NEWS

#Lockdown से 3 मई के बाद मिलेगी राहत? कई राज्य नहीं उठाना चाहते रिस्क, लॉकडाउन बढ़ाने की मांग

New Delhi: देश में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों के बीच लॉकडाउन का दूसरा काल 3 मई को समाप्त हो रहा है. लेकिन कोरोना के बढ़ते केस के बीच सवाल उठ रहे हैं कि क्या 3 मई के बाद देश में लॉकडाउन हटा दिये जायेंगे. हालांकि, कई राज्य फिलहाल इसे हटाने के पक्ष में नहीं दिख रहे.

कोरोना पर बनी दिल्‍ली सरकार की कमिटी ने एक दिन पहले कहा था कि राष्‍ट्रीय राजधानी में 16 मई तक लॉकडाउन बढ़ाना पड़ेगा. उसके बाद, शनिवार को पांच और राज्‍यों ने कहा कि वे अपने यहां हॉटस्‍पॉट्स में 3 मई के बाद भी लॉकडाउन रखना चाहते हैं.

इसे भी पढ़ेंःदेश में 26 हजार से ज्यादा लोग कोरोना की चपेट में, 824 की गयी जान, 24 घंटे में 1990 नये मामले

advt

कई राज्य लॉकडाउन बढ़ाने के पक्षधर

अब तक किसी भी राज्य ने तीन मई के बाद लॉकडाउन हटाने की बात नहीं कही है. वहीं राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली समेत महाराष्‍ट्र, मध्‍य प्रदेश, पंजाब, पश्चिम बंगाल और ओडिशा ने लॉकडाउन आगे बढ़ाने की बात कही है. जबकि आंध्र प्रदेश, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, कर्नाटक, गुजरात और तमिलनाडु ने कहा कि वे लॉकडाउन को लकेर केंद्र सरकार के निर्देशों का पालन करेंगे। वहीं असम, केरल और बिहार की सरकार इस बारे में सोमवार को पीएम नरेंद्र मोदी की राज्‍यों/केंद्र शासित प्रदेशों के साथ होने वाली वीडियो कॉन्फ्रेंस के बाद फैसला लेना चाहते हैं।

तेलंगाना में 7 मई तक लॉकडाउन

बात करें तेलंगाना की तो इस राज्य ने पहले ही लॉकडाउन को आगे बढ़ा रखा है. तेलंगाना में 7 मई तक लॉकडाउन रहेगा, और राज्‍य सरकार लॉकडाउन खत्म होने के दो दिन पहले यानी 5 मई को इसके एक्‍सटेंशन पर फैसला लेगी।

महाराष्‍ट्र कोरोना से सबसे अधिक प्रभावित राज्य है. राज्य के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री राजेश टोपे लॉकडाउन बढ़ाना चाहते हैं. उनका कहना हैं कि यहां के कंटेनमेंट जोन्‍स में 18 मई तक लॉकडाउन जारी रहे। हालांकि इसपर पीएम के साथ चर्चा के बाद फैसला लिये जाने की बात उन्होंने कही है. महाराष्ट्र के 92 फीसदी कोरोना केस मुंबई और पुणे में हैं.

इसे भी पढ़ेंः#Covid-19 का कहर: दुनिया में दो लाख से ज्यादा लोगों की मौत, 28 लाख से अधिक संक्रमित

adv

राज्यों में अलग-अलग हो सकता है छूट का दायरा

खबर है कि केंद्र सरकार में विभिन्न स्तरों पर हो रही लगातार समीक्षा में लॉकडाउन को और आगे बढ़ाने के बारे में विचार हो रहा है. केंद्र के तहत काम कर रहे 11 विशेष समूह में भी कोरोना वायरस की स्थितियों की लगातार समीक्षा हो रही है। सूत्रों की मानें तो तीन मई के बाद विभिन्न राज्यों में अलग-अलग छूट का दायरा बढ़ाया जा सकता है और कोरोना मुक्त क्षेत्रों में गतिविधियों को सीमाओं के भीतर सामान्य करने की कोशिश की जाएगी। उम्मीद है कि कुछ क्षेत्रों को लॉकडाउन से मुक्त भी किया जा सकता है, लेकिन एक राज्य से दूसरे राज्य में मुक्त आवाजाही की संभावना फिलहाल नहीं है।

इधर आर्थिक मोर्चे पर हालात को नियंत्रण में रखने के लिए गृह मंत्रालय लगातार रियायतों की घोषणा कर रहा है जिससे लोगों की दिक्कत कम होने की संभावना है. आर्थिक गतिविधियों की शुरुआत होने से मजदूरों को कुछ राहत मिल सकती है। विभिन्न क्षेत्रों में दुकानों को खोलने से लोगों की दिक्कतें कम होंगी।

उल्लेखनीय है कि देश में कोरोना संक्रमण के केस 26 हजार के आंकड़े को पार कर गये हैं. और 824 लोगों की जान इस वायरस के कारण जा चुकी है. वहीं 5800 लोग स्वस्थ हुए हैं.

इसे भी पढ़ेंःLockdownEffect: देश के सबसे प्रदूषित शहर झरिया की साफ हुई हवा, प्रदूषण में 50 फीसदी तक आयी गिरावट

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button