JamtaraJharkhandTODAY'S NW TOP NEWS

फिर शुरु हुआ जामताड़ा के मिहिजाम के रास्ते हर रात 25 ट्रक अवैध कोयला पार कराने का कारोबार

Saurabh Singh

Ranchi : जामताड़ा के मिहिजाम थाना क्षेत्र के रास्ते अवैध कोयला कारोबार फिर से शुरु हो गया है. पश्चिम बंगाल से चोरी करके कोयला जामताड़ा के रास्ते बिहार पहुंचाया जाता है. आसनसोल इलाके में चुनाव के दौरान कारोबार बंद हो गया था.

पक्की सूचना है कि 6 मई से दोबारा शुरु कर दिया गया है. पश्चिम बंगाल में इस अवैध धंधे का मास्टरमाइंड का नाम गजेंद्र सरदार और लाला है, जबकि झारखंड में इस काम को अल्ला रक्खा समेत एक-दो अन्य देख रहा है.

ram janam hospital
Catalyst IAS

पश्चिम बंगाल में इस अवैध धंधे को कथित रुप से वहां के सत्ता शीर्ष पर बैठे व्यक्ति के रिश्तेदार का संरक्षण हासिल है. झारखंड से कोयला लदे ट्रकों को पार कराने का काम जामताड़ा पुलिस की संरक्षण में चल रहा है.

The Royal’s
Pushpanjali
Sanjeevani
Pitambara

इसे भी पढ़ें – जामताड़ा : कोयला जब्त हुआ, गिरफ्तारी का आदेश भी, खुला घूम रहा माफिया, अवैध कारोबार फिर से शुरु

सीएम के कोयला चोरी वाले बयान पर लेते हैं चटकारे

यहां उल्लेखनीय है कि चुनावी रैलियों में झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास यह आरोप लगाते रहे हैं कि पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्री का रिश्तेदार कोयला चोरी करवाता है. लोग सवाल उठाते हैं कि क्या मुख्यमंत्री को इस बात की जानकारी नहीं है कि उनके राज्य का पुलिस भी उस कोयला चोरी में लिप्त है.

या जानकारी रहने के बाद भी अफसरों के सिंडिकेट के आगे मुख्यमंत्री के गृह एवं कारा विभाग ने कार्रवाई क्यों नहीं करायी. ऐसे में मुख्यमंत्री का कोयला चोरी को लेकर दिये गये बयान को लोग चटकारे लेकर चर्चा करते हैं.

उल्लेखनीय है कि इससे पहले भी न्यूज विंग ने जामताड़ा जिला के मिहिजाम थाना क्षेत्र से अवैध कोयला लदे ट्रक को बिहार भेजने की खबरें दी हैं. स्थानीय अखबारों ने भी मिहिजाम में अवैध कोयला भंडारण किये जाने की खबरें प्रकाशित की हैं. मीडिया में खबरें आने के बाद दो-तीन दिन कोयला का अवैध कारोबार बंद हो जाता है और फिर से शुरु हो जाता है.

इसे भी पढ़ें – सीसीएल, रेलवे, पुलिस व ट्रांसपोर्टरों के सिंडिकेट ने 36 हजार टन जब्त कोयला पावर कंपनियों को भेजा

Related Articles

Back to top button