BusinessLead NewsNationalTOP SLIDER

नरेंद्र मोदी की संपत्ति 22 लाख रुपये बढ़ी, जानें कितने के मालिक हैं PM, कहां करते हैं इंवेस्ट

अपने कई मंत्रियों की तरह शेयर बाजार में पैसे लगाने का जोखिम नहीं लेते हैं मोदी

New Delhi : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की संपत्ति में इजाफा हुआ है. आधिकारिक आंकड़ों और नई घोषणा के अनुसार, पीएम मोदी की कुल संपत्ति में 22 लाख रुपये की वृद्धि हुई है. उनकी कुल संपत्ति 3.07 करोड़ रुपये हैं. पिछले साल यह कुल 2.85 करोड़ रुपये थी. पीएम मोदी के पास अपने कई मंत्रियों की तरह शेयर बाजार का जोखिम नहीं है.

इसे भी पढ़ें :शराब के नशे में कोमल के साथ कर रहा था जबरदस्ती, विरोध करने पर ओढ़नी से गला घोंटा

कहां पैसा लगाया है पीएम ने

प्रधानमंत्री के पास 8.9 लाख रुपये का राष्ट्रीय बचत प्रमाणपत्र है. इसके अलावा उनके पास 1.5 लाख रुपये की जीवन बीमा पॉलिसियां और एलएंडटी इन्फ्रास्ट्रक्चर के बॉन्ड हैं. उन्होंने 2012 में 20,000 रुपये में इसे खरीदा था.
पीएम मोदी के धन में वृद्धि मुख्य रूप से भारतीय स्टेट बैंक की गांधीनगर शाखा में उनके सावधि जमा के कारण हुई है. पीएम मोदी द्वारा की गई घोषणा के अनुसार, सावधि जमा राशि 31 मार्च को 1.86 करोड़ थी, जबकि पिछले साल यह 1.6 करोड़ रुपये थी.

advt

इसे भी पढ़ें :जानें कौन है यंग IFS अफसर स्नेहा जिसने UN में कश्मीर मुद्दे पर इमरान की बोलती बंद की

खुद का कोई वाहन नहीं है, 36,000 रुपये नकद हैं

पीएम मोदी के पास कोई वाहन नहीं है. उसके पास 1.48 लाख की चार सोने की अंगूठियां हैं. 31 मार्च, 2021 को उनका बैंक बैलेंस 1.5 लाख रुपये था और हाथ में 36,000 रुपये की (पिछले साल की तुलना में कम) नकदी है.

adv

इसे भी पढ़ें :करीम सीटी शिक्षा संकाय में सूक्ष्म शिक्षण कार्यशाला का समापन

पीएम बनने के बाद नहीं खरीदी है कोई नई संपत्ति

2014 में पीएम बनने के बाद से मोदी ने कोई नई संपत्ति नहीं खरीदी है. 2002 में खरीदी गई उनकी एकमात्र आवासीय संपत्ति का मूल्य 1.1 करोड़ रुपये है. यह एक संयुक्त संपत्ति है और इसमें पीएम का केवल एक-चौथाई हिस्सा है. कुल 14,125 वर्ग फुट संपत्ति में से 3,531 वर्ग फुट पर पीएम मोदी का अधिकार है.

इसे भी पढ़ें :UPSC 2020 Results: सिविल सेवा परीक्षा में हजारीबाग के उत्कर्ष को 55वां स्थान

केंद्रीय मंत्रियों को स्वेच्छा से संपत्ति और देनदारियों की करनी है घोषणा

प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के कार्यकाल के दौरान, सरकार ने निर्णय लिया था कि सार्वजनिक जीवन में अधिक पारदर्शिता के लिए सभी केंद्रीय मंत्रियों को प्रत्येक वित्तीय वर्ष के अंत में स्वेच्छा से अपनी संपत्ति और देनदारियों की घोषणा करनी होगी. घोषणाएं सार्वजनिक डोमेन में उपलब्ध हैं और इसे पीएम की वेबसाइट के माध्यम से एक्सेस किया जा सकता है.

इसे भी पढ़ें :टाटा स्टील के ठेकाकर्मी ने वेतन नहीं मिलने से क्षुब्ध ट्रेन से कटकर जान दी, परिजनों ने किया हंगामा

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: