National

#Lockdown में मीडिया कंपनियों पर आया संकट, घटा राजस्व, टेलीग्राफ बंद करेगा झारखंड और नॉर्थ ईस्ट से प्रकाशन

New Delhi: कोराना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए देश भर लगाये गये लॉकडाउन से अर्थव्यवस्था बुरी तरह से लड़खड़ा गयी है. कई कंपनियों ने कर्मचारियों की सैलरी में कटौती कर दी है और कईयों ने छंटनी की तैयारी कर ली है.

देश के मीडिया हाउस भी इससे अछूते नहीं हैं. किसी भी मीडिया हाउस को चलाने के लिए विज्ञापन जरूरी हैं औऱ पिछले दो महीने में अखबारों और टीवी चैनलों का विज्ञापन से मिलनेवाला राजस्व बुरी तरह गिरा है.

इसे भी पढ़ें – #Corona: कोडरमा से 11, सिमडेगा से 4, जमशेदपुर से 3 और रांची से 2 नये कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले, झारखंड का आंकड़ा हुआ 350

पीएचडी चैंबर ने जारी की रिपोर्ट

पीएचडी चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री ने एक रिसर्च रिपोर्ट जारी की है जिसमें यह कहा गया है कि कोविड-19 से सबसे बुरी तरह प्रभावित होनेवाले सेक्टरों में से मीडिया भी एक है. इस रिपोर्ट में कहा गया है कि मीडिया के विज्ञापन में बहुत ज्यादा कमी आयी है.

इसे भी पढ़ें – फेम इंडिया की “50 प्रभावशाली भारतीय 2020” की सूची में सीएम हेमंत 12वें स्थान पर, केजरीवाल व नीतीश को पछाड़ा, पीएम मोदी सर्वाधिक प्रभावशाली

टेलिग्राफ झारखंड में बंद करेगा पब्लिकेशन, 31 मई को अंतिम ईश्यू निकलेगा

देश के अग्रणी अंग्रेजी अखबारों में से एक द टेलीग्राफ ने झारखंड और नॉर्थ ईस्ट के अपने संस्करणों को बंद करने का फैसला किया है. इससे उसके 35 कर्मचारियों को नौकरी चली जायेगी. 31 मई को यहां का अंतिम ईश्यू प्रकाशिक होगा.

इस फैसले से गुवाहाटी, जमशेदपुर और रांची ब्यूरो के कर्मचारियों पर इसका असर पड़ेगा. टेलीग्राफ से जुड़े दर्जनों स्वतंत्र पत्रकारों पर भी इसका असर पड़ेगा.

20 मई को कर्मचारियों को फोन पर इस फैसले की जानकारी दी गयी है. उन्हें बताया गया है कि 31 मई को यहां के लिए अंतिम प्रकाशन होगा.

कर्मचारियों को तीन से नौ महीने तक की बेसिक सैलरी देने की बात कही गयी है. हालांकि उन्हें अभी तक कोई आधिकारिक मेल नहीं मिला है. यह फैसला उन्हें मौखिक तौर पर ही सुनाया गया है.

कंपनी के इस फैसले से झारखंड के 25 और नॉर्थ ईस्ट के 10 कर्मचारियों की नौकरी चली जायेगी.

एक कर्मचारी ने कहा कि उन्हें कहा गया है कि कंपनी में कैश की दिक्कत है, देशव्यापी लॉकडाउन के कारण इसका राजस्व काफी कम हो गया है.

इसे भी पढ़ें – #JPSC आंदोलनकारी उम्मीदवारों ने राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री को लिखा पत्र, 6ठी सिविल सेवा परीक्षा की त्रुटियों से कराया अवगत

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close