न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

अब 14 मई को होगी जगरनाथ महतो केस की हाईकोर्ट में सुनवाई, 12 मई को है गिरिडीह लोकसभा का मतदान

तेनुघाट की निचली अदालत में जगरनाथ महतो ने उनपर किए गए आरोप गठन को चुनौती दी थी, जिसे खारिज कर दिया गया था.

1,473

Ranchi: जगरनाथ महतो के केस की सुनवाई बुधवार को हाईकोर्ट में हुई. सुनवाई करते हुए जज अमिताभ कुमार गुप्ता की खंडपीठ ने सुनवाई की अगली तारीख 14 मई दी है. साथ ही अगली सुनवाई होने तक तेनुघाट कोर्ट की सुनवाई पर स्टे लगा रहेगा.

दरअसल डुमरी विधानसभा में एक मशाल जुलूस निकालने के दौरान पुलिस सब इंस्पेक्टर रामचंद्र राम की मौत हो गई थी. इसके बाद उनके खिलाफ हत्या का मामला दर्ज किया गया था. तेनुघाट की निचली अदालत में जगरनाथ महतो ने उनपर किए गए आरोप गठन को चुनौती दी थी, जिसे खारिज कर दिया गया था.

इसके खिलाफ उन्होंने हाईकोर्ट ने याचिका दायर की थी. जिस पर 10 जनवरी को सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने निचली अदालत की कार्यवाही पर रोक लगा दी.

उसके बाद से ही लगातार तेनुघाट कोर्ट की सुनवाई पर रोक लगी हुई है. लेकिन अब जेएमएम की ओर से आधिकारिक रूप से घोषणा कर दी गयी है कि जगरनाथ महतो ही गिरिडीह लोकसभा सीट से उम्मीदवार हैं. गिरिडीह लोकसभा के लिए मतदान 12 मई को होना है.

16 अप्रैल से नामांकन शुरू होगा. 24 अप्रैल को नामांकन पत्रों की जांच होगी और 26 अप्रैल तक नाम वापसी हो सकेगी.

इसे भी पढ़ें – जिस जमीन खरीद मामले में हेमंत पर बीजेपी लगाती है आरोप, उसी मामले में जांच से बीजेपी सरकार ने खींच…

चंद्रप्रकाश चौधरी और जगरनाथ महतो के बीच नॉक-ऑउट

जगरनाथ महतो का नाम क्लियर होने के बाद गिरिडीह लोकसभा सीट पर अब सीधी टक्कर जगरनाथ महतो और चंद्र प्रकाश चौधरी के बीच है. चंद्र प्रकाश चौधरी रामगढ़ से विधायक हैं. राज्य सरकार में मंत्री के पद पर हैं और एक बार हजारीबाग से सांसद का चुनाव 2009 में लड़ चुके हैं.

हालांकि वो यह चुनाव बुरी तरह हार गए थे. गिरिडीह लोकसभा क्षेत्र में वो कुछ दिनों से सक्रिय राजनीति कर रहे हैं. वहीं जगरनाथ महतो एक बार 2014 में गिरिडीह लोकसभा सीट से चुनाव लड़ चुके हैं.

SMILE

उन्होंने मोदी लहर के बावजूद बीजेपी के रवींद्र पांडे को कड़ी टक्कर दी थी. सबसे ज्यादा गौर करनेवाली बात यह है कि दोनों उम्मीदवार कुड़मी जाति से हैं. गिरिडीह लोकसभा क्षेत्र में इस जाति विशेष के लोगों की संख्या सबसे ज्यादा है.

लिहाजा दोनों के टारगेट में इसी जाति के वोटर हैं. गिरिडीह लोकसभा की राजनीति को समझने वालों का कहना है कि यह चुनाव काफी दिलचस्प होने वाला है. जीत या हार तो बाद की बात है. लेकिन उससे पहले भी इस लड़ाई में काफी रोमांच आने वाला है.

इसे भी पढ़ें – रंगदारों ने पुल निर्माण कार्य स्थल पर की बमबारी, दहशत में ग्रामीण

कुड़मी उम्मीदवार को दे चुके हैं पटखनी, तीन बार से डुमरी से विधायक

जगरनाथ महतो 2005 से लगातार तीसरी बार डुमरी से विधायक हैं. उन्होंने तीनों बार महतो उम्मीदवार को ही हराकर जीत हासिल की है. 2005 में राजद के टिकट से लड़ रहे लालचंद महतो को 18,010 वोट, 2009 में जदयू के टिकट से लड़ रहे दामोदर प्रसाद महतो को 13,668 वोट और 2014 में बीजेपी के टिकट से लड़ रहे लालचंद महतो को 32,481 वोट से हराया था.

वहीं लोकसभा चुनाव की बात की जाए तो 2014 में बीजेपी के टिकट से लड़ रहे रवींद्र कुमार पांडेय ने जगरनाथ महतो को 40,313 वोट से हराया था. लेकिन इस बार बीजेपी ने गिरिडीह से अपना लोकसभा उम्मीदवार नहीं उतारा है.

इसे भी पढ़ें – झारखंड में लोकसभा चुनाव कराने में खर्च होंगे 177 करोड़ रुपये

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: