न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

News Wing Impact: सीएस ने सीएम को कोयला चोरी व लचर बिजली व्यवस्था की दी जानकारी, वितरण निगम के एमडी तलब

मामले को लेकर मुख्यमंत्री रघुवर दास के साथ बैठक शुरू

1,019

Ranchi: मुख्य सचिव डीके तिवारी ने मुख्यमंत्री रघुवर दास को प्रदेश में हो रहे कोयला चोरी और लचर बिजली व्यवस्था की जानकारी दी.

mi banner add

इसके बाद सीएम ने वितरण निगम के एमडी राहुल पुरवार, रांची जीएम संजय कुमार सहित वरीय पदाधिकारियों को तलब किया. सोमवार को दिन के 11 बजे से बैठक शुरू हो गई है.

वहीं न्यूज विंग द्वारा जब्त पेलोडर से कोयला लोडिंग की खबर प्रकाशित करने के बाद मुख्य सचिव ने मामले को गंभीरता से लिया था. इसके बाद खान सचिव, उद्योग सचिव व सीसीएल के पदाधिकारियों के साथ बैठक भी की थी.

सूत्रों के अनुसार, हजारीबाग के डीसी और एसपी से भी इस मामले की रिपोर्ट मांगी जायेगी. वहीं प्रदेश की खास्ताहाल बिजली व्यवस्था के मामले को भी सरकार ने गंभीरता से लिया है.

इसे भी पढ़ेंःकोयले का काला खेलः जब्त कोयले की लोडिंग के लिए पकड़े गये पेलोडर का इस्तेमाल

बिजली के 750 करोड़ की योजनाओं की मांगी है जानकारी

प्रदेश में सुदृढ़ बिजली व्यवस्था के लिये 750 करोड़ की आइपीडीएस योजना की सीएम ने जानकारी मांगी है. अंडर ग्राउंड केबलिंग का काम अब तक पूरा क्यों नहीं हुआ. इसका भी जवाब बिजली वितरण निगम से मांगा गया है.

Related Posts

नाराज प्रदीप बलमुचु का डॉ अजय पर निशाना, कहा- ‘परोसी हुई थाली मुंह में नहीं ले सके’

खूंटी संसदीय सीट पर चुनाव नहीं लड़ सके पूर्व प्रदेश अध्यक्ष ने जाहिर की अपनी नाराजगी

स्कॉडा सिस्टम रांची, जमशेदपुर और धनबाद में शुरू होना था, वह अब तक शुरू नहीं हो पाया है. इस पर भी एमडी से जवाब मांगा गया है. टीवीएनएल की स्थिति और ट्रांसफॉरमरों की क्षमता की रिपोर्ट भी मांगी गई है.

इसे भी पढ़ेंःफिर शुरु हुआ जामताड़ा के मिहिजाम के रास्ते हर रात 25 ट्रक अवैध कोयला पार कराने का कारोबार

इन सवालों का जवाब देना होगा एमडी को

  • प्रदेश में बिजली की कटौती क्यों?
  • कब तक होता रहेगा मेनटेनेंस?
  • पावर की खरीद कितनी बढ़ी?
  • पुराने और जर्जर तार बदलने में कितना समय लगेगा?
  • अंडरग्राउंड केबलिंग पॉलीकैब कब हैंडओवर करेगी?
  • कितनी बिजली खरीद रहे हैं, इसका भी जबाव देना होगा?
  • सिस्टम की पूरी जानकारी भी सीएमओ ने मांगी है?

इसे भी पढ़ेंःबिजली आपूर्ति बदतर होने के सबूत: चार सालों में औद्योगिक इकाइयों में प्रतिमाह 1.10 लाख लीटर डीजल की बढ़ी खपत

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: