BiharNational

देशद्रोह का आरोपी शरजील इमाम को पटना से लेकर दिल्ली रवाना हुई पुलिस, खुलेंगे राज

Patna: देशद्रोह के मामले में बिहार के जहानाबाद से गिरफ्तार जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) छात्र शरजील इमाम को बुधवार को दिल्ली लाया जा रहा है.

मंगलवार को गिरफ्तारी के बाद दिल्ली पुलिस ने शरजील को ट्रांजिट रिमांड पर लिया था, लेकिन प्रक्रिया में देर होने की वजह से उसे दिल्ली नहीं लाया जा सका.

इसे भी पढ़ेंःCAA-NRC के विरोध में फिर भारत बंद, जंतर मंतर पर होगा प्रदर्शन

देर रात उसे पटना के महिला थाने में रखा गया था. शरजील को लेकर दिल्ली पुलिस बुधवार सुबह पटना एयरपोर्ट पहुंची. जहां से उसे लेकर दिल्ली रवाना होगी.

पटना एयरपोर्ट पर मीडियाकर्मियों की पिटायी

इधर पटना एयरपोर्ट पर मीडियाकर्मियों की भीड़ लग गयी. खबर है कि इस दौरान मीडियाकर्मियों की पिटाई भी की गयी. जिसमें एएनआइ के कैमरामैन को भी चोट आयी है.

इसे भी पढ़ेंःशरजील ने कन्हैया कुमार से ज्यादा खतरनाक बयान दिया है: शाह

गौरतलब है कि नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) विरोधी कार्यकर्ता शरजील इमाम को मंगलवार को बिहार के जहानाबाद जिले से पुलिस ने गिरफ्तार किया था. शरजील कथित तौर पर भड़काऊ भाषण देने के मामले में देशद्रोह का मामला दर्ज किये जाने के बाद से फरार था. शरजील को जहानाबाद अदालत में पेश किया गया जिसने उसे ट्रांजिट रिमांड पर दिल्ली पुलिस को सौंप दिया.

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के पीएचडी छात्र शरजील की उत्तर प्रदेश, असम, मणिपुर, अरुणाचल प्रदेश और दिल्ली समेत अनेक राज्यों की पुलिस तलाश कर रही थी.

जहानाबाद के पुलिस अधीक्षक (एसपी) मनीष कुमार ने कहा कि कोको पुलिस थाना क्षेत्र से गिरफ्तार इमाम को मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट आर के रजक की अदालत में पेश किया गया जहां से उसे 36 घंटे के लिए ट्रांजिट रिमांड पर दिल्ली पुलिस को सौंप दिया गया.

भड़काऊ भाषण देने का आरोपी शरजील

आइआइटी मुंबई से कम्प्यूटर साइंस में स्नातक इमाम जेएनयू के इतिहास अध्ययन केंद्र से पीएचडी करने के लिए दिल्ली चला गया था.

सोशल मीडिया पर उसके कथित भड़काऊ भाषण का वीडियो वायरल होने के बाद उस पर मामला दर्ज किया गया था. कथित वीडियो में उसे असम और पूर्वोत्तर को शेष भारत से काटने की बात करते सुना गया था.

उसे वीडियो में कहते सुना गया, ‘‘अगर पांच लाख लोग संगठित हो जाएं तो हम पूर्वोत्तर और भारत को स्थाई तौर पर काट सकते हैं. अगर ऐसा नहीं तो कम से कम एक महीने या आधे महीने के लिए ही सही. रेल पटरियों और सड़कों पर इतना मवाद डाल दो कि वायु सेना को इसे साफ करने में एक महीना लग जाए.’’

शरजील वीडियो में कह रहा है, ‘‘असम को (शेष भारत से) काटना हमारी जिम्मेदारी है, तभी वे (सरकार) हमारी बात सुनेंगे. हम असम में मुसलमानों की स्थिति जानते हैं. उन्हें डिटेंशन कैंपों में रखा जा रहा है.’’

इस बीच इमाम की गिरफ्तारी पर प्रतिक्रिया देते हुए बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि लोगों को प्रदर्शन करने का अधिकार है, लेकिन कोई देश के टुकड़े करने की बात नहीं कर सकता.

उन्होंने संवाददाताओं से कहा कि पुलिस को इमाम को गिरफ्तार करने में कानून के अनुसार कार्रवाई करनी चाहिए और अब अदालतें उचित कार्रवाई करेगी.

इसे भी पढ़ेंः#Dhullu से रंगदारी मांगने के आरोपी ने उनके करीबी धर्मेंद्र गुप्ता पर लगाया हत्या की धमकी देने का आरोप

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: