroJharkhand

गोमिया में सात किमी तक चारपाई से कंधे पर ले गये मरीज, नहीं आया 108 नं का सरकारी एंबुलेंस

Gomia: बोकारो जिला अंतर्गत गोमिया प्रखंड के सुदूरवर्ती गांव सिमराबेड़ा में एक महिला मरीज को चारपाई पर इलाज के लिए ले जाने का मामला प्रकाश में आया है.

आरोप है कि महिला के रिश्तेदारों ने 108 एंबुलेंस सर्विस पर कॉल किया था. जिसमें कॉल सेंटर ऑपरेटर ने बताया कि मोबाईल बंद नहीं रखें आधे घंटे में एंबुलेंस लोकेशन पर उपलब्ध होगा. लेकिन तीन घंटे के बाद भी वाहन नहीं आया. महिला का पति किसान है. सात किमी तक चलने के बाद तिसकोपी गांव से एक प्राईवेट वाहन के जरिये महिला को हजारीबाग सदर अस्पताल ले जाया गया.

इसे भी पढ़ेंः BJP का इंटरनल सर्वे : 20 सीटिंग MLA का कट सकता है टिकट, 12 पर कांटे की टक्कर, 9 सुरक्षित

क्या कहते हैं पीड़िता के रिश्तेदार और गांव वाले

सिमराबेड़ा में पीड़ित महिला के रिश्तेदारों और आस-पास के लोगों ने बताया कि शनिवार की देर रात छोटेलाल किस्कू की पत्नी छोटकी देवी (36) की तबीयत अचानक ख़राब हो गयी. उसने अपने भाई नरेश किस्कू, महेश किस्कू, सुखदेव किस्कू, भतीजा सुरेश किस्कू, अनिल किस्कू पड़ोसी मनोज कुमार महतो, महेंद्र महतो, चमेली देवी को इस बारे में जानकारी दी. सुबह होने का इंतजार करने लगे.

हालत और खराब होने पर कुछ रास्ता न दिखा तो लोगों ने अहले सुबह साढ़े तीन बजे छोटकी देवी को चारपाई पर ही झुमरा ले जाने का फैसला किया. झुमरा से वाहनों का आवागमन संभव है. वहां तक पैदल 7 किलोमीटर की दूरी पैदल तय की गयी. सुबह 9 बजे झारखंड सरकार के 108 एम्बुलेंस सर्विस को फोन किया. विभाग ने आधे घंटे तक इंतजार करने को कहा. लेकिन तीन घंटे से ज्यादा का वक्त गुजर जाने के बाद भी वाहन नहीं आया.

इसे भी पढ़ेंः रामेश्वर उरांव बने कांग्रेस के झारखंड प्रदेश अध्यक्ष, पांच कार्यकारी अध्यक्ष भी बनाये गये

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: