न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सवालों के घेरे में आधी आबादी की सुरक्षा, दो महीने में 226 रेप-नाबालिग हुईं ज्यादा शिकार

1,445

Saurav Singh

mi banner add

Ranchi: झारखंड में महिला सुरक्षा सवालों के घेरे में हैं. आधी आबादी की सुरक्षा के नाम पर झारखंड पुलिस और सरकार बड़े-बड़े दावे तो जरूर करती है. लेकिन हकीकत इस दावे से इतर है.

इसे भी पढ़ेंः चतरा संसदीय सीट: बड़ा सवाल क्या चतरा में फ्रैंडली मैच खेलेगी कांग्रेस या हटेगी पीछे?

आंकड़ें बताते हैं कि झारखंड में पिछले 2 महीने के दौरान 226 दुष्कर्म की घटनाएं हुई हैं. मिली जानकारी के अनुसार पिछले दो महीने के दौरान झारखंड में सबसे ज्यादा नाबालिग लड़कियों के साथ दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया गया. छेड़खानी,अपहरण और दुष्कर्म की घटनाओं के कारण लड़कियां दहशत में हैं.

इसे भी पढ़ेंः ‘आप’ को नहीं मिला ‘हाथ’ का साथः केजरीवाल ने कहा-राहुल ने गठबंधन से किया इनकार

हर साल बढ़ रही दुष्कर्म की घटनाएं 

झारखंड में युवतियों की सुरक्षा पर सवाल उठ रहे हैं. दरअसल गांवों-कस्बों से लेकर राजधानी रांची में स्कूल-कॉलेज की लड़कियों के साथ रेप और हत्या के खौफनाक मामले लगातार सामने आ रहे हैं. देखा जाए तो पिछले तीन साल की तुलना में हर साल दुष्कर्म के मामले पूरे झारखंड में बढ़ रहे हैं.

झारखंड पुलिस के क्राइम रिकॉर्ड के आंकड़े के अनुसार, साल 2015 में पूरे झारखंड में 1053 दुष्कर्म के मामले दर्ज किये गये. यानि 2015 के हर महीने 87.75 के अनुपात से दुष्कर्म की घटना हुई.

वहीं साल 2016 में पूरे झारखंड में एक 1109 दुष्कर्म के मामले दर्ज किए गए. यानी कि हर महीने 92.41 के अनुपात से दुष्कर्म की घटना हुई. जो साल 2015 की तुलना में 4.66% ज्यादा है.

2017 में पूरे झारखंड में 1251 दुष्कर्म के मामले दर्ज हुए. यानी कि हर महीने 104.25 के अनुपात से दुष्कर्म की घटना हुई, जो कि साल 2016 की तुलना में 2017 में 12.11% की बढ़ोतरी हुई.

इसे भी पढ़ेंःसुप्रीम कोर्ट ने गुजरात के तलाला विधानसभा उपचुनाव पर लगाई रोक, निर्वाचन आयोग को नोटिस

सबसे चौंकाने वाले आंकड़े तो साल 2018 के हैं. 2018 में 1393 दुष्कर्म की घटनाएं पूरे झारखंड में हुई. यानी 116.08 हर महीने का अनुपात रहा. 2017 की तुलना में 2018 में 11.83% दुष्कर्म की घटना में बढ़ोतरी हुई थी.

वहीं साल 2019 में फरवरी तक 226 दुष्कर्म की घटनाएं पूरे झारखंड में हुई यानी की 113 दुष्कर्म हर महीने का अनुपात रहा. हालांकि साल 2018 की तुलना में 2019 में फरवरी तक 3.08% दुष्कर्म की घटना में कमी आई है.

आदिवासी लड़कियां हो रही है सामूहिक दुष्कर्म का शिकार 

रिपोर्ट के मुताबिक सुदूर इलाकों में आदिवासी लड़कियां कथित सामूहिक दुष्कर्म की शिकार हो रही हैं. कई जगहों पर स्कूली छात्राओं के साथ गैंगरेप की घटनाएं सामने आई हैं. दुष्कर्म के बाद लड़कियों की हत्या भी कर दी जा रही है.

नाबालिग हो रहीं ज्यादा शिकार 

आंकड़ें कहते हैं कि दुष्कर्म जैसी हैवानियत की बच्चियां, नाबालिग लड़कियां ज्यादा शिकार हो रही हैं. पिछले 2 महीने के दौरान पूरे झारखंड में 226 दुष्कर्म की घटनाएं घटित हुई. इनमें से ज्यादातर दुष्कर्म की घटनाएं नाबालिग लड़कियों के साथ घटित हुई. दुष्कर्म की घटना का अंजाम देने वाले 5 साल की बच्ची को भी नहीं बख्श रहे हैं. झारखंड के शहरी क्षेत्र की तुलना में ग्रामीण क्षेत्र में नाबालिक लड़कियों के साथ दुष्कर्म होने की घटनाओं में बढ़ोतरी हुई है.

इसे भी पढ़ेंः पुलवामा मुठभेड़ में लश्कर के चार आतंकवादी ढेर, हथियार भी बरामद

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: