Bihar

#NPR के प्रारूप के नये कॉलम से नीतीश कुमार को आपत्ति, कहा-इससे भ्रम पैदा होगा, पहले का मापदंड ही सही

Patna: बिहार में बीजेपी के सहयोगी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने नैशनल पॉपुलेशन रजिस्टर (एनपीआर) को लेकर बड़ा बयान दिया है. मंगलवार को एक कार्यक्रम में उन्होंने कहा, एनआरसी को लेकर उनका स्टैंड क्लियर है लेकिन एनपीआर को लेकर जो मापदंड तैयार किए गए हैं उसे ही आगे बढ़ाने की जरूरत है.

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि उनकी पार्टी जनता दल (यू) केंद्र में नरेंद्र मोदी सरकार से राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (एनपीआर) के प्रारूप में जोडे़ गए नए कॉलम को हटाए जाने का आग्रह करेगी जिसे लेकर भ्रम की स्थिति है.

इसे भी पढ़ेंःदेशद्रोह का आरोपी शरजील इमाम को पटना से लेकर दिल्ली रवाना हुई पुलिस, खुलेंगे राज

‘नये कॉलम से भ्रम का माहौल बनेगा’

जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश ने कहा कि हमें लगता है कि नए कॉलम को लेकर भ्रम का माहौल पैदा होगा जैसे कि माता-पिता का जन्म कहां और किस दिन हुआ? यह कोई जरूरी जानकारी नहीं है. गरीब लोगों के पास तो यह जानकारी है ही नहीं.

advt

इसको देखते हुए हम लोगों की अपनी राय है कि नए जोड़े गए कॉलम की कोई आवश्यक्ता नहीं है और हमारी पार्टी की ओर से लोकसभा और राज्यसभा दोनों सदनों में जदयू संसदीय दल के नेता हैं इस पर बात करेंगे.

नीतीश ने कहा कि एनपीआर पहले के मापदंड के अनुसार किया जाना चाहिए. जो अनावश्यक माहौल पैदा हो गया है वह ठीक बात नहीं है. समाज में किसी तरह की कटुता और लोगों के मन में किसी प्रकार के भ्रम और भय का भाव पैदा नहीं हो, इस बात का ख्याल रखा जाना चाहिए.

‘गलतफहमियों को जल्द दूर करना जरूरी’

मुख्यमंत्री अपने पटना स्थित आवास पर जदयू सांसदों, विधायकों और पार्टी की बिहार इकाई के पदाधिकारियों के साथ बैठक के बाद यहां पत्रकारों से बात कर रहे थे. इस बैठक में जदयू के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर और राष्ट्रीय महासचिव पवन वर्मा जैसे शीर्ष असंतुष्ट नेता अनुपस्थित थे.

नीतीश ने नागरिकता संशोधन अधिनियम के लागू होने से देश भर में ‘अशांति’ पैदा होने की बात स्वीकारते हुए उम्मीद जतायी कि इसको लेकर गलतफहमियों को दूर किया जाएगा.

इसे भी पढ़ेंःCAA-NRC के विरोध में फिर भारत बंद, जंतर मंतर पर होगा प्रदर्शन

उन्होंने कहा कि वे पहले भी कह चुके हैं कि पूरे देश में एनआरसी का सवाल ही नहीं उठता है और प्रधानमंत्री का भी बयान आया है कि ऐसी कोई बात नहीं है.

राजद्रोह के आरोपी सीएए विरोधी कार्यकर्ता शरजील इमाम, जिसे जहानाबाद जिले के काको थाना क्षेत्र स्थित उसके पैतृक घर से दिल्ली पुलिस ने स्थानीय पुलिस के सहयोग से गिरफ्तार किया है, के बारे में पूछे जाने पर नीतीश ने कहा कि किसी ने जो कुछ भी कहा है, गलत कहा है तो उस पर कानूनी तौर पर कार्रवाई बनती है. इन दिनों जो एक बात चल रही है, माहौल को सामान्य किया जाना चाहिए.

प्रशांत किशोर बैठक में नहीं हुए शामिल

चुनाव रणनीतिकार से राजनीति में आए प्रशांत किशोर के बारे में नीतीश ने कहा “उनके कई लोगों के साथ संबंध हैं. मैंने पहले भी कहा है, हमने उन्हें अमित शाह के कहने पर पार्टी में शामिल किया.” इससे पहले, राज्यसभा सदस्य जदयू के प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह ने कहा कि पार्टी लाइन को धता बताने वालों को महत्व नहीं दिया जाना चाहिए.

पवन और प्रशांत की अनुपस्थिति के बारे में पूछे जाने पर वशिष्ठ ने स्पष्ट किया “पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष द्वारा यह राज्य के नेताओं की एक बैठक बुलाई गई है”.

बिहार विधानसभा चुनाव में एक साल से भी कम समय रह गया है . बिहार में जदयू के साथ सत्ता में शामिल भाजपा, नीतीश के नेतृत्व में राजग के यह चुनाव लडने की घोषणा पहले ही कर चुकी है.

इसे भी पढ़ेंः#Dhullu से रंगदारी मांगने के आरोपी ने उनके करीबी धर्मेंद्र गुप्ता पर लगाया हत्या की धमकी देने का आरोप

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: